अडानी मामले की मीडिया रिपोर्टिंग रोकने से SC का इनकार, फोर्ब्स लिस्ट में 33वें स्थान पर अडानी 

Estimated read time 1 min read

सुप्रीम कोर्ट (SC) ने अडानी-हिंडनबर्ग मामले पर मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगाने की मांग करने वाली याचिका को खारिज कर दिया। चीफ जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि हम मीडिया के खिलाफ कभी भी कोई निषेधाज्ञा जारी नहीं करने जा रहे हैं।

इस बीच हिंडनबर्ग रिसर्च की रिपोर्ट के चलते अडानी समूह के शेयर बाजार में लिस्टेड 10 कंपनियों के मार्केट कैप में 12.05 लाख करोड़ रुपये की कमी आ चुकी है।

अडानी ग्रुप के स्टॉक अपने 52-सप्ताह के उच्च स्तर से 84% तक गिरने के साथ, सभी 10 अडानी शेयरों का कुल बाजार पूंजीकरण एक महीने में 62% कम होकर 7.32 लाख करोड़ रुपये हो गया है। इसके साथ ही फोर्ब्स की सूची में अडानी 33वें नम्बर पर पहुंच गये हैं।

मीडिया कवरेज रोकने से SC इनकार

सुप्रीमकोर्ट में जब याचिकाकर्ता एम एल शर्मा ने यह कहते हुए अपने अनुरोध को दोहराया कि मीडिया सनसनी पैदा कर रहा है, तो चीफ जस्टिस ने दोहराया कि वाजिब बात कीजिए, मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगाने की बात मत कीजिए। उचित तर्क दें।

पिछले हफ्ते जस्टिस चंद्रचूड़ की अगुआई वाली पीठ ने अडानी-हिंडनबर्ग मामले में भारतीय निवेशकों की सुरक्षा के लिए नियामक तंत्र की समीक्षा के लिए एक विशेषज्ञ समिति के गठन पर सुनवाई पूरी कर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

पीठ ने प्रस्तावित समिति में शामिल करने के लिए सीलबंद लिफाफे में केंद्र सरकार द्वारा सुझाए गए नामों को स्वीकार करने से भी इनकार कर दिया था।

प्रधान न्यायाधीश की पीठ अडानी मामले में कई याचिकाओं पर एक साथ सुनवाई कर रही है। जिसमें दो याचिकाओं में हिंडनबर्ग के खिलाफ जांच के आदेश की मांग और दो याचिकाएं अडानी ग्रुप के खिलाफ जांच के आदेश की मांग के लिए दायर हैं।

हिंडनबर्ग रिपोर्ट का असर

24 जनवरी को जारी की गई हिंडनबर्ग के चलते अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। अडानी ग्रीन एनर्जी स्टॉक सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला स्टॉक है क्योंकि इसने अपने 52-सप्ताह के उच्च स्तर से अपने बाजार मूल्य का 84% खो दिया है।

इसी तरह अडानी ट्रांसमिशन और अडानी टोटल गैस के शेयर भी अपने 1 साल के उच्च स्तर से क्रमशः 83% और 81% नीचे हैं। शुक्रवार को दोनों शेयरों में 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा था।

अडानी एंटरप्राइजेज, जिसे स्टॉक रूट के मद्देनजर अपने 20,000 करोड़ रुपये के एफपीओ को वापस लेना पड़ा, अपने 52-सप्ताह के उच्च स्तर से 67% मूल्य खो चुकी है। अडानी पोर्ट्स के शेयर भी अपने 52-सप्ताह के उच्च स्तर से 43% टूट गए हैं और शुक्रवार को 559 रुपये पर कारोबार कर रहे थे।

मार्केट कैप में गिरावट जारी

अपनी ओर से अडानी समूह भी कुछ ऋणों का पूर्व भुगतान करके और अपनी बैलेंस शीट और व्यवसाय मॉडल की ताकत के बारे में बात करके निवेशकों को शांत करने की कोशिश कर रहा है। हालांकि, निवेशक आश्वस्त होते नहीं दिख रहे हैं।

एक महीने पहले 24 जनवरी 2023 को शेयर बाजार में लिस्टेड अडानी समूह की 10 कंपनियों का मार्केट कैप 19.2 लाख करोड़ रुपये था। जो शुक्रवार 24 फरवरी को बाजार के बंद होने के बाद केवल 7.16 लाख करोड़ रुपये रह गया है।

बीते वर्ष एक समय अडानी समूह की कंपनियों का मार्केट कैप 25 लाख करोड़ रुपये तक जा पहुंचा था। लेकिन बीते एक महीने में हर दिन कंपनी के मार्केट कैप में 52,300 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमी आई है।

अरबपतियों की सूची में 33वें स्थान पर अडानी

इस दौरान अडानी समूह के चेयरमैन गौतम अडानी दुनिया के अरबपतियों की सूची में तीसरे स्थान से 33 वें स्थान पर आ चुके हैं और उनके नेटवर्थ में 80 अरब डॉलर की कमी आ चुकी है, और अब उनका नेटवर्थ केवल 38.5 अरब डॉलर रह गया है। अडानी समूह के शेयर 85 फीसदी तक टूट चुके हैं।

मूडीज ने आउटलुक घटाया

हिंडनबर्ग के रिपोर्ट सामने आने के बाद रेटिंग एजेंसी मूडीज इंवेस्टर सर्विस ने अडानी समूह की कई कंपनियों के आउटलुक को घटा दिया था। रेटिंग एजेंसी का मानना है कि समूह को फंड जुटाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

अडानी समूह करेगा रोड शो

हिंडनबर्ग के रिपोर्ट के बाद कयास लगाया जा रहा है कि अडानी समूह को फंड जुटाने में दिक्कत आ सकती है। ऐसे में समूह ने सीधे निवेशकों से संपर्क करने का फैसला किया है, और निवेशकों का भरोसा जीतने के लिए एशियाई देशों में अडानी समूह फिक्स्ड इनकम रोड शो करने जा रहा है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक अडानी समूह 27 फरवरी को सबसे पहले सिंगापुर में रोड शो करेगा। उसके बाद 28 फरवरी और 1 मार्च को हांग कांग में ये रोड शो आयोजित किया जाएगा। इस रोड शो में समूह के चीफ फाइनेंशिएल ऑफिसर जुगेशिंदर सिंह और कॉरपोरेट फाइनेंस हेड अनुपम मिश्रा हिस्सा लेंगे।

इस रोड शो में हिस्सा लेने के लिए बार्कलेज पीएलसी, बीएनपी पारिबास एसए डौचे बैंक एजी, एमिरेट्स एनबीडी कैपिटल, आईएनजी ग्रुप एनवी, स्टैंडर्ड चार्टेड बैंक समेत कई दिग्गज वित्तीय संस्थाओं ने संभावित निवेशकों को न्यौता भेजा है ।

(जे.पी.सिंह वरिष्ठ पत्रकार और कानूनी मामलों के जानकार हैं)

You May Also Like

More From Author

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments