Sunday, March 3, 2024

रिटायर्ड चीफ जस्टिस गोगोई की राज्यसभा सदस्यता को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

संविधान के अनुच्छेद 80 (3) के तहत यह प्रावधान है कि साहित्य, विज्ञान, कला और समाज सेवा के संबंध में विशेष ज्ञान या व्यावहारिक अनुभव रखने वाले व्यक्ति राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा सदस्य के रूप में नामित किए जाएंगे। क्या पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई इस मापदंड को पूरा करते हैं, जिनका राज्यसभा में इस प्रावधान के तहत राष्ट्रपति ने मनोनयन किया है? यह सवाल याचिका के माध्यम से उच्चतम न्यायालय में उठाया गया है।  

संसद के उच्च सदन (राज्यसभा) में भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को संसद सदस्य के रूप में नामित करने को चुनौती देते हुए सामाजिक कार्यकर्ता और वकील सतीश एस. काम्बिये ने उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर की है। याचिका में गोगोई को राज्यसभा भेजने और उनकी योग्यता को लेकर सवाल उठाया गया है। याचिकाकर्ता ने रंजन गोगोई को क्यू वारंटो जारी करने की मांग की है। इसका अर्थ है कि जस्टिस रंजन गोगोई को मोदी सरकार ने किस आधार पर राज्यसभा में नामित किया है और इसके लिए गोगोई ने किन योग्यताओं को पूरा किया है? यानी याचिकाकर्ता ने गोगोई की राज्यसभा सदस्यता को ही चुनौती दी है।

याचिका में प्रतिवादी (गोगोई) के खिलाफ यथास्थिति वारंट जारी करने की मांग की गई है, जिसमें उन्हें यह दिखाने के लिए कहा गया है कि किस अधिकार, योग्यता और टाइटल के आधार पर वह संविधान के अनुच्छेद 80 (1) (ए) सहपठित अनुच्छेद (3) के तहत नामांकन द्वारा राज्यसभा की सदस्यता प्राप्त कर सकते हैं। संविधान के अनुसार जांच के बाद उन्हें राज्यसभा सदस्यता से हटा दिया जाए।

याचिका में यह भी मांग की गई है कि पूर्व मुख्य न्यायाधीश गोगोई के नामांकन के संबंध में अधिसूचना जैसा कि भारत के आधिकारिक राजपत्र – असाधारण- भाग II – खंड 3 – उप खंड (ii) में 16 मार्च 2020 को प्रकाशित किया गया है और अधिसूचना को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 71 के अनुसरण में प्रकाशित किया गया है, उसे भारत के राजपत्र में – असाधारण – भाग II – खंड 3 उप खंड (ii) को रद्द किया जा सकता है। पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई उच्च सदन में संसद के मनोनीत सदस्य (राज्यसभा) हैं। उन्हें भारत के आधिकारिक राजपत्र में प्रकाशित एक अधिसूचना द्वारा 16 मार्च 2020 को भारत के राष्ट्रपति द्वारा नामित किया गया था। जस्टिस गोगोई ने अक्टूबर, 2018 में बतौर सीजेआई अपनी नियुक्ति के बाद भारत के 46वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्य किया। वह 17 नवंबर, 2019 को सेवानिवृत्त हुए।

याचिका में कहा गया है कि संसद की वेबसाइट – काउंसिल ऑफ स्टेट्स पर उपलब्ध प्रतिवादी के बायोडाटा के अनुसार, उन्होंने कोई किताब नहीं लिखी है और न ही उन्हें श्रेय देने वाला कोई प्रकाशन है और सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों, साहित्यिक, कलात्मक और वैज्ञानिक उपलब्धियों और अन्य विशेष रुचियों में उनका योगदान शून्य है। कम से कम प्रतिवादी की वेबसाइट पर साहित्य, विज्ञान, कला और समाज सेवा के प्रति उसके विशेष ज्ञान या व्यावहारिक अनुभव के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है।

