Thursday, December 2, 2021

Add News

कृषि कानून खेत में बनेगा बीजेपी के कॉरपोरेट मित्रों के ड्राइंग रूम में नहीं: प्रियंका गांधी

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने फेसबुक पोस्ट लिख कर केंद्र की मोदी सरकार द्वारा किसानों से की जा रही अमानवीयता की तीखी आलोचना की है। उन्होंने सवाल उठाया है कि कृषि कानून किसानों के खेत से बनेंगे या भाजपा सरकार के चंद अरबपति मित्रों के ड्रॉइंग रूम में। प्रियंका ने भाजपा सरकारों और नेताओं द्वारा किसानों को अपमानित किए जाने की भी आलोचना की है।

किसान नेताओं और सरकार के दर्मियान शुक्रवार को हुई बातचीत भी बेनतीजा खत्म हो गई। इसी के बाद प्रियंका गांधी ने फेसबुक पर किसानों के समर्थन में एक पोस्ट डाली है। उन्होंने लिखा है, “किसान आंदोलन में किसानों और सरकार के बीच बातचीत का आज 8वां दौर खत्म हो गया। किसानों को आशा थी कि भाजपा सरकार अपनी कथनी के अनुसार किसानों का कुछ सम्मान तो करेगी, लेकिन हुआ इसके ठीक उलट। वार्तालाप करने वाले मंत्री मीटिंग में देर से पहुंचे और बिल वापस न लेने की बात करते रहे।”

उन्होंने लिखा है कि किसान सरकार के रुख से नाराज़ हैं। आज दोपहर में मैं किसानों के समर्थन में धरने पर बैठे पंजाब के सांसदों से मिली। पूरे दिन भर मैं भारत के हर कोने से इस किसान आंदोलन के समर्थन की आवाज सुनती रहती हूं।

प्रियंका गांधी ने पोस्ट में लिखा है, “26 जनवरी 2021 को हम अपने गणतंत्र दिवस को मनाएंगे। जब भी हम इस देश के जन गण मन की बात करते हैं उसमें किसान का जिक्र आना जरूरी हो जाता है। पूरे भारत के सांस्कृतिक, सामाजिक एवं राजनैतिक ताने-बाने का जिक्र किसान के बिना अधूरा है। भाजपा सरकार आज जिस ‘आत्मनिर्भर’ के नारे का झूठा ढोल पीट रही है, उस नारे को आत्मसात् करते हुए किसानों ने हरित क्रांति में हिस्सा लेते हुए खाद्यान्न के मामले में बहुत पहले भारत को आत्मनिर्भर बना दिया था। किसानों के बिना इस देश की कल्पना भी नहीं की जा सकती।”

उन्होंने पोस्ट में लिखा है कि आज इस पूरे आंदोलन में लगभग 60 किसानों की जान जा चुकी है। किसानों ने लाठियां खाईं, आंसू गैस के गोलों का सामना किया, वाटर कैनन को झेला, सरकारी तंत्र व पापी मीडिया के हिस्से द्वारा फैलाई गई गलत सूचनाओं का जवाब दिया, ठंड झेली, बारिश में भी डटे रहे। किसान अपनी सालों की मेहनत का हक लुटने से रोकने के लिए डटे हैं। इस धरती पर मेहनत करके अन्न उगाकर पूरे देश का पेट भरने वाले किसान आज इन कानूनों की सच्चाई बताने सड़कों पर हैं।

उन्होंने आगे लिखा है, “आज इस देश को ये सोचना है कि किसान कानून किसानों के खेत से बनेंगे या भाजपा सरकार के चंद अरबपति मित्रों के ड्रॉइंग रूम में। इस देश के किसानों ने, इस देश का कानून बनाने वाले कई सारे सांसदों व विधायकों ने व करोड़ों आमजनों ने किसानों पर थोपे जा रहे इन कानूनों को अलोकतांत्रिक व किसानों के खिलाफ बताया है, लेकिन भाजपा सरकार का व्यवहार देखकर पूरा देश हैरान है। कल यूपी से आए एक वीडियो में एक पुलिस वाला एक किसान को धमकाते हुए कह रहा था, ‘तुम्हारा छज्जा गिरा देंगे।’

कल कई जगहों पर किसानों को रोक कर उन्हें धमकाया गया। इसके पहले किसानों पर हरियाणा सरकार ने आंसू गैस के गोले बरसाए। यूपी में तो आंदोलनकारी किसानों की पहचान करने के लिए सरकार ने पूरा प्रशासनिक बल लगा दिया है। भाजपा नेता किसानों को बुरा-भला कह रहे हैं, गालियां दे रहे हैं।”

उन्होंने याद दिलाते हुए लिखा है कि हमारे प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू जी कहा करते थे कि सब कुछ इंतजार कर सकता है, लेकिन किसान नहीं। हमारे आज़ादी के नायक महात्मा गांधी जी, सरदार पटेल जी, जवाहर लाल नेहरू जी ने किसानों की आवाज का समर्थन किया और उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए।

फेसबुक पोस्ट में प्रियंका गांधी ने आखिर में लिखा है, “इस सरकार ने क्रूरता व निर्दयता की हदें पार कर दी हैं। आज किसानों के समर्थन में धरने पर बैठे पंजाब के सांसदों से मैंने यही कहा कि हम बिल्कुल पीछे नहीं हटेंगे। हम किसानों के साथ हमेशा रहे हैं। बिल्कुल पीछे नहीं हटेंगे। समाधान यही है कि कानून वापिस लें और कोई समाधान नहीं है। इसी समाधान में किसान और उसकी मेहनत का सम्मान है।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

किसान आंदोलन ने खेती-किसानी को राजनीति का सर्वोच्च एजेंडा बना दिया

शहीद भगत सिंह ने कहा था - "जब गतिरोध  की स्थिति लोगों को अपने शिकंजे में जकड़ लेती है...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -