विदेशी मोर्चे पर भारत को बड़ा झटका, ईरान स्थित चाबाहार रेलवे प्रोजेक्ट से हुआ बाहर

नई दिल्ली। भारत को बाहर के निवेश में अब तक का सबसे बड़ा धक्का लगा है। चाबाहार के रेलवे प्रोजेक्ट से ईरान ने उसे बाहर कर दिया है। चाबाहार से जेहदान तक जाने वाली इस रेलवे लाइन का निर्माण अब बगैर किसी भारत की सहायता के होगा। बताया जा रहा है कि ऐसा फंडिंग में देरी के चलते हुआ है। फेस वैल्यू पर भले ही इसको प्रमुख वजह बतायी जा रही हो लेकिन पर्दे के पीछे भारत और ईरान के बीच के बिगड़ते रिश्तों और चीन का हाथ होने की बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। 

इस त्रिपक्षीय प्रोजेक्ट पर चार साल पहले हस्ताक्षर हुआ था। इसमें भारत और ईरान के अलावा अफगानिस्तान भी शामिल था। इसके तहत ईरान से अफगानिस्तान होते हुए सेंट्रल एशिया तक एक वैकल्पिक रेलवे मार्ग तैयार होना था।

हिंदू में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक 400 मिलियन डॉलर का यह पूरा प्रोजेक्ट मार्च तक पूरा होगा और उसके लिए ईरानियन नेशनल डेवलपमेंट फंड फंडिंग करेगा। यह डील पीएम नरेंद्र मोदी के 2016 के तेहरान दौरे के दौरान फाइनल हुई थी। जिसमें उन्होंने ईरान के राष्ट्रपति हसन रौहानी और अफगानिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किया था।

इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन लिमिटेड (आईआरसीओएन) ने 1.6 बिलियन डॉलर मुहैया कराने के अलावा रेलवे प्रोजेक्ट में पूरी सहायता करने का भरोसा दिलाया था। हालांकि ईरान पर अमेरिका द्वारा प्रतिबंध लगाने के चलते यह काम नहीं शुरू हो पाया था।

और जब अमेरिका ने इस विशिष्ट रेलवे लाइन प्रोजेक्ट को छूट दी तो भारत के लिए साजो-सामान सप्लाई करने वालों को ढूंढ पाना मुश्किल हो गया। क्योंकि वे सभी अमेरिका द्वारा किसी कार्रवाई की आशंका से डरे हुए थे।

यह पूरी प्रगति उस समय हुई है जब ईरान चीन के साथ 25 सालों का आर्थिक और सुरक्षा साझीदारी करने जा रहा है। यह डील बताया जा रहा है कि 400 बिलियन डालर की होगी।

Related Post

अगर चीन और ईरान के बीच यह डील फाइनल हो जाती है तो ईरान के बैंक, टेलीकम्युनिकेशन, पोर्ट, रेलवे और ढेर सारे प्रोजेक्टों में चीन की उपस्थिति हो जाएगी।

उसके बदले में चीन अगले 25 सालों तक सस्ते दर पर नियमित रूप अबाध तेल हासिल करेगा। 18 पेज के इससे संबंधित दस्तावेज में दोनों देशों के बीच गहरे सैन्य सहयोग की भी बात की गयी है।

इस बात को ध्यान में रखते हुए कि ईरान भारत का अहम सामरिक सहयोगी था यह डील भारत के हितों को इस इलाके में चोट पहुंचा सकती है। खास कर ऐसे समय में जबकि सीमा पर गतिरोध के चलते भारत और चीन के बीच रिश्ते बेहद खराब हो गए हैं।  

ईरानी राष्ट्रपति रौहानी ने कैबिनेट की बैठक में कहा कि इस कैलेंडर साल के मार्च तक रूट पर रेल ट्रैक बिछाने से लेकर दूसरे महत्वपूर्ण काम पूरे कर लिए जाएंगे। और पूरा प्रोजेक्ट अगस्त 2021 तक तैयार हो जाएगा। 610 किमी लंबे इस प्रोजेक्ट को अफगानिस्तान के लिए जीवन रेखा मानी जा है। लाइन पर ट्रैक बिछाने का काम शुरू हो गया है।

Share
Published by

Recent Posts

उनके राम और अपने राम

संघ संप्रदाय अपनी यह घोषणा दोहराता रहता है कि अयोध्या में जल्दी ही श्रीराम का…

5 hours ago

अब डीयू के प्रोफेसर अपूर्वानंद निशाने पर, दिल्ली पुलिस ने पांच घंटे तक की पूछताछ

नई दिल्ली। तमाम एक्टिविस्टों के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अब दिल्ली विश्वविद्यालय…

6 hours ago

अयोध्या में शिलान्यास के सरकारी आयोजन में बदलने की मुखालफत, भाकपा माले पांच अगस्त को मनाएगी प्रतिवाद दिवस

लखनऊ। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) आयोध्या में पांच अगस्त को राम मंदिर भूमि पूजन…

7 hours ago

किसी एक के नहीं! तुलसी, कबीर, रैदास और वारिस शाह सबके हैं राम: प्रियंका गांधी

पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास है। उससे एक दिन पहले कांग्रेस…

8 hours ago

इब्राहिम अलकाज़ी: एक युग का अंत

भारतीय रंगमंच के दिग्गज निर्देशक इब्राहिम अलकाज़ी का आज 94 वर्ष की आयु में निधन…

9 hours ago

अवमानना मामला: पीठ प्रशांत भूषण के स्पष्टीकरण पर करेगी फैसला- 11 साल पुराना मामला बंद होगा या चलेगा?

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार 4 अगस्त, 20 को वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण के विरुद्ध वर्ष…

10 hours ago

This website uses cookies.