Wednesday, February 8, 2023

कस्तूरबा नगर पर DDA की कुदृष्टि, सर्दियों में झुग्गियों पर बुलडोजर चलाने की तैयारी?

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

60-70 साल पहले ये जगह एक मैदान थी जिसमें जगह-जगह तालाब थे। बड़े-बड़े घास, कुँए और कीकर के पेड़ थे। भेड़-बकरियां यमुना के किनारों से होते हुए उत्तर प्रदेश के पश्चिमी सीमा तक घास चरती थीं। 1947 के बंटवारे के बाद पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र से आये दलित लोगों को बसाने के लिए जगह की ज़रुरत पड़ी। देश की राजधानी की सीमा पर इस जगह को खाली पाकर सरकार ने लोगों को यहां बसने को कहा। इस इलाके को कस्तूरबा नगर का नाम भी मिला। आज इतने सालों बाद इन लोगों से प्रमाणपत्र और घर के काग़ज़ात मांगे जा रहे है। उनसे उनके यहाँ रहने के अधिकार पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (DDA) ने सवाल उठाया है।पिछले महीने, यानि अगस्त के पहले हफ्ते, उनके घरों के पास एक खभें पर अंग्रेजी में एक नोटिस चिपकाया गया। अंग्रेजी पढने वालों की मदद से वहाँ के निवासियों को पता चला की DDA ने उनके घरों को अवैध घोषित किया है। अवैध बता कर अब DDA इन घरों को तोड़ने वाली है। तब से कस्तूरबा नगर के लोग तनाव में है।

इसी जगह की कहानी बताते हुए, यहां के बड़े बुज़ुर्ग थकते नहीं। बंटवारे के बाद आये यह लोग 60-70 साल यहां रहने के बाद खुद को दिल्ली के निवासी मानते है। यही बात बताते हुए सुखविंदर कौ रकी 60 साल की बहन जिनकी शादी 40 साल पहले इस कॉलोनी के एक रिक्शाचालक से हुई, आज साग और सत्संग में खुश रहती है। जब अपने दर्द और दिक्कतों की बाते आगे आती है तब इतिहास को खंगालते हुए अपनी बात बताती है। “शादी के बाद हमे काम नहीं करने दिया गया। लेकिन आदमी के गुज़र जाने के बाद मैंने डोर-टू-डोर सामान बेचा और अपने सारे बच्चों को पढ़ाया। धीरे-धीरे पैसा इकठ्ठा करके इस घर की दिवार जोड़ी। यहां बहुत दुःख देखा है लेकिन यहां अपनी ज़िन्दगी भी बसी है। हम और कहाँ जायेंगे?… बुरा वक़्त काटा है इस घर में, भूखे भी रहे है”, ये कहते-कहते उनके अंदर की हलचल दिखाई दी। तत्काल उनकी सबसे बड़ी समस्या अपने छोटे लड़के की शादी है। वह बताती है कि, “मैंने रोका कराया और शादी की तैयारियां भी की। लेकिन अब लड़की वाले शादी तोड़ रहे है। यह कहके तोड़ रहे है कि लड़की को यहां कैसे भेजे जब घर ही नहीं रहेगा?”

घर टूटने के डर से उन्होंने आस-पास में किराए का घर ढूढ़ना शुरू कर दिया। किराया न दे पाने के कारण मकान मालिक उनका सामान वापिस नहीं कर रहा। लेकिन आंटी आज भी बार-बार अपने कस्तूरबानगर के घर को ही अपना मानना सही समझती है। “यहां इतनी उम्र देखली। अब मेरी उम्र काम करने की नहीं रही। अब बेघर होना कैसे संभव है?”

आवास की समस्या सिर्फ सिर के ऊपर एक छत की ही नहीं है बल्कि लोगों के आपस के रिश्ते, सुरक्षा और स्थिरता का भी सवाल है। बेघर होना महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को सबसे ज़्यादा असुरक्षित स्थितियों में डालता है। कस्तूरबा नगर के लोग सालों से एक दूसरे के ख़ुशी, दुःख-दर्द और सम्बंधों में घुल-मिल गए है। रिश्ते गहरे है। DDA के नोटिस के बाद इस कॉलोनी में पानी की समस्या बढ़ गयी है। आज जब पानी की समस्या इतनी ज़्यादा बढ़ गयी है कि 3 हफ़्तों से टैंकर के सहारे जी रहे है, लोग एक दूसरे के लिए मददगा है। जब पानी का अधिकार एक मौलिक अधिका रहै और सबके पास होना चाहिए, इस देश के राजधानी की एक कॉलोनी के लोग पानी के बिना एक दूसरे के सहारे बने हुए है। कस्तूरबा नगर के एक पक्के घर में रहने वाली 50 साल की महिला बताती हैं कि, “अब लोग एक दूसरे की मदद ले रहे है, अपने रिश्तेदारों या एक दूसरे से अब जनसेवा चल रही है। अगर आधी दिहाड़ी पानी भरने में जा रही है तो मज़दूरी करके क्या कमाएंगे?”

नोटिस आने के बाद पानी की समस्या बढ़ जाने पर उनका मानना है कि आज पानी की समस्या कल बिजली की भी होगी। वह मानती है कि, “इन्हीं गरीब लोगों के चलते इस कॉलोनी में रौनक है। अगर उनको हटाया जाए तो अपनी गली की क्या रौनक रहेगी ?” वह पूछती है कि, “जब मैं यहां शादी के बाद आई थी तब कुछ नहीं था यहां लोगों ने अपने मेहनत से घर-दुकान बनायी है। क्या तब गवर्नमेंट सोयी हुई थी? आज क्यों उनको हटा रही है?”

कस्तूरबा नगर एक तरफ से शिवम एन्क्लेव के बड़े फ्लैटों से घिरा हुआ है और दूसरे तरफ विश्वास नगर से। DDA का इरादा है कि विश्वास नगर से निकलने वाली 60 फुटा रोड कस्तूरबा नगर के घरों को तोड़ती हुई शिवम एन्क्लेव के बगल से निकल कर बाहर के चौराहे तक जाए। इसी के चलते 2019 में DDA ने अगस्त के पहले हफ्ते वहाँ के कई सारे झुग्गियों को तोड़ा। वहां के झुग्गियों में रहने वाले 55 साल के लाखन कबाड़ीवाले भैया ने बताया कि ये सब बड़े फ्लैट पिछले 30 साल में तेज़ी से बने है। इसके पहले यहां वह तालाब में मछली पकड़ते थे। DDA के द्वारा यहां लगभग 86 झुग्गियां तोड़ी गयी थी जिसमें उनकी भी एक झुग्गी थी। उस समय झुग्गियों में रहने वालों से उनका प्रमाण पत्र माँगा गया था। उनका रोज़गार यहीं था लेकिन पुलिस के आगे लड़ने की हिम्मत झुग्गी वालों की नहीं बन पायी। पैसे देने पर उनको पश्चिम दिल्ली के द्वारका में 35 गज के छोटे-छोटे फ्लैट मिले जिसमें एक पूरे परिवार को रहना था।

लाखन भाई मध्य प्रदेश के आदिवासी है। उनको 31,000 रुपए द्वारका के घर के लिए देने पड़े। आज उस घर में उनके दो बड़े बेटे ,उनकी पत्नी और बच्चे रह रहे है। जगह की कमी के कारण लाखन भाई और उनकी पत्नी वापिस कस्तूरबा नगर में अब से है। अन्य लोगों को द्वारका में घर के लिए 1,31,000 रुपए देने पड़े। तब भी रोज़गार के लिए लोगों को यहीं आना पड़ता है। जिनकी झुग्गी तोड़ी गयी उनमे से सभी को घर नहीं मिले। उनमे से अभी भी आसमा और हिना जैसे बहुत से परिवारों के लोग कस्तूरबानगर के पीछे की सब्ज़ी मंडी में रेहड़ी लगाते है। आसमा दीदी बताती है की, “मेरे पास सभी प्रमाणपत्र थे जैसे की राशनकार्ड, पहचानपत्र, बिजली का बिल, सीवर कनेक्शन आदि। DDA ने मेरे प्रमाण पत्र को इंकार करते हुए कहा की यह बहुत नए राशन कार्ड है”। यह तर्क आसमा दीदी को आज भी समझ नहीं आ रहा है। दूसरी तरफ हीना बताती है कि 1,31,000 रुपए देने के बाद भी उनको द्वारका में फ्लैट नहीं मिला । वह आज भी विश्वास नगर के झुग्गी में रहती है ।यह भेद भाव क्यों, ये सवाल सभी के जुबां पर है।

सरकार की PM-UDAY यानि प्रधानमंत्री अनाधिकृत आवास अधिकार योजना का ना राहै – ‘जहां झुग्गी, वहाँ मकान’। यह नारा न सिर्फ खोखला नज़र आ रहा है बल्कि इस योजना के ऊपर हाल ही में भ्रष्टाचार के आरोप भी लगे है। यह पता चल रहा है कि योजना के तहत घर के रजिस्ट्री के लिए 1 से 10 लाख रुपए घूस ली जा रही है। इन हालातों में दिल्ली विकास प्राधिकरण (DDA) के नोटिस पर भी सवाल उठते है। इतने सालों से बसे लोग जिनके सभी प्रमाण पत्र है और शहर की अन्य सुविधाऐं भी है, आज कैसे एक सड़क के नाम पर इन लोगों को उजाड़ा जा रहा है?

इसका जवाब बगल के शिवम एन्क्लेव से आता है। वहाँ के निवासियों की गाड़ियों के पार्किंग की जगह को अहमियत देते हुए DDA ने वहाँ से सड़क निकालने के बजाय उस रास्ते से सड़क निकालना सही समझा जहां कस्तूरबा नगर के गरीब मेहनतकश जनता सदियों से जी रहीहै। कस्तूरबा नगर की 60 साल की निवासी निर्मला और उनके बेटे अनिल बताते है कि DDA का नक्शा गलत है। वह राजनैतिक दबाव से बनाया गया है। निर्मला आंटी ने पूछा कि, “जब यहां सीवर लाइन है,सड़क बनी है, बिजली, पानी आदि के कनेक्शन हैl जब इतने सालों में ये सब सुविधाये यहां आयी है, आज क्यों इसे अवैद्य बताया जा रहा है?” वह बताती है कि, “अगर घर टूटेंगे तो लोग मरेंगे। मेरी भी एक विकलांग लड़की है । मेरे पैर सूजे रहते है। इस उम्र में मैं एक नया घर कैसे बना पाऊंगी?

उनकी पड़ोसन प्रीतो देवी उनकी बातों को जोड़ते हुई बताती है कि, “मारतो हर तरफ से गरीबों को ही पड़ रही है। गरीबों से ही कमा रहे है और उन्ही को मार भी रहे है। गरीब काम न करे तो क्या ये लोग रह लेंगे?… अगर टक्कर लेना है तो DDA कोठियों में रहने वालों से लें!” निर्मला आंटी की बेटी याद दिलाती है कि, “यह सारा घर मेहनत से बनाया गया घर है जिसको बनाने में लोगों ने अपनी उम्र लगा दी। यहां पीढ़ियां बसी हैं और पले-बड़े है। इतने बुढ़ापे में घर पे जीने के बजाय लोगों को बेघर किया जा रहा है। क्या ये न्याय है?”

विश्वास नगर का MLA ओम प्रकाश शर्मा खुद DDA का मेम्बर था और DDA की योजना को बढ़ाने का काम कर रहा था। इस माहौल में प्रीतो देवी का कहना है कि, “इंसाफ होना चाहिए” बड़े नेता और उनके लोगों के घरों में भी अवैद्य विस्तार किया गया है। उनके घर की अवैद्य जगह क्यों नहीं टूट रही? हम लोगों की तो थोड़ी-थोड़ी सी ही जग हहै। गरीब ही क्यों मारे जाते है? सदियों से हज़ारों बार गरीब लोगों को ऐसे ही निकालकर फेंका गया है। ये सब घर हमारी मेहनत से बने हैं।”

आज कस्तूरबा नगर के लोग विस्थापन का सामना क्यों कर रहे है? देश में जगह-जगह पर मेहनतकश लोगों को उनके बस्ती, कॉलोनी और घरों से झुग्गी और अवैद्य कॉलोनी हटाने के नाम पर विस्थापित किया जा रहा है। खदानों से संसाधनों की लूट के लिए या उनको देश से बाहर भेजने के लिए बड़े मल्टी-लेन हाईवे बनाने के नाम पर या हाइड्रो-पावर प्रोजेक्ट्स जैसी साम्राज्यवादी नीतियों के चलते इस देश के हज़ारों लाखों लोगों की जमीनें छीनी जा रही है। ये ही हज़ारों लाखों लोग इस देश के भीतर दुनिया के सबसे ज्यादा विस्थापित लोगों की संख्या में है। आज जब लोग शहर में काम के लिए आते है तब फिर स्मार्ट सिटी के नाम पर विस्थापित होते है। चाहे देहात में हो या शहर में, मेहनतकश लोगों को विकास के नाम पर हटाया जा रहा है। यह विकास सिर्फ साम्राज्यवादी पूंजी और उनके दलालों के लिए है।

दिल्ली जैसे शहर का विवादित ड्राफ्ट रीजनल प्लान-2041 यही दर्शाता है। इस प्लान के तहत झुग्गी-मुक्त शहर बनाकर एयर एंबुलेंस, हेलीटैक्सी, रोड, रेल और जलमार्ग के जरिये तेज गति संपर्क की परिकल्पना की गई है। तेज रफ्तार रेल के जरिये 30 मिनट में एनसीआर के बड़े शहरों के बीच आवागमन करने का विशेष उपाय करने पर जोर है। ये योजना सिर्फ उन लोगों के लिए है जो हवाई जहाज, बुलेट ट्रेन और बड़े कारों में सफर करते है। कस्तूरबा नगर,जो की नेशनल हाईवे 9(NH9) के पास पड़ता है और उत्तर प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्र से लगा हुआ है, एक मूल्यवान जगह बन चुका है। आज यह ज़मीन पूंजीपतियों और उनके दलालों के लिए अतिरिक्त मुनाफा कमाने का एक उपयुक्त ज़रिया है।

MCD और DDA जैसे संस्थाएं आज के राजनैतिक दलों के नेतृत्व में कॉर्पोरेट-दलाल-सामंती गठजोड़ को मजबूती से बनाये रखने का काम कर रही हैं। अवैद्य कॉलोनियों का डेमोलिशन एक राजनैतिक हत्या है। ऐसा सिर्फ कस्तूरबा नगर में ही नहीं, बल्कि दिल्ली के अन्य जगहों जैसे खोरी,ग्यासपुर, मदनपुर खादर, जहांगीरपुरी, शाहबाद डेरी, बाबरपुर, सुन्दरनगरी आदि कई जगहों पर हो रहा है।

आज DDA हो या सरकार की और कोई इकाई, जन-विरोधी कायदे-कानून लागू कराने पर डटी है। इसके खिलाफ कस्तूरबा नगर के लोग अपने इतिहास और सामूहिक एकता के बल पर खड़े हैं। 26 साल के विक्की और उनके जैसे युवा कस्तूरबा नगर के निवासियों में से ऐसे हैं जो सामूहिक तरीके से समस्यायों के हल ढूंढ रहे हैं। चाहे वह पानी का टैंकर हो या डेमोलिशन के खिलाफ एकता, विक्की का कहना है कि एकजुटता ही हमें आगे ले जाएगी।

“झुग्गियां टूटते समय अगर एकजुट होते तो शायद आज ये नौबत आयी न होती”, यह सोच आज व्यापक है। कॉलोनी के युवा और छात्र इस एकजुटता को बनाने की कोशिश में हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय का भगत सिंह छात्र एकता मंच (BSCEM) यहाँ सक्रिय है और निवासियों के साथ जनपक्षधरता और जुझारूपन के साथ जुड़ा है। संघर्ष और बदलाव की बात करते भगतसिंह की बात युवायों को आकर्षित कर रही है। 1929 में भगत सिंह ने कहा था “आमतौर पर लोग जैसी चीजें हैं उसके आदी हो जाते हैं। और बदलाव के विचार से ही कांपने लगते हैं। हमें इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना में बदलने की जरूरत है।”

चाहे DDA हो या जल विभाग, आज का युवा अन्याय के खिलाफ खड़े होने से डरता नहीं। प्रीतो देवी का यह कहना था कि, “इससे लड़ने का एकही रास्ता है, हमारी एकता! हम सबको सड़क पर उतर जाना है। अपने घरों को बचाने के लिए और अपने बच्चों के भविष्य के लिए कुर्बानी देनी पड़ सकती है। एक-आधे इस लड़ाई में जान भी दें लेकि हमारे बच्चे तो अच्छी ज़िन्दगी जियेंगे। जैसे चिड़िया सर्दियों के तैयारी में अपना घोसला बनाती है, उसी सर्दियों की तैयारी में हम सबने अपने घर जोड़ के बनाये है। अगर घर ही नहीं रहेगा तो हम कहाँ जायेंगे?”

(सुहाना रमेश की रिपोर्ट)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

अडानी समूह पर साल 2014 के बाद से हो रही अतिशय राजकृपा की जांच होनी चाहिए

2014 में जब नरेंद्र मोदी सरकार में आए तो सबसे पहला बिल, भूमि अधिग्रहण बिल लाया गया। विकास के...

More Articles Like This