Subscribe for notification
Categories: राज्य

झारखंड में भूख और गरीबी से एक और मौत

झारखंड में भूख और गरीबी से हो रही मौतें जारी है। सरकार बदल गई, लेकिन जनता के प्रति प्रशासनिक अफसरों की स्थिति जस की तस है। जब भी कहीं भूख और गरीबी से मौत होती है, तो सबसे पहले पूरा प्रशासनिक महकमा और सरकार उसे बीमारी से हुई मौत साबित करने के लिए दिन-रात एक कर देती है। सरकार और प्रशासनिक अमला सच्चाई स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है, क्योंकि उसने ‘विकास’ का चश्मा पहना रखा है, जिससे उसे हर जगह खुशहाली ही दिखती है।

छह मार्च 2020 को जब झारखंड विधानसभा में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपने मंत्रियों और महागठबंधन के विधायकों के साथ होली खेलने में व्यस्त थे, तो वहीं दूसरी तरफ झारखंड के बोकारो जिला के कसमार प्रखंड के सिंहपुर पंचायत के करमा (शंकरडीह) निवासी 42 वर्षीय भूखल घासी की मौत हो गई। ग्रामीणों और उनकी पत्नी का कहना है कि चार दिनों से उसके घर में चूल्हा नहीं जला था।

वह काफी गरीब थे, लेकिन किसी भी सरकारी योजना का लाभ उन्हें नहीं मिलता था। न तो उनके पास राशन कार्ड था, न आयुष्मान कार्ड और न ही उन्हें इंदिरा आवास का लाभ मिला था, लेकिन उनका नाम बीपीएल सूची में शामिल जरूर था, जिसकी संख्या 7449 है। भूखल घासी के चाचा मनबोध घासी का कहना है कि अगस्त 2019 में ही उन्होंने राशन कार्ड के लिए आवेदन दिया था, लेकिन वह आज तक नहीं बन पाया है।

भूखल घासी का जन्म एक दलित परिवार में हुआ था और वह मिट्टी काटकर अपना परिवार चलाते थे, लेकिन एक साल पहले से बीमार होने (शरीर में सूजन) के कारण काम नहीं कर पा रहे थे। इस कारण उनका बेटा 14 वर्षीय नितेश घासी पेटरवार के एक होटल में कप-प्लेट धोकर परिवार का गुजारा करता था।

उनकी पत्नी रेखा देवी का कहना है कि चार दिन से उनके घर में अनाज का एक दाना भी नहीं है, पड़ोसियों से कुछ खाना मिला था, उसी को खाकर हम सब जिंदा हैं। इसी बीच मेरे पति ने दम तोड़ दिया। उनके परिवार में पत्नी रेखा देवी के अलावा तीन पुत्री और दो पुत्र हैं।

भूखल की मौत के बाद ग्रामीणों ने उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हुए शव को जलाने से रोक दिया है। भूख और गरीबी से हुई मौत पर कसमार वीडियो का कहना है कि मुझे पता चला है कि भूखल एक साल से बीमार था और वेल्लोर से उनका इलाज चल रहा था, जबकि ग्रामीणों औ उनके परिजनों का कहना है कि वह इतने गरीब थे कि इलाज के लिए कभी बोकारो भी नहीं जा पाए थे, वेल्लोर में इलाज करना तो वह सपने में भी नहीं सोच सकते थे।

झारखंड में भाजपा की पिछली रघुवर दास की सरकार में भी भूख और गरीबी से कई मौतें हुई थीं और प्रत्येक बार सरकार और प्रशासनिक अधिकारी इसे झूठ बताते रहे। आज झारखंड में झामुमो के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार है और इसमें भी प्रशासनिक अधिकारी भूख और गरीबी से हुई मौत को झूठ बता रहे हैं।

हमारे देश और इस व्यवस्था की यही हकीकत है कि सत्ता बदलती है, निजाम बदलते हैं लेकिन उनकी नीतियां नहीं बदलती, व्यवस्था नहीं बदलती। इसलिए भूख और गरीबी से हो रही मौतों को रोकने और गरीबोन्मुख सरकार बनाने के लिए जरूरी है इस शोषण, लूट और झूठ पर टिकी व्यवस्था का बदलना।

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं।)

This post was last modified on March 7, 2020 9:54 am

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...

Recent Posts

कृषि विधेयक के मसले पर अकाली दल एनडीए से अलग हुआ

नई दिल्ली। शनिवार को शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) ने बीजेपी-एनडीए गठबंधन से अपना वर्षों पुराना…

3 hours ago

कमल शुक्ला हमला: बादल सरोज ने भूपेश बघेल से पूछा- राज किसका है, माफिया का या आपका?

"आज कांकेर में देश के जाने-माने पत्रकार कमल शुक्ला पर हुआ हमला स्तब्ध और बहुत…

5 hours ago

संघ-बीजेपी का नया खेल शुरू, मथुरा को सांप्रदायिकता की नई भट्ठी बनाने की कवायद

राम विराजमान की तर्ज़ पर कृष्ण विराजमान गढ़ लिया गया है। कृष्ण विराजमान की सखा…

6 hours ago

छत्तीसगढ़ः कांग्रेसी नेताओं ने थाने में किया पत्रकारों पर जानलेवा हमला, कहा- जो लिखेगा वो मरेगा

कांकेर। वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला कांग्रेसी नेताओं के जानलेवा हमले में गंभीर रूप से घायल…

7 hours ago

‘एक रुपये’ मुहिम से बच्चों की पढ़ाई का सपना साकार कर रही हैं सीमा

हम सब अकसर कहते हैं कि एक रुपये में क्या होता है! बिलासपुर की सीमा…

9 hours ago

कोरोना वैक्सीन आने से पहले हो सकती है 20 लाख लोगों की मौतः डब्लूएचओ

कोविड-19 से होने वाली मौतों का वैश्विक आंकड़ा 10 लाख के करीब (9,93,555) पहुंच गया…

12 hours ago