Thursday, February 9, 2023

मिर्जापुर में आकाशीय बिजली का कहर,  3 की मौत और 3 झुलसे

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

मिर्ज़ापुर। उत्तर प्रदेश के अंतिम छोर पर स्थित पहाड़, जंगल व अति पिछड़े जिले मिर्जापुर में बरसात से भले ही अभी लोगों को गर्मी और उमस से राहत नहीं मिल पाई है, लेकिन आकाशीय बिजली का ज़रूर खौफ देखने को मिल रहा है। जिले के लालगंज थाना क्षेत्र के कोठी गांव के कोल्हुआ मौजा में मंगलवार को दोपहर बाद 1.30 बजे आकाशीय बिजली की चपेट में आने से 6 लोग घायल हो गये। घायलों में 3 लोगों की मौत हो गई है। परिजनों की सूचना पर पहुंची एंबुलेंस सेवा से 3 गम्भीर रूप से घायलों को मण्डलीय अस्पताल ले जाया गया। जहां घायलों में से तीन को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

जानकारी के अनुसार कोल्हुआ मौजा निवासी फूल कुमारी पत्नी मोनू 25 वर्ष, रोहित पुत्र शिवकुमार 14 वर्ष, ममता पुत्री रमाकांत 12 वर्ष, मुन्ना पुत्र 8 वर्ष, ईश्वर पुत्र कमला उम्र 10 वर्ष, अनूप पुत्र राजू 12 वर्ष सभी ग्राम वासी कोल्हुआ मौजा के हैं। अपने घर से 200 मीटर दूर चौका नीम के पास मवेशी चराने के लिए गए थे कि मंगलवार को दोपहर बाद 1:30 बजे आकाशीय बिजली नीम के पेड़ पर गिरने से उसके नीचे मौजूद सभी 6 लोग गंभीर रूप से झुलस गए। जिसमें फूल कुमारी पत्नी मोनू, रोहित पुत्र शिव कुमार, ममता पुत्री रमाकांत को गंभीर अवस्था में एंबुलेंस की मदद से मण्डलीय अस्पताल भेजा गया। जहां पर मौजूद चिकित्सकों ने रोहित पुत्र शिवकुमार, ममता पुत्री रमाकांत, फुल कुमारी पत्नी मोनू निवासीगण कोल्हुआ को मृत घोषित कर दिया है। सूचना मिलने पर लहंगपुर चौकी की पुलिस मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल करने में  जुट गई। वहीं गंभीर रूप से घायलों का इलाज चल रहा है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई में जुट गई। मौत की खबर मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया है।

mirzapur2

आकाशीय बिजली से ग्रामीण हुए खौफजदा

मिर्जापुर के लालगंज कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत कोल्हुआ गांव में आकाशीय बिजली के खौफ से ग्रामीण दहशत में देखे जा रहे हैं। मृतक के परिजनों का जहां रो रो कर बुरा हाल होता है वही झुलसे लोगों के परिजन भी बेहाल हैं। आकाशीय बिजली की चपेट में आकर मरने वाले एवं झुलसे सभी लोग दलित परिवार के हैं। किसी प्रकार मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पालते आ रहे थे। मेहनत मजदूरी के साथ ही सभी मवेशी पालन के जरिए जीविकोपार्जन संचालित कर रहे थे। मंगलवार को दोपहर बाद भी मवेशियों को लेकर सभी गांव से बाहर उन्हें चलाने के लिए जा रहे थे और अचानक मौसम में परिवर्तन के बाद हल्की बूंदा-बांदी होने पर यह सभी नीम के पेड़ के नीचे आ गए थे कि तभी आकाशीय बिजली की चपेट में आ जाने से सभी झुलस गए।

mirzapur3

आंखों देखा मंजर देख कांप जाते हैं ग्रामीण

जिस स्थान पर आकाशीय बिजली गिरने की घटना घटित हुई है उससे कुछ ही मीटर की दूरी पर बस्ती के ही राजेंद्र मौजूद थे जो अपने मवेशियों को हांकने के लिए जा रहे थे कि तभी अचानक कुछ दूरी पर आकाशीय बिजली गिरने और छ: लोगों के झुलसने का आंखों देखा हाल देख कांप उठे थे। जिला अस्पताल पहुंचे राजेंद्र तीन लोगों की मौत हो जाने की खबर से मर्माहत होने के साथ ही साथ रोती बिलखती महिलाओं को चुप कराने में जुटे हुए थे तो खुद ही उनके आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे। लड़खड़ाती आवाज और बहते आंसुओं के बीच उन्होंने बताया कि कुछ समय पहले ही वह पहुंचे होते तो शायद वह भी आकाशीय बिजली का शिकार हो गए होते। इसकी कल्पना मात्र से ही वह कांप जाते हैं।

mirzapur4

बिन बारिश अचानक आकाशीय बिजली गिरने से सभी हैं चकित

अन्य दिनों की अपेक्षा मंगलवार को हालांकि मौसम साफ सुथरा था। आसमान में कहीं हल्के बादल घिरे हुए थे तो कहीं पूरी तरह से प्रचंड धूप और उमस का कहर जारी था। मौसम खुला होने की वजह से कोल्हुआ दलित बस्ती के लोग भी अपने-अपने मवेशियों को लेकर दोपहर में सिवान की ओर निकले थे। इसमें कुछ लोग आकाश में सूर्य देव के तेवर देखकर कड़ी धूप से बचने के लिए नीम के पेड़ के नीचे आ गए थे कि तभी अचानक आकाशीय बिजली गिरने से 6 लोग इसकी चपेट में आ गए।

(मिर्जापुर से संतोष देव गिरि की रिपोर्ट।)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

‘उफ़! टू मच डेमोक्रेसी’: सादा ज़बान में विरोधाभासों से निकलता व्यंग्य

डॉ. द्रोण कुमार शर्मा का व्यंग्य-संग्रह ‘उफ़! टू मच डेमोक्रेसी’ गुलमोहर किताब से प्रकाशित हुआ है। वैसे तो ये व्यंग्य ‘न्यूज़क्लिक’...

More Articles Like This