Subscribe for notification

आखिर क्यों आम लोगों को करना चाहिए जेएनयू में फीस वृद्धि का विरोध

मैं आईआईएमसी से पास हुआ तो मुझे कोई नौकरी नहीं मिली। जबकि मैं सेकंड टॉपर था क्लास का। नौकरी किसी को नहीं मिली थी। जेएनयू कैंपस देखा था तो इच्छा थी कि यहां पढ़ लें। पहली बार अप्लाई किया नहीं हुआ।

अगले साल आते आते अमर उजाला की नौकरी से निकाला जा चुका था। घर से पैसे आने नहीं थे। रहने को घर नहीं था। खाने को पैसा नहीं। मैंने जेएनयू का फॉर्म भरा था लेकिन तैयारी करने को किताबें नहीं थीं।

मैं दोस्तों से उधार ले लेकर ऐसी हालत में था कि शर्म आती थी पैसा मांगने में किसी से। ऐसे में जेएनयू में कई बार मेस में जाकर चुपचाप थाली उठा लेता था। मेस वर्कर ने एक बार कहा कि पर्ची कहां है….मेरी शकल पर ही लिखा था मैं भूखा हूं…..

एक बार मैंने कहा- बहुत भूख लगी है….तो मेस वर्कर ने थाली में सब्जी डाल कर बोला। बैठ जाओ। आगे बढ़ने पर मेस मैनेजर के टोकने का खतरा था। ऐसा तीन-चार बार हुआ।

ये लिखते-लिखते हाथ कांप रहे हैं। मैं कई रातों को जेएनयू के बस स्टैंड पर सोया हूं क्योंकि मेरे पास सोने की जगह नहीं थी। ऐसे ही कई दिन मुझे जेएनयू के दोस्तों ने देखते ही नाश्ता कराया है बिना ये पूछे कि मेरा क्या हाल है। सब जानते थे मेरी हालत ठीक नहीं है।

मेरी ऐसी हालत देखने वाले कुछ लोग अभी भी फेसबुक पर मेरी मित्र सूची में हैं।

ऐसे ही एक दिन जेएनयू के एक सीनियर ने देखा तो बातचीत होने लगी। बातों बातों में उन्होंने कहा कि सोने की दिक्कत हो तो कमरे में आ जाया करो। कभी कभी चेकिंग होता है लेकिन संभाल लेंगे। मैं गया नहीं।

जेएनयू के ही एक छात्र ने पुरानी किताबें दी तैयारी करने के लिए। मैं बिना अतिश्योक्ति के ये कह रहा हूं कि भूख लगने पर मैंने भीगा गमछा पेट पर बांधा है और पढ़ाई की है।

उस पर भी बस नहीं हुआ। परीक्षा से पहले एडमिट कार्ड नहीं आया तो जेएनयू के उस समय के छात्र नेता ने खुद जाकर एग्जाम कंट्रोलर से लड़ाई कर के मुझे एडमिट कार्ड दिलाया।

जेएनयू में आज भी एमए की लिस्ट में मेरी फोटो नहीं है क्योंकि मेरे एडमिट कार्ड में फोटो नहीं था। नए एडमिट कार्ड के लिए पैसे भरने पड़े वो उस छात्र नेता ने अपनी जेब से दिए जो मैंने साल भर बाद उन्हें वापस किया।

एडमिशन के बाद मेरे पास मेस बिल देने को पैसा नहीं था। मेरे पिता महीने के हज़ार रूपए भेजने तक के लिए सक्षम नहीं थे। उन्होंने किसी से उधार लेकर पंद्रह सौ रूपए के साथ मुझे जेएनयू भेजा था जिससे मैंने पहले सेमेस्टर की फीस (करीब साढ़े चार सौ रूपए) भरी थी।

छह महीने तक मेरे एक दोस्त ने पैसे दिए मेस बिल के……अगर सेमेस्टर की फीस आज जितनी होती तो मैं सच में पढ़ नहीं पाता…

मेरे जैसे कई गरीब छात्र हैं जेएनयू में आज भी। कुछ साल पहले मैं बुलेट से आ रहा था कैंपस तो एक लड़का हवाई चप्पल में पैदल चलता हुआ मिला। चेहरे पर उदासी थी….उसने हाथ दिया तो मैंने गाड़ी पर बैठा लिया….बातों बातों में रूआंसा हो गया। मैं पूछने लगा तो वही सब। पिता किसान थे….महीने के मेस बिल का आठ सौ रूपया तक भेज नहीं पा रहे थे।

बहुत संघर्ष है पढ़ाई के लिए…जिनके पास पैसे हैं वो ये कभी नहीं समझेंगे।

( यह पोस्ट बीबीसी के पूर्व पत्रकार जे सुशील की है। जिसे वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार के फेसबुक पेज से लिया गया है।)

This post was last modified on November 12, 2019 6:14 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

कांग्रेस समेत 12 दलों ने दिया उपसभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस

कांग्रेस समेत 12 दलों ने उप सभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया…

4 hours ago

दिनदहाड़े सत्ता पक्ष ने हड़प लिया संसद

आज दिनदहाड़े संसद को हड़प लिया गया। उसकी अगुआई राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश नारायण…

4 hours ago

बॉलीवुड का हिंदुत्वादी खेमा बनाकर बादशाहत और ‘सरकारी पुरस्कार’ पाने की बेकरारी

‘लॉर्ड्स ऑफ रिंग’ फिल्म की ट्रॉयोलॉजी जब विभिन्न भाषाओं में डब होकर पूरी दुनिया में…

6 hours ago

माओवादियों ने पहली बार वीडियो और प्रेस नोट जारी कर दिया संदेश, कहा- अर्धसैनिक बल और डीआरजी लोगों पर कर रही ज्यादती

बस्तर। माकपा माओवादी की किष्टाराम एरिया कमेटी ने सुरक्षा बल के जवानों पर ग्रामीणों को…

8 hours ago

पाटलिपुत्र का रण: राजद के निशाने पर होगी बीजेपी तो बिगड़ेगा जदयू का खेल

''बिहार में बहार, अबकी बार नीतीश सरकार'' का स्लोगन इस बार धूमिल पड़ा हुआ है।…

9 hours ago

दिनेश ठाकुर, थियेटर जिनकी सांसों में बसता था

हिंदी रंगमंच में दिनेश ठाकुर की पहचान शीर्षस्थ रंगकर्मी, अभिनेता और नाट्य ग्रुप 'अंक' के…

9 hours ago