पहला पन्ना

हिंसक घटनाओं और ताबड़तोड़ वोट के बीच तीसरे चरण का मतदान संपन्न

पश्चिम बंगाल में कल तीसरे चरण का मतदान संपन्न हो गया। पहले और दूसरे चरण की तरह तीसरे चरण में भी लोगों ने खुलकर वोट किया। तीसरे चरण  की सभी 31 सीटों पर शाम पांच बजे तक 77.68%मत डाले गए। सबसे ज्यादा 61.38 प्रतिशत मत हुगली जिले में डाले गए हैं। हुगली जिले की पुरसुरा विधानसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 62 फीसदी वोटिंग हुई। कल हुगली समेत हावडा, कोलकाता, 24 परगना जिले में भी वोटिंग हुई।

पहले और दूसरे चरण की तरह तीसरे चरण में भी मतदान के दौरान अलग-अलग जगहों में हिंसक झड़प हुई। हुगली जिले की तारकेश्वर विधानसभा में सुरक्षा बलों ने मीडिया और राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं को मतदान केंद्र से धक्का मारकर बाहर निकाला। इसी जिले के अलग-अलग इलाकों में भाजपा और तृणमूल के कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प हुई। हरिपाल विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के मंडल अध्यक्ष अनूप कुमार और एक कार्यकर्ता राजू समेत अन्य लोग घायल हो गए । जिसकी बाद में भाजपा की उम्मीदवार समीरण मित्रा ने स्वयं सेवा की। हुगली जिले में ही बूथ जाम की खबर पाकर पहुंचे तृणमूल के नेता नजबुल करीम को लोगों ने पीटा।

हाल ही में बीजेपी छोड़ तृणमूल में शामिल हुईं सुजाता मंडल खान ने जान का खतरा बताते हुए कहा कि उनकी हत्या की साजिश चल रही है। अपने ऊपर हुए हमले के लिए उन्होंने भाजपा को जिम्मेदार बताया। वहीं दूसरी ओर तीसरे चरण के मतदान के दौरान निर्वाचन आयोग ने कोलकाता की आठ सीटों के रिटर्निंग ऑफिसर को हटा दिया। आज तृणमूल कांग्रेस के नेता के घर से ईवएम और वीवीपैड मशीन मिली। तृणमूल के सांसद डेरेक ओब्रेन ने सीआरपीएफ जवान द्वारा तारकेश्वर विधानसभा में एक बच्ची के साथ छेड़छाड़ करने के मामले में मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखा। 

(पश्चिम बंगाल पूनम मसीह की रिपोर्ट।)

This post was last modified on April 7, 2021 8:43 am

Share
%%footer%%