Sunday, November 28, 2021

Add News

मुक्तिबोध

पूंजी की सभ्यता-समीक्षा के कवि मुक्तिबोध

मुक्तिबोध गहन संवेदनात्मक वैचारिकी के कवि हैं। उनके सृजन-कर्म का केंद्रीय कथ्य है-सभ्यता-समीक्षा। न केवल कवितायें बल्कि उनकी कहानियां, डायरियां, समीक्षायें तथा टिप्पणियां सार रूप में सभ्यता समीक्षा की ही विविध विधायें हैं, वह जो उपन्यास लिखना चाहते थे,...

चंद्रकांत देवताले की पुण्यतिथिः ‘हत्यारे सिर्फ मुअत्तिल आज, और घुस गए हैं न्याय की लंबी सुरंग में’

हिंदी साहित्य में साठ के दशक में नई कविता का जो आंदोलन चला, चंद्रकांत देवताले इस आंदोलन के एक प्रमुख कवि थे। गजानन माधव मुक्तिबोध, नागार्जुन, शमशेर बहादुर सिंह, केदारनाथ अग्रवाल जैसे कवियों की परंपरा से वे आते थे।...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कोरोना के ओमिक्रोन वैरियंट्स को लेकर तमाम राज्यों में अलर्ट, 9 देशों में फैला

कोरोना के दक्षिण अफ्रीकी वैरियंट्स ओमिक्रॉन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ख़तरनाक बताया है और इसे 'बेहद संक्रामक...
- Advertisement -spot_img