ज़रूरी ख़बर

अर्णब की बढ़ी मुसीबतः टीआरपी घोटाले में 3,400 पन्नों की दाखिल की गई पूरक चार्जशीट

अर्णब गोस्वामी के रिपब्लिक टीवी की मुसीबतें दिनप्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं और उनके ग्रुप पर क़ानूनी शिकंजा कसता ही जा रहा है। मुंबई पुलिस ने सोमवार को रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास खानचंदानी, रोमिल रामगढ़िया सीसीओ  और बार्क के सीईओ पार्थो दासगुप्ता के खिलाफ टीआरपी मामले में 3,400 पन्नों की पूरक चार्जशीट दायर की है। सप्लिमेंटरी चार्जशीट में 59 गवाहों के बयान हैं, जिनमें 15 विशेषज्ञ शामिल हैं। इसमें फॉरेंसिक विशेषज्ञ भी शामिल हैं। मामले में आगे की पूछताछ जारी रहेगी।

मुंबई पुलिस ने चार्जशीट में आरोपी के रूप में रिपब्लिक टीवी की सीओओ प्रिया मुखर्जी को भी नामित किया गया है। चार्जशीट में एजेंसी ने दावा किया कि रामगढ़िया ने अपने लॉन्च के लगभग 40 सप्ताह बाद रिपब्लिक टीवी की टीआरपी में वृद्धि दिखाने के लिए रिपब्लिक टीवी के प्रतिद्वंद्वी चैनलों की टीआरपी रेटिंग में फेरबदल किया। चार्जशीट में आरोप है कि दासगुप्ता भी शामिल थे और आधिकारिक ईमेल आईडी और व्हाट्सएप चैट के माध्यम से रिपब्लिक टीवी के पदाधिकारियों के साथ बातचीत कर रहे थे। चार्जशीट में दावा किया गया है कि इन दोनों ने अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए ऐसा किया था।

इस बीच, न्यायिक हिरासत में रहने वाले दासगुप्ता ने मजिस्ट्रेट अदालत द्वारा उन्हें जमानत देने से इनकार करने के बाद सत्र अदालत से जमानत के लिए संपर्क किया है। याचिका पर 15 जनवरी को सुनवाई होगी।

बार्क ने हंसा रिसर्च ग्रुप के माध्यम से एक शिकायत दर्ज की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टेलिविज़न चैनल टीआरपी संख्याओं में हेराफेरी कर रहे हैं। हंसा, बार्क के वेंडरों में से एक है जो पैनल घरों या लोगों के मीटर के साथ जुड़ाव रखता है।

टीआरपी, जिसे कुछ घरों में दर्शकों के डेटा को रिकॉर्ड करके मापा जाता है, विज्ञापनदाताओं को आकर्षित करने के लिए महत्वपूर्ण है। पुलिस के अनुसार, इनमें से कुछ घरों को रिपब्लिक टीवी और कुछ अन्य चैनलों में ट्यून करने के लिए रिश्वत दी गई थी, हालांकि रिपब्लिक टीवी ने इन सभी आरोपों को नकारा है।

पूरक चार्जशीट में अपराध शाखा ने इस बात का सबूत पाया है कि बार्क के पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों ने उच्च राजस्व के लिए अपने दर्शकों की रेटिंग में हेरफेर करने के लिए रिपब्लिक चैनलों के सीईओ का समर्थन किया है। मुंबई पुलिस ने एफआईआर नंबर 843/2020 में एक पूरक आरोप पत्र दायर किया है, जो उनकी अपराध शाखा द्वारा कथित फर्जी टेलीविजन रेटिंग अंक घोटाले (टीआरपी घोटाला) को प्रकाश में लाया गया है।

पूरक आरोप पत्र में कहा गया है कि ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) के विकास एस खानचंदानी (अभियुक्त संख्या 13), एआरजी आउटलेयर मीडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, रोमिल वी रामगढ़िया (अभियुक्त संख्या 14) और पार्थो दासगुप्ता (अभियुक्त संख्या 15), ने अन्य आरोपियों के साथ मिलकर टीआरपी में हेरफेर करने के लिए वीवरशिप डेटा की हेराफेरी करने की साजिश रची, ताकि उनके चैनलों पर विज्ञापनों से अधिक से अधिक राजस्व हासिल किया जा सके।

पूरक आरोप पत्र में कहा गया है कि रिपब्लिक चैनल कथित तौर पर एक से अधिक चैनलों पर अपने समाचार चैनलों को प्रसारित करने के लिए दोहरे/प्रचार स्थानीय चैनल नंबर का उपयोग करने के लिए केबल ऑपरेटरों और मल्टी-सिस्टम ऑपरेटरों का भुगतान करके भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और कानूनी मामलों के जानकार हैं। वह इलाहाबाद में रहते हैं।)

This post was last modified on January 13, 2021 12:54 pm

Share
%%footer%%