Subscribe for notification
Categories: राज्य

दमन और उत्पीड़न के जरिये भलस्वा में जारी सीएए विरोधी महिलाओं के आंदोलन को दबाने की कोशिश कर रही है दिल्ली की पुलिस

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद कहा है कि चुनाव के दौरान गोली मारो और भारत-पाकिस्तान करने का पार्टी को खामियाजा भुगतना पड़ा है। और आज सुरक्षा बल के जवानों के एक कार्यक्रम में उन्होंने जनता के साथ पुलिसकर्मियों को नरमी से पेश आने की सलाह दी। लेकिन शाह की यह अपील या तो जमीन पर पहुंच नहीं पा रही है या फिर सब कुछ दिखावे के लिए किया जा रहा है। यानि ऊपर से उदारता दिखा कर अंदर से दमन की रणनीति पर काम किया जा रहा है। क्योंकि राजधानी दिल्ली की जो रिपोर्ट आ रही हैं उसमें पुलिस के रवैये को लेकर कोई बहुत ज्यादा बदलाव नहीं दिख रहा है।

राजधानी के भलस्वा इलाके में कुछ इसी तरह का एक मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि भलस्वा जेजे कॉलोनी, बादली (जहाँगीरपुरी के पास) की लगभग 400-500 महिला मज़दूर पिछले दो दिनों से एनआरसी-सीएए के खिलाफ रोजाना मशाल जुलूस निकाल रही हैं। वे इस संघर्ष को अपने जीवन और काम की स्थिति के सवालों से जोड़ने की कोशिश कर रही हैं। खास बात यह है कि इन प्रयासों को धार्मिक और जातिगत विभाजनों से  हट कर सभी का सहयोग मिल रहा है।

लेकिन कल से पुलिस के कुछ जवान स्थानीय लोगों को निशाना बनाकर उन्हें डराने की कोशिश शुरू कर दिए हैं। आज 5 पुलिसकर्मी संघर्ष में शामिल एक सदस्य के घर गए और उसके परिवार के लोगों को धमकाया। उन्हें पुलिस से लगातार फोन कॉल आ रहे हैं जिसमें उन पर देशद्रोह की धारा लगाने की धमकी दी जा रही है। दिलचस्प बात यह है कि आंदोलन कुछ संगठनों या फिर नेताओं की कोशिश का हिस्सा नहीं है बल्कि यह उनके सामूहिक प्रयासों का नतीजा है।

(दिल्ली के भलस्वा से दामोदर की रिपोर्ट।)

This post was last modified on February 16, 2020 10:55 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

मीडिया को सुप्रीम संदेश- किसी विशेष समुदाय को लक्षित नहीं किया जा सकता

उच्चतम न्यायालय ने सुदर्शन टीवी के सुनवाई के "यूपीएससी जिहाद” मामले की सुनवायी के दौरान…

7 mins ago

नौजवानों के बाद अब किसानों की बारी, 25 सितंबर को भारत बंद का आह्वान

नई दिल्ली। नौजवानों के बेरोजगार दिवस की सफलता से अब किसानों के भी हौसले बुलंद…

54 mins ago

योगी ने गाजियाबाद में दलित छात्रावास को डिटेंशन सेंटर में तब्दील करने के फैसले को वापस लिया

नई दिल्ली। यूपी के गाजियाबाद में डिटेंशन सेंटर बनाए जाने के फैसले से योगी सरकार…

3 hours ago

फेसबुक का हिटलर प्रेम!

जुकरबर्ग के फ़ासिज़्म से प्रेम का राज़ क्या है? हिटलर के प्रतिरोध की ऐतिहासिक तस्वीर…

5 hours ago

विनिवेश: शौरी तो महज मुखौटा थे, मलाई ‘दामाद’ और दूसरों ने खायी

एनडीए प्रथम सरकार के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने आरएसएस की निजीकरण की नीति के…

7 hours ago

वाजपेयी काल के विनिवेश का घड़ा फूटा, शौरी समेत 5 लोगों पर केस दर्ज़

अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अलग बने विनिवेश (डिसइन्वेस्टमेंट) मंत्रालय ने कई बड़ी सरकारी…

8 hours ago