याचिकाकर्ता का कहना है कि राष्ट्रपति के पास अनुच्छेद 80 (1) (ए) के तहत राज्यसभा में बारह सदस्यों को नामित करने की शक्ति है, जो अनुच्छेद 80 (3) के अनुसार है, जिसमें यह प्रावधान है कि साहित्य, विज्ञान, कला और समाज सेवा के संबंध में विशेष ज्ञान या व्यावहारिक अनुभव रखने वाले व्यक्ति राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा सदस्य के रूप में नामित किए जाएंगे।

याचिका में जस्टिस गोगोई के नामांकन को गलत और अवैध बताया गया है, क्योंकि संविधान के अनुच्छेद 80 (1) (ए) सहपठित (3) के तहत नामांकन के लिए यह शर्त प्रतिवादी द्वारा पूरी नहीं की गई है। इसके अलावा प्रतिवादी के नामांकन के बाद, याचिकाकर्ता ने प्रतिवादी के नामांकन से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए सूचना का अधिकार अधिनियम, 2005 की धारा 6 के तहत 12 जून, 2020 को केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी, भारत के राष्ट्रपति, नई दिल्ली को आवेदन किया था।

याचिका में कहा गया है कि आरटीआई आवेदन गृह मंत्रालय, सीएस डिवीजन, भारत सरकार, नई दिल्ली को उनके विचार के लिए स्थानांतरित कर दिया गया था। याचिका में कहा गया कि याचिकाकर्ता को 24 जुलाई को प्राप्त उत्तर में उस सामग्री का कोई विवरण नहीं है जिस पर राष्ट्रपति ने प्रतिवादी की योग्यता का पता लगाने पर भरोसा किया हो।

याचिका में कहा गया है कि प्रथम दृष्ट्या, प्रतिवादी को साहित्य, विज्ञान, कला और सामाजिक सेवा के मामलों के संबंध में कोई विशेष ज्ञान या व्यावहारिक अनुभव नहीं है और इसलिए, वह अनुच्छेद 80 सहपठित (3) के तहत राज्य परिषद के सदस्य के रूप में नामित होने के योग्य नहीं है। उन्होंने पद/नामांकन एक प्रकार से हड़प लिया है, इसलिए, यह जरूरी है कि उन्हें राज्यसभा – संसद की सदस्यता से हटा दिया जाए।

याचिका उन मामलों पर भी निर्भर करती है जहां उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि नियुक्ति वैधानिक नियमों के विपरीत होने पर यथास्थिति वारंट जारी किया जा सकता है। याचिका में कहा गया है कि इस प्रकार यह मांग की जाती है कि राष्ट्रपति द्वारा किए गए नामांकन को अधिसूचित करने वाले भारत के आधिकारिक राजपत्र में प्रकाशित अधिसूचना के प्रभाव और संचालन को निलंबित करने के लिए स्थगन आदेश की प्रकृति में एक अंतरिम आदेश पारित किया जा सकता है। जस्टिस रंजन गोगोई 2018 में भारत के चीफ जस्टिस नियुक्त किए गए थे। वह देश के 46वें चीफ जस्टिस रहे। इसके बाद 17 नवंबर 2019 को सेवानिवृत्त हुए।

संविधान के मुताबिक साहित्‍य, विज्ञान, कला और समाज सेवा से जुड़े विशेष व्यक्ति को ही राज्यसभा में नियुक्त किया जा सकता है लेकिन रंजन गोगोई इनमें से किसी मानक को पूरा नहीं करते। रंजन गोगोई का साहित्य, कला, विज्ञान या समाज सेवा में कोई योगदान नहीं है। वो भारत के चीफ जस्टिस पद से रिटायर होते ही राज्यसभा भेज दिए गए। इसलिए उनकी योग्यता को लेकर याचिका में सवाल उठाया गया है।

जस्टिस रंजन गोगोई के राज्यसभा में नामित होते ही खूब बवाल हुआ था। उन पर ये आरोप भी लगा कि राफेल डील और राम मंदिर केस में फैसले के बदले में मोदी सरकार ने उन्हें राज्यसभा का तोहफा दिया है। इससे पहले रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न के भी गंभीर आरोप लगे थे लेकिन उच्चतम न्यायालय की कमेटी ने उन्हें क्लीन चिट दे दी थी।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

  

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles