Tuesday, March 5, 2024

तालिबान राजधानी काबुल से महज 50 किमी दूर, विदेशी एजेंसियों में अफरातफरी

तालिबान ने प्रांतीय राजधानी काबुल से 50 किमी दक्षिण में कब्जा कर लिया है’- ऐसा एएफपी ने स्थानीय अधिकारी के हवाले से सूचना दिया है। 

वहीं अमेरिकी खुफ़िया विभाग का कहना है कि आतंकवादी 30 दिनों में क़ाबुल पर क़ब्जा कर सकते हैं।

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि तालिबान द्वारा क़ाबुल पर क़ब्जा करना नागरिकों के लिए “विनाशकारी” होगा। साथ ही संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि – “हमें डर है कि सबसे बुरा अभी आना बाकी है।” 

जर्मनी ने काबुल में दूतावास के कर्मचारियों को कम करने के लिए, कर्मचारियों और सहायकों की वापसी की उड़ान पकड़ा दी है। 

वहीं फंसे हुये लोगों की निकासी शुरू करने के लिए अमेरिका 3,000 सैनिकों को वापस अफगानिस्तान भेज रहा है। तालिबान के देश भर में व्यापक प्रसार के साथ, अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि काबुल पर 30 दिनों में तालिबान का क़ब्जा हो सकता है।

काबुल में अमेरिकी दूतावास की स्थिति विदेश विभाग के मुताबिक कहीं अधिक भयावह है। मेल बंद हो गया है। लगभग सभी कर्मचारी पैकिंग कर रहे हैं और बहुत कम संख्या में दूसरे स्थान पर जाएंगे। संवेदनशील कागजात, कंप्यूटर, फोन को नष्ट करने के लिए कर्मचारी कमर कस रहे हैं।

टोलो न्यूज के मुताबिक़ गवर्नर, पुलिस प्रमुख, एनडीएस कार्यालय के प्रमुख, मुजाहिदीन के पूर्व नेता मोहम्मद इस्माइल खान, सुरक्षा के लिए आंतरिक मामलों के उप मंत्री और 207 जफर कोर कमांडर सहित सभी सरकारी अधिकारियों ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

पिछले 8 दिनों में, तालिबान ने अफ़गानिस्तान के 34 प्रांतों में से 16 और उसकी प्रांतीय राजधानियों में से 18 पर कब्जा कर लिया है। ग़जनी और लोगर पर कब्जे के बाद काबुल का रास्ता खुला है।

तालिबान ने अफ़गानिस्तान के दूसरे और तीसरे सबसे बड़े शहरों पर कब्जा कर लिया और अब काबुल से 50 मील दूर एक शहर सहित – देश के अधिकांश हिस्सों को नियंत्रित करता है।

जैसे ही अमेरिका अपने 20 साल के कब्जे से हटता है, तालिबान ने लगभग 400,000 लोगों को विस्थापित किया है, इस महीने 1,000 से अधिक नागरिक तालिबान द्वारा मारे गये हैं।

तालिबान के नियंत्रण में आने के साथ ही संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि अफगानिस्तान मानवीय तबाही के कगार पर है।

250,000 से अधिक लोग – ज़्यादातर महिलाएं और बच्चे – मई से अब तक जबरन विस्थापित हुए हैं, कई लोग सड़कों पर सो रहे हैं। 3 में से 1 खाद्य असुरक्षित है। सिर्फ़ पिछले सप्ताह में 72,000 बच्चे काबुल पहुंचे हैं क्योंकि तालिबान ने अफगानिस्तान पर क़ब्जा कर लिया है, कई लोग सड़कों पर सो रहे हैं। 

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles