Subscribe for notification

स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के खिलाफ झारखंड में उबाल, 17 अक्तूबर को राजभवन मार्च

आठ अक्तूबर को झारखंड की राजधानी रांची से मुंबई एनआईए द्वारा भीमा कोरेगांव मामले में प्रसिद्ध मानवाधिकार कार्यकर्ता 83 वर्षीय फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के खिलाफ झारखंड में जबरदस्त उबाल है। प्रति-दिन कहीं ना कहीं विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। विरोध-प्रदर्शन की अगली कड़ी में 17 अक्तूबर को ‘स्टैंड फाॅर स्टेन स्वामी’ के बैनर तले विभिन्न राजनीतिक दलों व सामाजिक संगठनों के हजारों लोग रांची के जिला स्कूल से राजभवन तक ‘न्याय मार्च’ निकालेंगे।

मालूम हो कि 8 अक्तूबर को झारखंड के प्रसिद्ध मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी को भीमा कोरेगांव मामले में रांची के नामकुम स्थित ‘बगाईचा’ से गिरफ्तार कर लिया गया था और अगले ही दिन एनआईए की विशेष अदालत में पेश कर मुंबई के तलोजा जेल भेज दिया गया था। उनकी गिरफ्तारी की खबर जैसे ही देश में फैली, लोग सड़कों पर उतरकर विरोध-प्रदर्शन करने लगे।

9 अक्तूबर को ही रांची के अलबर्ट एक्का चौक पर सैकड़ों लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर फादर स्टेन स्वामी की रिहाई के साथ-साथ सभी राजनीतिक बंदियों की रिहाई, काला कानून यूएपीए को रद्द करने, भीमा कोरेगांव में हिंसा फैलाने वाले असली मुजरिम हिन्दुत्ववादी मिलिंद एकबोटे और संभाजी भिड़े को गिरफ्तार करने की मांग की गयी। बाद में देश के कई शहरों (पटना, कोच्चि, बंगलुरू, कोलकाता, हैदराबाद आदि) में भी विरोध-प्रदर्शन हुए, साथ ही साथ झारखंड के कई जिला मुख्यलयों में विभिन्न जनसंगठनों द्वारा विरोध-प्रदर्शन आयोजित किये गये।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, झारखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डा. रामेश्वर उरांव समेत कई सत्ताधारी विधायकों ने भी फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में बयान दिया और केन्द्र की फासीवादी मोदी सरकार के इस कदम को गलत और अन्यायपूर्ण करार दिया। इधर रांची में कोकर स्थित अमर शहीद बिरसा मुंडा समाधि स्थल पर 12 अक्तूबर को ‘स्टैंड फाॅर स्टेन स्वामी’ के बैनर तने कई सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने एक दिवसीय अनशन किया और अगले दिन से प्रतिदिन 2 से 5 बजे तक वहां पर धरना दिया जा रहा है। 13 अक्तूबर को ‘क्रिश्चियन यूथ एसोसिएशन’ ने रांची के अलबर्ट एक्का चौक पर फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के खिलाफ केन्द्र सरकार का पुतला फूंका।

14 अक्तूबर को रांची के अलबर्ट एक्का चौक पर ही ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम, झारखंड मुस्लिम सेन्ट्रल कमेटी, झारखंड यूथ फेडरेशन, एसोसिएशन फाॅर प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स समेत कई संगठनों ने फादर स्टेन स्वामी व उमर खालिद की गिरफ्तारी के विरोध में प्रदर्शन किया। 15 अक्तूबर को झारखंड क्रांतिकारी मजदूर यूनियन ने फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के खिलाफ राज्यव्यापी विरोध-प्रदर्शन किया, जिसमें गिरिडीह, बोकारो, रांची समेत कई जिलों में कई प्रखंड मुख्यालयों पर भी सैकड़ों लोग सड़क पर उतरे।

16 अक्तूबर को ‘रांची कैथलिक कलीसिया’ की अपील पर 4 बजे से 5.30 बजे शाम तक रांची के अलबर्ट एक्का चौक, सरजना चौक, डा. कामिल बुल्के पथ, डंगरा टोली चौक, कांटा टोली चौक पर फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में मौन मानव श्रृंखला बनायी गयी और शाम 5.30 बजे लोयोला मैदान में प्रार्थना सभा आयोजित की गई। 16 अक्तूबर को ही जमशेदपुर के साकची स्थित बिरसा चौक पर ‘झारखंड जनतांत्रिक महासभा’ द्वारा मानव श्रृंखला बनाकर फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी का विरोध किया गया।

कौन हैं फादर स्टेन स्वामी?

