Wednesday, February 1, 2023

 झारखंड: ग्राम सभा ने की जंगल के चारों दिशाओं में पत्थलगड़ी

Follow us:

ज़रूर पढ़े

झारखंड के गढ़वा जिला अंतर्गत कला खजुरी ग्राम के वन क्षेत्र में 29 जनवरी 2022 को जंगल के चारों दिशाओं में पत्थलगड़ी की गई। जिसके बाद कोई भी ग्राम सभा की अनुमति के बगैर जंगल में आग नहीं लगा सकेगा और पेड़ नहीं काट सकेगा। आग लगाने,  पेड़ काटने और वन्य जीवों एवं जंगल की विविधता को नुकसान पहुंचाते हुए पकड़े जाने पर ग्राम सभा द्वारा सख्त कार्रवाई की जाएगी।

pathalgadi

वनाधिकार कानून 2006 के अंतर्गत ग्राम सभा कला खजुरी द्वारा 29 प्लॉटों में बंटा हुए, वन क्षेत्र पर सामुदायिक दावा पेश करते हुए, ग्राम सभा कला खजुरी का बताकर 872.42 एकड़ वन क्षेत्र के लिए वन के चारों सीमाओं में 4 पत्थलगड़ी की गई।

pathalgadi2

बता दें कि वनाधिकार कानून 2006 एवं संशोधित अधिनियम 2012 के 3(1)झ एवं 5 के अंतर्गत ग्राम सभा ने जंगल का प्रबंधन करने का संकल्प लिया। ग्राम सभा ने धारा 3(1)क, ख, ट एवं ड के अंतर्गत अब कला खजुरी ग्राम सभा के 300 परिवारों को निस्तार का अधिकार, गौण वन उपज का अधिकार, जैव विविधता का अधिकार, पुनर्वास का अधिकार और पर्यावरण संरक्षण का अधिकार प्राप्त करने का संकल्प दुहराया।

pathalgadi4

ग्राम सभा के ग्राम प्रधान विश्राम बाखला ने बताया कि बहुत संघर्ष के बाद वनाधिकार कानून 2006 बना है। हमारे गांव ने सामूहिक दावा के अंतर्गत वन क्षेत्र का इस्तेमाल करने के लिए दावा पेश किया है जो अब भी अनुमंडल स्तर पर लंबित है। इसके बावजूद भी हमने जंगल का संरक्षण करने का फैसला लिया है। अब कोई भी ग्राम सभा की अनुमति के बगैर जंगल में आग नहीं लगा सकेगा, पेड़ नहीं काटेगा। उन्होंने बताया कि पेड़ काटना, वन्य जीवों एवं जंगल विविधता को नुकसान पहुंचाना सख्त मना है। पकड़े जाने पर ग्राम सभा द्वारा सख्त कार्रवाई की जाएगी।

pathalgadi5

इस पत्थलगड़ी कार्यक्रम के अवसर पर पाहन (पुजारी) ने पूर्वजों के लिए महुआ दारू का अर्घ्य दिया और जंगल के विकास के लिए प्रार्थना की। यह अवसर एक बड़े महोत्सव के रूप में मनाया गया। इस पत्थलगड़ी के अवसर पर ग्रामीणों द्वारा परंपरागत लोक नृत्य प्रस्तुत किया गया। इस नृत्य, लोक गीत एवं मांदर की थाप से पूरा जंगल गूंजायमान हो उठा।

इस पत्थलगड़ी कार्यक्रम के अवसर पर ग्राम सभा कला खजुरी के प्रधान विश्राम बाखला, उप प्रधान विश्वनाथ बाखला, ग्राम सभा के आठों समिति के सदस्यगण, आफिर संगठन के कार्यकर्ता फिलिप कुजुर, सुनील मिंज, बीजपुर ग्राम सभा के उप प्रधान धरमू मिंज, ग्राम सभा कला खजुरी के वनाधिकार समिति के अध्यक्ष अमरलाल तिर्की, नोवेल तिर्की, जीवनदान तिर्की,आग्रेन तागरेन केरकेट्टा, जेनी टोप्पो, तृप्ति टोप्पो, आनंद बाझल, ननका बाखला, फोरकिल कच्छप आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

(झारखंड से वरिष्ठ पत्रकार विशद कुमार की रिपोर्ट।)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

मटिया ट्रांजिट कैंप: असम में खुला भारत का सबसे बड़ा ‘डिटेंशन सेंटर’

कम से कम 68 ‘विदेशी नागरिकों’ के पहले बैच  को 27 जनवरी को असम के गोवालपाड़ा में एक नवनिर्मित ‘डिटेंशन...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x