Tuesday, December 7, 2021

Add News

पंजाब, हरियाणा और यूपी में रोकी गयी ट्रेनें, रायबरेली में किसान नेता नज़रबंद, यूपी के कई जिलों में धारा 144

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

तीन कृषि कानूनों को रद्द करने और लखीमपुर खीरी तिकुनिया में किसान जनसंहार कांड के मुख्य साजिशकर्ता केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफा और गिरफ्तारी की मांग को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर पूरे देश में किसान आज रेल रोको कार्यक्रम के अंतर्गत रेल रोक रहे हैं। 

आज किसानों ने सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक रेल रोको अभियान चलाया है। पंजाब और हरियाणा के विभिन्न स्थानों पर किसान रेल पटरियों पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ के मुताबिक, अब तक 30 स्थानों पर 8 ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित हुई है। वहीं बरेली से दिल्ली होते हुए रोहतक जाने वाली (02715) गाड़ी रद्द कर दी गई है। ये 9वीं ट्रेन है, जिस पर रेल रोको आंदोलन का असर पड़ा है।

रेल रोको आंदोलन के चलते 4 सेक्शन प्रभावित हैं और  5 ट्रेनों को रोक दिया गया है। बरेली से रोहतक जाने वाली गाड़ी संख्या  02715 नई दिल्ली तक आकर रद्द हो गई तो वहीं  02439 नांदेड़ श्रीगंगानगर तिलकब्रिज पर रोक कर रखी गयी है इसके साथ ही 02716 रद्द और  गाड़ी संख्या 02925 प्रभावित है।


टिकरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसान आज सुबह बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन पहुंचे। प्रदर्शन के लिए पहुंच रहे किसानों को पुलिस ने रोकने का प्रयास भी नहीं किया।किसान बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन पर पटरियों के बीच प्रदर्शन कर रहे हैं। सभी ने सरकार के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाजी की। मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद है।

रायबरेली में किसान नेता नज़रबंद 

मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद में किसानों ने ट्रेनें रोकी हैं। बुलंदशहर में हरपाल गुट ने रेल रोको आंदोलन निरस्त कर दिया है। वहीं रायबरेली में कुछ किसान नेताओं को पुलिस ने नज़रबंद करते हुए हाउस अरेस्ट किया है।ग़ाज़ियाबाद, बुलंदशहर, मेरठ, मुज़फ्फ़रनगर, सहारनपुर में रेल पटरियों पर पुलिस, GRP, RPF तैनात है।  फिलहाल पुलिस-प्रशासन अलर्ट है। रेलवे स्टेशनों पर फोर्स का कड़ा पहरा है।

मुज़फ्फ़रनगर के खतौली में BKU के कार्यकर्ता और किसान रेलवे ट्रैक पर आकर धरने पर बैठे हैं। मुज़फ्फ़रनगर के मंसूरपुर में इंटरसिटी ट्रेन को मंसूरपुर स्टेशन पर रोक दिया है। यह ट्रेन सहारनपुर से चलकर दिल्ली के लिए चली थी। ग़ाज़ियाबाद  के मोदीनगर रेलवे स्टेशन पर किसानों ने 11.25 बजे एक मालगाड़ी रोकी है। किसान फिलहाल मालगाड़ी के इंजन पर चढ़कर प्रदर्शन कर रहे हैं। हालांकि BKU (हरपाल गुट) ने आज जिलाध्यक्ष कपिल सिरोही ने बुलंदशहर में गुलावठी रेलवे स्टेशन पर रेल रोकने का कार्यक्रम निरस्त कर दिया है। हालांकि BKU (टिकैत गुट) के कार्यक्रम चलते रहेंगे।

मथुरा में भाकियू (अंबावता) के जिला अध्यक्ष राज कुमार तोमर की अपील पर राया स्टेशन और मथुरा जंक्शन पर पहुंचे हैं। उत्तर प्रदेश में पुलिस ने 144 लागू कर दी है। पुलिस ने आंदोलन में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी है। यूपी पुलिस ने कहा- जो लोग नियम का उल्लंघन करते पाए जाते हैं या ‘सामान्य स्थिति को बाधित करने का प्रयास करेंगे  उनके ख़िलाफ़ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत मामला दर्ज़ किया जाएगा। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि आंदोलन को देखते हुए 44 कंपनी पीएसी और 4 कंपनी अर्ध सैनिक बलों की तैनाती की गई है। पश्चिमी यूपी के 14 संवेदनशील जिलों में सीनियर IPS की तैनाती पहले से चल रही है।वहीं लखनऊ पुलिस ने कहा है कि किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए रेल रोको आंदोलन में हिस्सा लेने वालों लोगों के ख़िलाफ़ पुलिस कार्रवाई करेगी। ज़िले में सीआरपीसी की धारा 144 लगाई गई है, अगर कोई सामान्य स्थिति को बाधित करने की कोशिश करता है तो उस पर एनएसए लगाया जाएगा।

भारतीय किसान यूनियन नेता ने कहा कि ये अलग-अलग ज़िलों में अलग-अलग जगह होगा। पूरे देश में वहां के लोगों को पता रहता है ​कि हमें कहां ट्रेन रोकनी है। भारत सरकार ने अभी हमसे कोई बात नहीं की है। 

कौन कौन सी ट्रेने हुईं प्रभावित 

लखनऊ जंक्शन से जाने वाली 05086 लखनऊ-मैलानी विशेष गाड़ी सीतापुर में शार्ट टर्मिनेट होगी।मैलानी से जाने वाली 05085 मैलानी-लखनऊ विशेष गाड़ी सीतापुर से चलाई जाएगी।गोरखपुर से चलने वाली 05009 गोरखपुर-मैलानी विशेष गाड़ी को लखनऊ में शार्ट टर्मिनेट किया गया।मैलानी से छूटने वाली 05010 मैलानी-गोरखपुर विशेष गाड़ी लखनऊ जं. से चलाई जाएगी।
वहीं बहराइच-नानपारा विशेष गाड़ी, नानपारा-बहराइच विशेष गाड़ी, बहराइच-मैलानी विशेष गाड़ी, मैलानी-बहराइच विशेष गाड़ी निरस्त कर दी गयी है।

ग़ाज़ियाबाद में भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष बिजेंद्र सिंह के नेतृत्व में किसान सोमवार को सुबह 10 बजे मोदीनगर रेलवे स्टेशन पर बैठे हैं।  ऐसे में इस दौरान स्टेशन से गुज़रने वाली अंबाला इंटरसिटी, सुपर एक्सप्रेस और दिल्ली-मेरठ के बीच चलने वाली दो पैसेंजर ट्रेनें प्रभावित हो सकती हैं। ट्रैक जाम होने की स्थिति में इन ट्रेनों को आउटर पर ही रोकने की योजना है।बुलंदशहर के खुर्जा में भाकियू जिलाध्यक्ष बब्बन चौधरी के नेतृत्व में रेलवे ट्रैक सुबह 10 बजे जाम किया जाएगा। मुजफ्फरनगर जिले में मंसूरपुर और खतौली रेलवे स्टेशन पर किसानों का सुबह 11 बजे से रेल रोकने का कार्यक्रम प्रस्तावित है। सहारनपुर जिले में टपरी जंक्शन पर किसान रेलवे ट्रैक जाम कर रहे हैं।
दिल्ली-अंबाला और दिल्ली-हरिद्वार आने-जाने वाली ट्रेनों के लिए यह जंक्शन बेहद महत्वपूर्ण है। मेरठ में भाकियू जिलाध्यक्ष मनोज त्यागी के अनुसार, तीन स्थानों सकौती हॉल्ट, कैंट व परतापुर रेलवे स्टेशन पर सुबह क़रीब साढ़े 10 बजे से रेल रोकी गई है।

तिकुनिया जनसंहार के मास्टरमाइंड मंत्री अजय मिश्रा की बर्खास्तगी और गिरफ्तारी की मांग 

इससे पहले कल रविवार को संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा रविवार को जारी बयान में कहा गया है, “अजय मिश्रा की बर्खास्तगी और गिरफ्तारी की मांग के लिए दबाव डालने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने 18 अक्टूबर को रेल रोको कार्यक्रम की घोषणा की है ताकि लखीमपुर खीरी हिंसा में न्याय सुरक्षित किया जा सके। “एसकेएम ने अपने घटकों से 18 अक्टूबर को सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच छह घंटे के लिए रेल यातायात रोकने का आह्वान किया। एसकेएम ने किसी भी रेलवे संपत्ति को किसी भी प्रकार की क्षति और क्षति के बिना शांतिपूर्वक रेल रोको कार्यक्रम को करने के लिए कहा है। बयान में संयुक्त किसान मोर्चा ने आगे कहा है कि “संयुक्त किसान मोर्चा अजय मिश्रा टेनी को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त करने की मांग कर रहा है। यह बहुत स्पष्ट है कि अजय मिश्रा केंद्र सरकार में गृह मामलों के राज्य मंत्री हैं, इस मामले में उनके मंत्रीपद पर रहते हुये न्याय सुरक्षित नहीं किया जा सकता है।”किसान मोर्चा ने बयान के आखिर में कहा है कि -उन्होंने (गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा) अपने भाषणों में हिंदुओं और सिखों के बीच नफ़रत, दुश्मनी और सांप्रदायिक वैमनस्य को बढ़ावा दिया। और शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को कुचलने के लिए उनके वाहन इस्तेमाल किए गए थे। उन्होंने अपने बेटे और सहयोगियों को को भेजकर किसानों को कुचला दिया, जबकि पुलिस आशीष मिश्रा को सम्मन जारी कर रही थी।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

संविधान की प्रस्तावना में समाजवादी और पंथनिरपेक्ष शब्द जोड़ने पर जस्टिस पंकज मित्तल को आपत्ति

पता नहीं संविधान को सर्वोपरि मानने वाले भारत के चीफ जस्टिस एनवी रमना ने यह नोटिस किया या नहीं...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -