Subscribe for notification
Categories: राज्य

संस्कृतिकर्मियों को सत्ताविरोधी ही नहीं बल्कि व्यवस्थाविरोधी भी होना होगाः सुंदर मरांडी

आज झारखंड में महागठबंधन (झारखंड मुक्ति मोर्चा-कांग्रेस-राजद) की सरकार है और झामुमो के हेमंत सोरेन झारखंड के मुख्यमंत्री हैं। हेमंत सोरेन लगातार आदिवासी सभ्यता-संस्कृति की हिफाजत की बात कर रहे हैं  और स्थानीय भाषाओं को भी बढ़ावा देने की बात कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ आदिवासियों की सभ्यता-संस्कृति और जल-जंगल-जमीन की रक्षा के लिए लगातार अपने गीतों और नाटकों के जरिए झारखंड के आदिवासियों-मूलवासियों में चेतना बढ़ाने का काम करने वाला सांस्कृतिक संगठन ‘झारखंड एभेन’ झारखंड सरकार द्वारा प्रतिबंधित है। ‘झारखंड एभेन’ के सैकड़ों संस्कृतिकर्मियों को गांवों में पुलिस से छिपकर अपनी कला का प्रदर्शन करना पड़ता है, फिर भी वे टिके हुए हैं और जनवादी संस्कृति का प्रचार-प्रसार अपने गीतों और नाटकों के जरिए कर रहे हैं।

झारखंड की वर्तमान सरकार को चाहिए कि ‘झारखंड एभेन’ से प्रतिबंध हटाकर उनकी कला यानी कि उनके गीतों और नाटकों को सरकारी बंदिशों से आजाद कर दे। ‘झारखंड एभेन’ के संस्थापक सदस्य शहीद कामरेड सुंदर मरांडी के 5वें शहादत दिवस पर झारखंड के सुदूर ग्रामीण इलाके में काम करने वाले सांस्कृतिक संगठन के बारे में और संस्कृतिकर्मी कॉमरेड सुंदर मरांडी के बारे में बता रहे हैं झारखंड के स्वतंत्र पत्रकार रूपेश कुमार सिंह….

27 फरवरी 2015 को रात के लगभग 11 बजे झारखंड के प्रतिष्ठित लोक-कलाकार और ‘प्रतिबंधित’ सांस्कृतिक संगठन ‘झारखंड एभेन’ के संस्थापक सदस्यों में से एक कामरेड सुंदर मरांडी ने रांची के रिम्स अस्पताल में अपनी अंतिम सांस ली थी और अपने पीछे छोड़ गए अपने चाहने वाले लाखों शोषित-उत्पीड़ित अवाम और अपने उन तमाम पेशेवर संस्कृतिकर्मियों को, जिसे उन्होंने अपनी लगन, मेहनत और उच्च राजनीतिक दूरदर्शिता से तैयार किया था, जो आज भी उनके दिखाए रास्ते पर चलते हुए आदिवासी सभ्यता और संस्कृति पर हो रहे लगातार चैतरफा हमले के खिलाफ बड़ी ही मजबूती से अपनी सभ्यता और संस्कृति के अस्तित्व रक्षा की लड़ाई लड़ रहे हैं।

उस समय उनकी उम्र लगभग 50 वर्ष थी। 28 फरवरी को जब उनकी शव गिरिडीह जिला के मधुबन के हटिया मैदान में लाया गया था, तो उनको अंतिम बार देखने और श्रद्धांजलि देने के लिए आस-पास के गांवों के हजारों आदिवासी-मूलवासी महिला-पुरुष, बूढ़े-बच्चे उमड़ पड़े थे और वहां से उनके गांव चतरो तक उन्हें ‘लाल सलाम’ के गरजते नारों के साथ लाया गया था। जहां उन्हें आदिवासी परंपरा के अनुसार दफन करने के बाद आयोजित श्रद्धांजलि सभा में उनके सपने (एक शोषणमुक्त समाज) को पूरा करने का संकल्प हजारों लोगों ने लिया था।

आगे चलकर 28 फरवरी 2016 को ‘सुंदर मरांडी स्मारक समिति’ के द्वारा उनके गांव (ग्राम-चतरो, प्रखंड-पीरटांड़, जिला-गिरिडीह) में ही उनका एक स्मारक बना दिया गया और प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को वहां पर श्रद्धांजलि सभा के अवसर पर झारखंड की कई सांस्कृतिक टीमों का जुटान होता है और सुंदर मरांडी के द्वारा दिखाए गए रास्ते पर चलकर झारखंड की संस्कृति को बचाने का संकल्प लिया जाता है। इसका आयोजन प्रत्येक वर्ष ‘सुंदर मरांडी स्मारक समिति’ के द्वारा ही किया जाता है।

कौन थे कामरेड सुंदर मरांडी और क्या था उनका विचार?
लगभग 27 वर्षों तक झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाली जनसभाओं, पर्व-त्योहारों, यहां तक कि शादी-ब्याह में भी अपने गीतों और मांदल की थापों से जनता में राजनीतिक चेतना बढ़ाने वाले कामरेड सुंदर मरांडी झारखंड के गिरीडीह जिला के पीरटांड़ प्रखंड के चतरो गांव के रहने वाले थे। उनका जन्म आठ मई 1965 ई. को एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ था। माता-पिता दोनों मजदूरी करते थे तो किसी तरह उनका घर चलता था।

खस्ताहाल आर्थिक स्थिति होने के बावजूद भी उनके पिता चाहते थे कि बेटा पढ़े, लेकिन उनको तो बचपन से ही गीत गाने का काफी शौक था। किसी तरह उन्होंने दसवीं तक पढ़ाई की और इसके बाद ही वे शादी-ब्याह में घूम-घूमकर गीत गाने लगे, साथ ही साथ आदिवासी संस्कृति में जड़ जमा चुकी मांड़ी (लोकल दारू) के भी वे आदि हो चुके थे। इसी बीच स्थानीय मार्क्सवादी चिंतक रावण मुर्मू उर्फ भक्ति दा की नजर उन पर पड़ी और उनसे बातचीत के बाद कामरेड सुंदर मरांडी में आश्चर्यजनक परिवर्तन हुआ और उनके विचार मार्क्सवाद-लेनिनवाद-माओवाद से प्रभावित हुए और फिर उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और जीवनपर्यंत वे इसी विचारधारा को फैलाने में लगे रहे।

कामरेड सुंदर मरांडी आदिवासी सभ्यता-संस्कृति के बारे में भी बहुत जानते थे, इसीलिए वे उनकी सभ्यता-संस्कृति के आधार पर ही गीत का निर्माण करते थे लेकिन उन गीतों में सामाजिक बदलाव का पुट स्पष्ट रहता था। कोई भी वाद्य यंत्र हो उसे वो बहुत ही अच्छी तरह बजाते थे, यहां तक कि बांसुरी तो वे नाक से बजाते थे। उनके मांदल की थाप को सुनकर उनके जानने वाले दूर से ही जान जाते थे कि सुंदर दा बजा रहे हैं। उनकी लिखावट का क्या कहना, आज भी उनके इलाके के कई लोग उन्हीं की लेखनी की नकल करते हैं। बांस की कूची से पोस्टर भी वे बहुत ही सुंदर लिखते थे। संथाली, खोरठा, हिन्दी, नागपुरी, भोजपुरी व बांग्ला पर उनकी पकड़ अद्भुत थी। वे तेलुगु और नेपाली गीत सुनकर हुबहू गाते थे।

कामरेड सुंदर मरांडी हमेशा इस बात पर जोर देते थे कि एक कलाकार को जनता के बीच में रहना चाहिए, इसीलिए उनकी टीम हमेशा ग्रामीण इलाकों में जनता के घर में ही रहती थी, जनता के घर में ही खाना खाती थी और जनता के रोज दिन के कार्य में भी सहयोग करती थी। ‘झारखंड एभेन’ के इस तरह के कार्य के कारण ही उत्तरी छोटानागपुर (गिरिडीह, बोकारो, धनबाद, हजारीबाग) के ग्रामीण इलाकों में इनकी पकड़ काफी मजबूत होती चली गई, साथ ही झारखंड के अन्य हिस्सों में भी वैकल्पिक जन-आधारित संस्कृति को पहुंचाने लगी।

देश के तमाम सांस्कृतिक संगठनों से अलग राह पर चलने के कारण जल्द ही ‘झारखंड एभेन’ सत्ता के निशाने पर भी आ गई और इसे तत्कालीन माओइस्ट कम्युनिस्ट सेंटर (एमसीसी) का सांस्कृतिक संगठन कहकर इसके कार्यकर्ताओं का दमन किया जाने लगा। 21 सितंबर 2004 को एमसीसीआई और भाकपा माले पीडब्लू के विलय के बाद बनी राजनीतिक पार्टी भाकपा (माओवादी) के अस्तित्व में आने के बाद ‘झारखंड एभेन’ पर दमन और भी बढ़ गया और गृह मंत्रालय के द्वारा ‘झारखंड एभेन’ पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

फिर भी ‘झारखंड एभेन’ के संस्कृतिकर्मी जनता के बीच गुप्त रूप से अब तक जमे हुए हैं और तमाम पुलिसिया दमन के बावजूद भी जनता इन्हें अपने घरों में पनाह देती है, क्योंकि ये जनता का गीत गाते हैं और जनता के सुख-दुख के साथ हमेशा खड़े रहते हैं।

कामरेड सुंदर मरांडी से मेरी पहली और आखिरी मुलाकात सितंबर 2014 में हुई थी। वे काफी जिन्दादिल इंसान थे। उनसे जुड़ा एक वाकया बताता हूं। सुबह-सुबह मैं नदी की ओर जा रहा था। एक जोर सी आवाज आई ‘‘सेताअ जोहार’’, तो मैंने भी जोहार-जोहार बोल दिया। बाद में उनसे बातचीत पर पता चला कि ‘‘सेताअ जोहार’’ का मतलब हुआ-सुबह का नमस्कार। मैंने जब उनसे पूछा कि ‘‘आप जानते हैं कि मैं संथाली नहीं जानता हूं तो फिर आपने संथाली में क्यों बोला? उनका जवाब आज भी मेरे मन में घूम रहा है ‘‘मैं अपनी भाषा नहीं छोड़ सकता कामरेड।’’

वे 29 अगस्त 2014 को ही जेल से जमानत पर छूट कर बाहर आए थे, पुलिस ने उन्हें मानसिक रूप से तो प्रताड़ित किया ही था, साथ में निर्मम शारीरिक यंत्रणा भी दी थी, जिसके कारण उनके पीठ और सर में काफी दर्द अभी भी रहता था। वे अपने इलाज में हो रहे खर्च के कारण काफी परेशान थे। अंततः 27 फरवरी 2015 को उनकी मृत्यु हो गई। ये मृत्यु नहीं शहादत है, पुलिस की निर्मम पिटाई ने आखिर उनकी जान ले ही ली। कामरेड सुंदर मरांडी की शहादत झारखंड में और भी युवाओं को जल-जंगल-जमीन और अपनी अस्मिता को बचाने की लड़ाई की ओर आकर्षित करेगी, ये मेरा विश्वास है।

उनसे बातचीत का एक अंश
प्रश्न- आप झारखंड एभेन से कब जुड़े?
उत्तर- (मुस्कुराते हुए) झारखंड एभेन का गठन ही हम लोगों ने किया था। झारखंड में 1982 ई. से ही नावा मार्शल (नई रोशनी) नाम से एक सांस्कृतिक संगठन ग्रामीण इलाकों में काम करता था, उसके सभी सदस्य पेशेवर संस्कृतिकर्मी थे। वे एक जत्थे में गांव-गांव घूमते थे। ये जत्था मेरे गांव में भी आता था। उनकी रिहर्सल और कार्यक्रम देखने हम लोग जाते थे, देख कर लगता था कि इनसे अच्छा तो मैं गाता हूं। झारखंड आंदोलन का भी काफी प्रभाव था उस समय, लेकिन नावा मार्शल का गीत ‘‘कामरेड माओ ललकार रहा है, चलो आगे बढ़ो’’ और ‘‘जागा रे जागा रे सारा संसार’’ जब सुनते थे, तो लगता था कि सीना फट जाएगा, शरीर में कंपकंपाहट होने लगती थी। मैं अक्सर इस गाने को गुनगुनाने लगा था, फिर भक्ति दा (भक्ति दा को उस इलाके में लाल मशालची के नाम से भी जाना जाता था) से बात हुई और मैं भी इस जत्थे में शामिल हो गया।

प्रश्न- झारखंड एभेन कैसे और कब बना?
उत्तर- 1989 ई. में झारखंड आंदोलन की सीमा एक तरह से स्पष्ट होने लगी थी और हम लोगों ने महसूस किया कि शिबू सोरेन और विनोद बिहारी महतो से आदिवासियों-मूलवासियों के सपनों का झारखंड का निर्माण संभव नहीं है। इसके लिए एक क्रांतिकारी धारा की जरूरत है और फिर अपने संगठन के नाम में भी ‘झारखंड’ दिखना चाहिए, फिर 30-31 अक्टूबर 1989 ई. में गिरीडीह जिला के इसरी बाजार में एक बैठक के जरिए ‘झारखंड एभेन’ का निर्माण किया गया।

प्रश्न- झारखंड एभेन को शुरुआत में किन समस्याओं का सामना करना पड़ा?
उत्तर- समस्याएं आईं लेकिन उतनी भी नहीं। हम लोग सभी गरीब परिवार से थे। आदिवासी भी थे और गैर आदिवासी भी हमारी टीम में थे। हम गरीबों की समस्याओं के बारे में जानते थे। हम लोगों ने उन्हीं की समस्याओं पर आधारित गानों की रचना की। संथाली में और खोरठा में भी गीत लिखे गए। शहर के लिए हिंदी में भी। जनता के घर में ही रहते थे, जो वो खाते थे, हम भी खाते थे। कभी-कभी भूखे भी रहना पड़ता था। जनता के साथ खेत में काम भी करते थे, क्योंकि दिन में सभी खेत में रहते थे, तो हम लोग भी वहीं चले जाते थे। उनकी मदद करते थे और गीत गाते थे। आज भी हमारे कई गीत जनता के मुंह पर है, वे धान रोपनी के समय हमारा ही गीत गाते हैं।

प्रश्न- आप लोगों ने झारखंड से बाहर कहां-कहां कार्यक्रम किया?
उत्तर- 1989 में केरल, 1993 में कलकत्ता, 1995 में बनारस, 1996 में दिल्ली और की तिथि तो याद नहीं है, लेकिन देश के लगभग सभी राज्यों में हमारी टीम ने कार्यक्रम किया है। पश्चिम बंगाल के ग्रामीण इलाके में तो हमारी टीम एक महीने तक रही थी।

प्रश्न- आपको गाना लिखने की प्रेरणा कहां से मिलती थी?
उत्तर- झारखंड में जब क्रांतिकारियों का आंदोलन मजबूत हुआ, गांव-गांव में क्रांतिकारी किसान कमिटी, नारी मुक्ति संघ बनना शुरू हुआ, तो खुद ब खुद नए-नए गाने विकसित होने लगे। गाना का निर्माण आंदोलन से ही हुआ।

प्रश्न- आपको पुलिस ने कब और कैसे गिरफ्तार किया?
उत्तर- 21 मई 2014 को मैं जंगल के रास्ते दूसरे गांव जा रहा था, बीच में ही पुलिस ने मुझे गिरफ्तार कर लिया और (हंसते हुए) माओवादी कमांडर घोषित कर दिया। थाना से लेकर जेल तक में लंबी पूछताछ और जमकर पिटाई भी की गई मेरी। मेरे पास से एक रिवाल्वर भी दिखाया गया। 29 अगस्त को ही जमानत पर छूटकर जेल से बाहर आया हूं। मैं जेल में भी अक्सर गाता था-
एक पागल आया रे
पागलखाना से जेलखाना में
एक थप्पड़ मारा तो, एक गीत गाया
दूसरा थप्पड़ मारा तो, फिर गीत गाया
अगर मेरे पास रिवाल्वर होता तो क्या होता ?
पुलिस की लाश होती और मैं आजाद होता…

प्रश्न- आज वर्तमान समय में झारखंड में संस्कृतिकर्मियों के सामने क्या चुनौती है?
उत्तर- झारखंड का मतलब ही है, यहां की बहुसंख्यक जनता, जिनका जीवन जल-जंगल-जमीन की लड़ाई के साथ ही जुड़ा हुआ है। आज चाहे केंद्र की मोदी सरकार हो या झारखंड की हेमंत सरकार, ये सभी झारखंडियों से उनकी जल-जंगल-जमीन ही छीन लेना चाहते हैं और जो भी जल-जंगल-जमीन पर झारखंडियों के अधिकार की बात करते हैं, उन पर ये सरकारें उग्रवादी का लेबल लगा देती हैं। झारखंड के संस्कृतिकर्मियों को सत्ताविरोधी ही नहीं बल्कि व्यवस्थाविरोधी भी होना होगा, उन्हें इस सड़ी-गली अर्द्धसामंती और अर्द्धऔपनिवेशिक व्यवस्था को ध्वस्त करने के लिए अपने गीतों और नाटकों यानी कि अपनी कला के जरिए नई पीढ़ी को तैयार करना होगा। संस्कृतिकर्मियों को झारखंड ही नहीं देश के पैमाने पर भी जल-जंगल-जमीन को बचाने की लड़ाई लड़ रहे आदिवासियों के साथ-साथ हरेक जनवादी आंदोलन के पक्ष में खड़ा होना होगा।

Donate to Janchowk!
Independent journalism that speaks truth to power and is free of corporate and political control is possible only when people contribute towards the same. Please consider donating in support of this endeavour to fight misinformation and disinformation.

Donate Now

To make an instant donation, click on the "Donate Now" button above. For information regarding donation via Bank Transfer/Cheque/DD, click here.

This post was last modified on February 28, 2020 10:31 am

Share