स्टेन स्वामी का जन्म 1937 में तमिलनाडु के त्रिची में हुआ था। वे अपनी युवा अवस्था में ही जेसुइट बने और 1957 में पूर्ण रूप से वंचितों और गरीबों के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिये और तब से अपना जीवन आदिवासी, दलित और वंचितों के अधिकारों पर काम करने में बिताया है। वे 1965 में पहली बार झारखंड के चाईबासा क्षेत्र में आये और तब से झारखंड के ही होकर रह गये। कुछ सालों बाद उन्होंने मनीला (फिलीपींस) में समाज शास्त्र में स्नातकोत्तर प्राप्त किया। इसके बाद वे वापस आकर कोल्हान के ‘हो’ आदिवासियों के साथ गांव में रहे, जहां वे आदिवासियों की जीवन दृष्टि व उनकी समस्याओं से अवगत हुए।

सामाजिक व्यवस्था और उसके आकलन को बेहतर तरीके से समझने के लिए वे 1974 में बेल्जियम में पढ़ने गये। वहां उन्हें पीएचडी करने का मौका मिला, लेकिन सामाजिक बदलाव को प्राथमिकता देते हुए वे भारत वापस लौट आए। अगले 15 सालों तक स्टेन ने बेंगलुरू के प्रसिद्ध शोध संस्थान इंडियन सोशल इंस्टीट्यूट (आईएसआई) में काम किया। यहां उन्होंने सैकड़ों युवाओं को वैज्ञानिक रूप से सामाजिक समस्याओं के आकलन पर प्रशिक्षित किया और जमीनी स्तर पर लोगों को मदद करने के लिए प्रोत्साहित किया।

1991 में वे पूर्ण रूप से झारखंड आ गये। उन्होंने चाईबासा में लगभग एक दशक तक आदिवासी अधिकारों पर काम किया और फिर रांची में ‘बगाईचा’ की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। ‘बगाईचा’ सामाजिक कार्यकर्ताओं, युवाओं और आंदोलनों के सहयोग और विभिन्न जन मुद्दों पर शोध का एक केन्द्र बना।

पिछले तीन दशकों से स्टेन जल, जंगल व जमीन पर आदिवासियों के संवैधानिक हक के लिए अडिग रहे हैं। उन्होंने विस्थापन, काॅरपोरेट द्वारा प्राकृतिक संसाधनों की लूट और विचाराधीन कैदियों की स्थिति पर बेहद शोधपरक काम किया है। वे 2016 में झारखंड की भाजपा सरकार द्वारा सीएनटी-एसपीटी कानून एवं भूमि अधिग्रहण कानून में हुए जनविरोधी संशोधनों को लगातार मुखरता से उठाते रहे हैं। उन्होंने भाजपा की रघुवर दास सरकार द्वारा गांव की जमीन को लैंड बैंक में डालकर काॅरपोरेट के हवाले करने की नीति की भी जमकर मुखालफत की थी।

वे लगातार संविधान की 5वीं अनुसूची एवं पेसा कानून के क्रियान्वयन के लिए भी आवाज उठाते रहे हैं। इन सभी मुद्दों से जुड़े विभिन्न जनांदोलनों एवं अभियानों में उन्होंने अपना पूरा सहयोग दिया। आदिवासी-मूलवासियों की पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था ग्राम सभा में उनका पूर्ण विश्वास है।

उन्होंने भूख से मौत, आधार कार्ड की समस्याएं व सांप्रदायिक हिंसा जैसे मुद्दों को भी प्रमुखता से उठाया है। देश में विस्थापन के खिलाफ जब ‘विस्थापन विरोधी जन विकास आंदोलन’ नामक संगठन का निर्माण हुआ, तो इसके संस्थापक सदस्यों में ये भी थे। माओवादी के नाम पर जेल में बंद आदिवासी-मूलवासियों पर भी इनका काम काबिलेतारीफ है, इन विचाराधीन बंदियों की रिहाई के लिए छेड़े गये अभियान में भी उन्होंने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

(रूपेश कुमार सिंह स्वतंत्र पत्रकार हैं और आजकल झारखंड के रामगढ़ में रहते हैं।)

Donate to Janchowk!
Independent journalism that speaks truth to power and is free of corporate and political control is possible only when people contribute towards the same. Please consider donating in support of this endeavour to fight misinformation and disinformation.

Donate Now

To make an instant donation, click on the "Donate Now" button above. For information regarding donation via Bank Transfer/Cheque/DD, click here.

This post was last modified on October 16, 2020 7:22 pm

Share