Sunday, November 28, 2021

Add News

कविता

सचमुच में गांव वाले मशालें लेकर उतर पड़े हैं: बल्ली सिंह चीमा

जनकवि बल्ली सिंह चीमा किसान आंदोलन की शुरुआत से ही इसमें शामिल हैं और अपने जनगीतों से इसकी धार और पैनी करते जा रहे हैं। पिछले दिनों वे बाजपुर में चल रहे आंदोलन में थे तो अगले हफ्ते भर...

पूंजी की सभ्यता-समीक्षा के कवि मुक्तिबोध

मुक्तिबोध गहन संवेदनात्मक वैचारिकी के कवि हैं। उनके सृजन-कर्म का केंद्रीय कथ्य है-सभ्यता-समीक्षा। न केवल कवितायें बल्कि उनकी कहानियां, डायरियां, समीक्षायें तथा टिप्पणियां सार रूप में सभ्यता समीक्षा की ही विविध विधायें हैं, वह जो उपन्यास लिखना चाहते थे,...

चंद्रकांत देवताले की पुण्यतिथिः ‘हत्यारे सिर्फ मुअत्तिल आज, और घुस गए हैं न्याय की लंबी सुरंग में’

हिंदी साहित्य में साठ के दशक में नई कविता का जो आंदोलन चला, चंद्रकांत देवताले इस आंदोलन के एक प्रमुख कवि थे। गजानन माधव मुक्तिबोध, नागार्जुन, शमशेर बहादुर सिंह, केदारनाथ अग्रवाल जैसे कवियों की परंपरा से वे आते थे।...

सोचिये लेकिन, आप सोचते ही कहां हो!

अगर दुनिया सेसमाप्त हो जाता धर्मसब तरह का धर्ममेरा भी, आपका भीतो कैसी होती दुनिया न होती तलवार की धारतेज़ और लंबीन बनती बंदूकेनहीं बेवक्त मरते यमनमें बच्चेरोहंगिया आज अपनेसमुद्र में पकड़ रहे होतेमछलियांईरान आज भी अपनेसमोसे के लिये यादकिया...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कोविड के यूपी मॉडल संबंधी आईआईटी कानपुर की रिपोर्ट को विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों ने बताया मैनिपुलेटेड

(आईआईटी कानपुर के एक प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल ने कोरोना से लड़ने के मामले में यूपी सरकार के तरीके को...
- Advertisement -spot_img