Monday, January 24, 2022

Add News

यूपी के चार आला अफसरों को हटाने की चुनाव आयोग से सपा की गुहार

ज़रूर पढ़े

उत्तर प्रदेश, पंजाब, मणिपुर, गोवा और उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने तारीखों का ऐलान कर दिया है। सभी राज्यों में चुनाव 7 चरणों में निपटाए जाएंगी। सभी राज्यों में चुनाव की गिनती 10 मार्च को होगी। आपको बता दें, उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं जबकि उत्तराखंड में 70 सीटें हैं, इसके अलावा पंजाब में 117, मणिपुर में 60 तो गोवा में 40 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है। समाजवादी पार्टी (सपा) ने भारतीय निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर दो आईएएस और दो आईपीएस अधिकारियों, अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी; अतिरिक्त मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल; अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी) कानून एवं व्यवस्था प्रशांत कुमार और एडीजी, स्पेशल टास्क फोर्स अमिताभ यश को हटाने की मांग की है, ताकि उत्तर प्रदेश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित किया जा सके।

सपा सचिव राजेंद्र चौधरी द्वारा भेजे गए पत्र में आरोप लगाया गया है कि ये अधिकारी भाजपा कार्यकर्ताओं की तरह काम कर रहे थे। कहा गया है कि चूंकि ये अधिकारी प्रभावशाली पदों पर हैं, इसलिए स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव तब तक संभव नहीं होगा, जब तक उन्हें हटाया नहीं जाता।

बता दें कि यूपी में 7 चरणों में चुनाव होंगे। पहले चरण के तहत 10 फरवरी को वोटिंग होगी। दूसरा चरण 14 फरवरी, तीसरा चरण 20 फरवरी, चौथा चरण 23 फरवरी, 5वां चरण 27 फरवरी, छठा चरण 3 मार्च और 7वां चरण 7 मार्च को संपन्न होगा। 10 मार्च को मतगणना होगी और नतीजे आएंगे। यूपी विधानसभा का कार्यकाल 14 मई 2022 को पूरा हो रहा है। ऐसे में 14 मई से पहले हर हाल में विधानसभा और नई सरकार के गठन की प्रकिया पूरी होनी है।

यूपी में 10 फरवरी को पहले चरण का चुनाव, 14 फरवरी को दूसरे चरण का मतदान, 20 फरवरी को तीसरे चरण, 23 जनवरी को चौथे चरण का चुनाव, वहीं 27 फरवरी को 5वें चरण का चुनाव होगा। इसके अलावा छठे चरण का मतदान तीन मार्च और आखिरी और सातवें चरण का मतदान 7 मार्च को होगा। उत्तराखंड, पंजाब और गोवा में एक चरण में चुनाव होंगे। 14 फरवरी को इन तीनों राज्यों में वोटिंग होगी। मणिपुर में 27 फरवरी को पहले चरण का मतदान होगा, वहीं तीन मार्च को दूसरे चरण के लिए वोटिंग होगी।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा है कि इस बार 5 राज्यों की 690 विधानसभा क्षेत्रों के लिए चुनाव होंगे। इस बार पांच राज्यों के चुनाव में कुल 18.34 करोड़ मतदाता हैं, इनमें सर्विस मतदाता भी शामिल हैं। इनमें से 8.55 करोड़ महिला मतदाता हैं। कुल 24.9 लाख मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। इनमें से 11.4 लाख लड़कियां पहली बार वोटर बनी हैं। सभी बूथ ग्राउंड फ्लोर पर होंगे, ताकि लोगों को सुविधा हो। बूथ पर सैनिटाइजर, मास्क उपलब्ध होगा।

उन्होंने कहा कि कोविड सेफ इलेक्शन कराना चुनाव आयोग का उद्देश्य है। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि कोरोना काल में चुनाव कराना चुनौती पूर्ण है। चुनाव आयोग ने 3 लक्ष्यों पर काम किया है। ये लक्ष्य हैं कोविड से सुरक्षित चुनाव, आसान चुनाव, और मतदाताओं की ज्यादा से ज्यादा भागीदारी। चुनाव आयोग ने आज से 15 जनवरी तक रोड शो, रैली, साइकिल रैली पद यात्रा तक रोक पूर्ण रुप से रोक लगा दी है। 15 जनवरी के बाद इस पर विचार किया जाएगा।

चुनाव आयोग ने कहा है कि चुनाव प्रचार डिजिटल, वर्चुअल, मोबाइल के जरिए करें। फिजिकल प्रचार के पारंपरिक साधनों का इस्तेमाल कम से कम करें। इसके अलावा रात आठ बजे से सुबह आठ बजे तक कोई प्रचार, जन संपर्क राजनीतिक पार्टियां नहीं कर सकेंगी। विजय जुलूस नहीं निकाला जा सकेगा। विजयी उम्मीदवार दो लोगों के साथ प्रमाण पत्र लेने जाएंगे। पार्टियों को तय जगहों पर ही सभा करने की अनुमति होगी। सभी पार्टियों और उम्मीदवारों को अंडरटेकिंग देनी होगी कि वे कोविड गाइड लाइन का पालन सख्ती से करेंगे।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह का लेख।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कैराना में सांप्रदायिकता का जहर फैलाने की शाह ने थामी कमान!

2013 में सांप्रदायिक दंगे का दर्द झेलने वाला मुज़फ़्फ़रनगर जिले से सटे शामली जिले की कैराना विधानसभा एक बार...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -