Sunday, May 29, 2022

ड्रग माफिया काशिफ़ ख़ान समीर वानखेड़े का दोस्त है, वो क्रूज पर मौजूद था लेकिन समीर ने उसे गिरफ्तार नहीं किया : नवाब मलिक

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

2-3 तारीख को आर्यन को खींचकर एनसीबी के लॉकअप ले जाने वाला शख़्स केपी गोसावी जेल में है। फैशन टीवी का इंडिया हेड काशिफ़ ख़ान एक ड्रग माफिया है। वह पूरे देश में ड्रग व सेक्स रैकेट चलाता है। एनसीबी जोनल ऑफिसर समीर वानखेड़े की काशिफ़ ख़ान से दोस्ती है। उस दिन क्रूज पर काशिफ़ भी मौजूद था, लेकिन समीर वानखेड़े ने उसे गिरफ्तार नहीं किया था।- उपरोक्त आरोप आज सुबह आयोजित प्रेसवार्ता में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने लगाया है।

प्रेसवार्ता में क्रूज पार्टी में शामिल दाढ़ी वाले शख्स के नाम का खुलासा करते हुए उन्होंने कहा कि दाढ़ी वाला शख्स फैशन टीवी का इंडिया हेड काशिफ़ ख़ान है। वह ड्रग माफिया है और एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े का दोस्त है।

हालांकि, काशिफ खान के साथ नाम जुड़ने के बाद वानखेड़े ने किसी भी प्रकार की टिप्प्णी करने से इंकार कर दिया है। मीडिया के सवालों पर उन्होंने कहा है कि नवाब मलिक के आरोप झूठे हैं और वह कानूनी कार्रवाई करेंगे। जबकि वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव ने कहा है कि जब उनके परिवार में सब हिंदू हैं तो उनका बेटा कहां से मुस्लिम हो गया? उन्होंने कहा नवाब मलिक ऐसे ही बोलते रहे तो हमें उन पर मानहानि का केस करना ही पड़ेगा। उन्होंने कहा कि वो दलित हैं तो उनका बेटा मुस्लिम कैसे हो सकता है?

गौरतलब है कि नवाब मलिक ने वानखेड़े पर दलित का हक़ छीनकर नौकरी लेने का आरोप भी लगाया था। मलिक ने कहा था कि वानखेड़े ने नकली जन्म व जाति का सर्टिफिकेट लगाकर नौकरी पाई। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति फर्जी कागजातों के आधार पर अनुसूचित जाति के कोटे में नौकरी हासिल करता है, उसने एक दलित व्यक्ति का हक़ छीना है। इससे पहले उन्होंने ट्वीट करते हुए वानखेड़े की पहली शादी का फोटो भी जारी किया था। नवाब मलिक ने कहा कि वानखेड़े की आड़ में बीजेपी बॉलीवुड को बदनाम करके इसे कहीं बाहर ले जाना चाहती है। लेकिन उन्हें नहीं पता कि इसकी जड़ें कितनी गहरी हैं। मराठी मूल के लोगों ने इसे बनाने में जी-जान से कोशिश की थी।

बता दें कि स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल के आरोप के बाद भ्रष्टाचार और रिश्वत मामले में समीर वानखेड़े पर मुंबई पुलिस ने भी जांच शुरू कर दी है। पुलिस की ओर से इस मामले में चार सदस्यीय जांच समिति बनाई गई थी। वानखेड़े ने इस फैसले को मुंबई हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए याचिका दायर की थी। इसके बाद कोर्ट ने आदेश दिया था कि समीर वानखेड़े की गिरफ्तारी या कोई भी कार्रवाई के लिए मुंबई पुलिस को 72 घंटे पहले नोटिस देना होगा। इसके अलावा उन्होंने आरोपों की जांच स्वतंत्र जांच एजेंसी से कराने की मांग की थी। महाराष्ट्र के मंत्री का कहना है कि वानखेड़े बीजेपी का एजेंट है। वह महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश कर रहा है।

वहीं कौसर अली सैय्यद, एक व्यापारी और मौलाना ने नवाब मलिक के ख़िलाफ़ याचिका दायर करके कहा है कि मलिक एनसीबी का मनोबल गिरा रहे हैं।

(जनचौक ब्यूरो की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

मौजूदा समय में नहीं लड़ी जा सकती हैं अतीत की लड़ाइयां

ज्ञानवापी मस्जिद में पूजा करने के अधिकार की मांग करते हुए पांच महिलाओं द्वारा अदालत में प्रकरण दायर करने...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This