Sunday, March 3, 2024

किसान आंदोलन पर पीएम की खामोशी पर शरद पवार ने उठाए सवाल, कहा- क्या ये किसान पाकिस्तानी हैं!

“इस ठंडे मौसम में पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान पिछले 60 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। क्या प्रधानमंत्री ने इनके बारे में जानकारी ली? क्या ये किसान पाकिस्तान के रहने वाले हैं?” उपरोक्त बातें एनसीपी अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने कृषि कानूनों के खिलाफ आज मुंबई के आजाद मैदान में कहीं।

उनके अलावा महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष बाला साहेब थोराट और शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने भी किसान रैली को संबोधित किया। आज सुबह 11 बजे से मुंबई के आज़ाद मैदान में किसानों की बड़ी रैली आयोजित की गई। अखिल भारतीय किसान सभा और शेतकारी संगठन की तरफ से आयोजित रैली में बड़ी तादाद में किसानों ने भागेदारी की। इससे पहले कल 21 जिलों के हजारों किसानों का जत्था नासिक से मुंबई 180 किलोमीटर पैदल चलकर रैली में पहुंचा, जबकि मुंबई के स्थानीय किसानों ने हजारों की संख्या में आजाद मैदान पहुंचकर किसान कानूनों का विरोध किया।

राज्य सरकार में सहयोगी कांग्रेस की राज्य इकाई पहले ही इस रैली का समर्थन कर चुकी है। एआईकेएस ने कहा था कि विभिन्न इलाकों से किसान नासिक में जमा हुए और शनिवार को मुंबई के लिए रवाना हुए। यात्रा के दौरान रास्ते में और किसान जुड़े। बयान के मुताबिक मुंबई के लिए कूच करने वाले किसानों ने रात्रि विश्राम के लिए इगतपुरी के पास घाटनदेवी में पड़ाव डाला था। आज की रैली के बाद किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल राजभवन पहुंचा और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को ज्ञापन दिया।

रैली को लेकर ऑल इंडिया किसान सभा (एआईकेएस) के राष्ट्रीय प्रवक्ता अशोक धवले ने कहा था कि यह सम्मेलन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए दिल्ली की सीमा पर चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन करने के लिए बुलाया गया है। एनसीपी प्रमुख शरद पवार, राज्य कांग्रेस अध्यक्ष व राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट और पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे सहित वामपंथी दलों के नेता भी रैली हिस्सा लिया।

मुंबई के आज़ाद मैदान में आयोजित किसान रैली की सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि किसान रैली के मद्देनजर पुलिस ने दक्षिण मुंबई स्थित आजाद मैदान और उसके आसपास के इलाकों की सुरक्षा की विशेष तैयारी की है और राज्य रिजर्व पुलिस बल (एसआरपीएफ) के जवानों की तैनाती की गई है, इसके साथ ही ड्रोन का इस्तेमाल किया गया।

मुंबई के आज़ाद मैदान में आयोजित किसान रैली की सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि किसान रैली के मद्देनजर पुलिस ने दक्षिण मुंबई स्थित आजाद मैदान और उसके आसपास के इलाकों की सुरक्षा की विशेष तैयारी की है और राज्य रिजर्व पुलिस बल (एसआरपीएफ) के जवानों की तैनाती की गई है, इसके साथ ही ड्रोन का इस्तेमाल किया गया।

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles