Tuesday, April 16, 2024

संयुक्त किसान मोर्चा का फैसला-जारी रहेगा किसान आंदोलन, सरकार से बात करने के लिये 5 सदस्यीय समिति का गठन

संयुक्त किसान मोर्चा ने किसान आंदोलन की लंबित मांगों और भारत सरकार से औपचारिक प्रतिक्रिया की कमी पर चर्चा के लिए आज एक महत्वपूर्ण बैठक की। सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि भारत सरकार से औपचारिक और संतोषजनक प्रतिक्रिया प्राप्त होने तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा है कि जैसा कि ज्ञात है 19 नवंबर को 3 कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा करने के लिए प्रधानमंत्री के राष्ट्र के नाम संबोधन के तुरंत बाद, संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत के प्रधानमंत्री को 21 नवंबर को एक पत्र भेजा था। हालांकि भारत सरकार ने विरोध कर रहे किसानों द्वारा उठाए जा रहे मुद्दों पर अनौपचारिक रूप से और अंशतः काम करना चुना है।

“भारत के किसान संगठनों के पास अतीत से केवल मौखिक आश्वासन हासिल कर आंदोलन समाप्त करने का  कड़वा अनुभव है, जब उन्होंने पाया कि सरकारें अपने मौखिक आश्वासनों से भी पीछे हट जाती हैं। हम प्रत्येक मुद्दे पर औपचारिक आश्वासन के बिना इस आंदोलन को समाप्त नहीं करेंगे। हम चाहते हैं कि इस आंदोलन के तहत किसानों और उनके समर्थकों के खिलाफ लगाए गए सभी मामलों को वापस लिया जाए और इस तरह का औपचारिक आश्वासन दिया जाए”, एसकेएम नेताओं ने आज बैठक के बाद कहा।

आज की बैठक में, संयुक्त किसान मोर्चा ने लंबित मुद्दों को हल करने के लिए भारत सरकार के साथ बातचीत करने के लिए अशोक धवले, बलबीर सिंह राजेवाल, गुरनाम सिंह चढूनी, शिव कुमार कक्का जी और युद्धवीर सिंह की पांच सदस्यीय समिति का गठन किया। ज्ञात हो कि किसानों की छह लंबित मांगें हैं – सभी किसानों को उनके द्वारा बेचे जाने वाले किसी भी कृषि उपज के लिए लाभकारी एमएसपी प्राप्त करने के लिए कानूनी अधिकार; विद्युत संशोधन विधेयक 2020/2021 को वापस लेना; दिल्ली वायु गुणवत्ता विनियमन आयोग के गठन से संबंधित कानून की धारा 15 को हटाना, और चल रहे संघर्ष में उत्पन्न हुए 3 मुद्दे – दिल्ली हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, चंडीगढ़, महाराष्ट्र, राजस्थान, सहित विभिन्न राज्यों में विरोध कर रहे किसानों और उनके समर्थकों पर लगाए गए मामलों को वापस लेना शामिल हैं।

संयुक्त किसान मोर्चा ने सूचना दी है कि किसान आंदोलन के शहीदों, जिनकी संख्या अब लगभग 708 पहुँच गई है, के परिजनों के लिए पुनर्वास की व्यवस्था, और उनके लिए एक स्मारक बनाने के लिए भूमि आवंटन और लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड में न्याय के लिए अजय मिश्रा टेनी की गिरफ्तारी और बर्खास्तगी। यह 5-सदस्यीय समिति साथ में राज्य स्तरीय टीमों पर भी निर्णय करेगी, जिन्हें उपरोक्त कुछ मुद्दों पर राज्य सरकारों के साथ काम करना पड़ सकता है।

संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक अब 7 दिसंबर के लिए तय की गई है, जहाँ अगले दो दिन भारत सरकार को इस आंदोलन को उसके तार्किक निष्कर्ष पर ले जाने के लिए एसकेएम को जवाब देने और पांच सदस्यीय समिति के साथ काम करने के लिए दिया गया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने लंबित मुद्दों को हल करने के लिए भारत सरकार के साथ बातचीत करने के लिए अशोक धवले, बलबीर सिंह राजेवाल, गुरनाम सिंह चढूनी, शिव कुमार कक्का जी और युद्धवीर सिंह की पांच सदस्यीय समिति का गठन किया।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।) 

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles