Sunday, November 28, 2021

Add News

पेरियार

अवसरवाद से पासवान नहीं बन सके, दलितों के पासबान

भारत में दलित राजनीति का एक विशेष अर्थ है और इसके विस्तार का इतिहास अतीत तक जाता है। इसमें संत और राजनीतिज्ञ दोनों सम्मिलित हैं। दलित आंदोलन और राजनीति भारत के महत्वपूर्ण विषयों में से एक अतिमहत्वपूर्ण विषय है।...

पेरियार पर आईं पुस्तकें बदलेंगी हिंदी पट्टी का दलित चिंतन

साहित्य के शोधकर्ताओं के लिए यह एक शोध का विषय है कि ईवी रामासामी पेरियार (17 सितंबर, 1879-24 दिसंबर, 1973) के मूल लेखन का कोई संग्रह आज तक उस तरह से हिंदी साहित्य में क्यों उपलब्ध नहीं था,...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कोरोना के ओमिक्रोन वैरियंट्स को लेकर तमाम राज्यों में अलर्ट, 9 देशों में फैला

कोरोना के दक्षिण अफ्रीकी वैरियंट्स ओमिक्रॉन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ख़तरनाक बताया है और इसे 'बेहद संक्रामक...
- Advertisement -spot_img