Monday, October 25, 2021

Add News

कुंभ-2019: मठों और आश्रमों में ही रेवड़ियां नहीं बंटी, हेल्थ और सेहत के नाम पर भी हुईं भारी अनियमितताएं

ज़रूर पढ़े

कुम्भ 2019 में 4200 करोड़ के बजट में जमकर अनियमितता की गयी। अखाड़ों और मठों एवं आश्रमों को एक-एक करोड़ बनते गये जिस पर आयकर विभाग ने नोटिसें जारी करके खर्चे का विवरण माँगा है। इस बीच पता चला है कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम, नई-दिल्ली द्वारा निर्मित कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय, नैनी, इलाहाबाद में “हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र-नैनी,जनपद-प्रयागराज का शिलापट लगा हुआ है, जबकि नाम से ऐसा कोई संस्थान परिसर में है ही नहीं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि कुम्भ की बहती गंगा में कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय, नैनी, इलाहाबाद ने भी हाथ धो लिया है।

डा. एम.बी. सिंह, पूर्व-अध्यक्ष, यू.पी.ई.एस.आई. मेडिकल सर्विसेज एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम, नई-दिल्ली द्वारा निर्मित कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय, नैनी, इलाहाबाद जो उ.प्र. सरकार के श्रम-विभाग के अधीन क्रियाशील है, के मुख्य भवन के समक्ष एक शिलापट्ट लगा है, जिसमें लिखा है “हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र-नैनी, जनपद-प्रयागराज का लोकार्पण दिनांक 01 मार्च 2019, दिन शुक्रवार को योगी आदित्यनाथ द्वारा सम्पन्न किया गया ………”जबकि उक्त प्रांगण में उपरोक्त स्वास्थ्य केन्द्र के नाम से कोई संस्थान नहीं है। पूछ-ताछ पर पता चला कि पूरे नैनी शहर में इस प्रकार का कोई हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर नहीं है।

डॉ. एम.बी.सिंह ने सूचना के अधिकार के अधीन शासन के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से ऑनलाइन पंजीकरण सं.DPTMH/R/2020/80019 dated 17/6/20 & DPTMH/A/2020/60047 dated 25/7/20 के द्वारा उपरोक्त लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन-स्थल, लोकार्पित “हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र” का वास्तविक स्थल तथा उपरोक्त शिलापट्ट कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय, नैनी, प्रयागराज में लगाये जाने के कारण की सूचना मांगी।

इसके जवाब में श्री प्राणेश चंद्र शुक्ला, उप-सचिव ने अपने पत्र नवम्बर, 2020 के द्वारा मुख्य चिकित्सा अधिकारी, प्रयागराज को उक्त सूचना उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उक्त के क्रम में जन सूचना अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय प्रयागराज ने अपने पत्र दि.2/12/20 के द्वारा चिकित्सा अधीक्षक, कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय, नैनी, इलाहाबाद को उपरोक्त सूचना उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। 

चिकित्सा अधीक्षक, कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय, नैनी ने उपरोक्त पत्र का जवाब अपने पत्र दि. 28/12/20 के द्वारा देते हुये बगैर अनुमति के लगाये गये उपरोक्त शिला-पट्ट को हटाने तथा डॉ एम.बी.सिंह द्वारा निवेदित सूचना अपने स्तर से निस्तारित करने का निर्देश दिया।

अभी भी सूचना के अधिकार के अधीन समुचित जानकारी नहीं दी गयी। इससे स्पष्ट है कि उपरोक्त प्रकरण में शिला-पट्ट के अलावा कुछ भी सच नहीं है। डॉ एम.बी.सिंह ने मुख्यमंत्री से उपरोक्त प्रकरण की उच्च स्तरीय त्वरित जाँच कराने का अनुरोध किया है।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने ईडब्ल्यूएस-ओबीसी आरक्षण की वैधता तय होने तक नीट-पीजी काउंसलिंग पर लगाई रोक

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को एनईईटी-पीजी काउंसलिंग पर तब तक के लिए रोक लगाने का निर्देश दिया, जब तक...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -