Saturday, January 22, 2022

Add News

प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र में उठाए गए मुद्दों पर बातचीत करे सरकार: एसकेएम

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

संयुक्त किसान मोर्चा ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बयान को संज्ञान में लिया, जहां उन्होंने विरोध कर रहे किसानों से आंदोलन समाप्त कर वापस जाने की अपील की है। संयुक्त किसान मोर्चा ने तोमर को याद दिलाया कि कई मुद्दे अभी भी लंबित हैं और उन्हें 21 नवंबर को एसकेएम द्वारा प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में स्पष्ट रूप से सूचीबद्ध किया गया है। सरकार को इन लंबित मुद्दों पर पांच सदस्यीय समिति के साथ चर्चा करनी चाहिए जो इस उद्देश्य के लिए कल एसकेएम की बैठक में गठित की गई है। संयुक्त किसान मोर्चा ने उम्मीद जताई है कि 7 दिसंबर से पहले केंद्र सरकार बातचीत कर बाकी सभी मुद्दों का सामाधान करेगी।

संयुक्त किसान मोर्चा का कहना है कि वह 21 नवंबर को प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र के आधार पर सरकार से लंबित मुद्दों पर बातचीत करने के लिए तैयार है तथा कल एसकेएम की बैठक में बातचीत के लिए पांच सदस्यीय समिति का गठन भी कर दिया गया है। संयुक्त किसान मोर्चा ने उम्मीद जाहिर की है कि 7 दिसंबर के पहले केंद्र सरकार बातचीत कर सभी बचे हुए मुद्दों पर चर्चा करेगी।

इस बीच, फर्जी पुलिस केस वापस लेने और शहीदों को मुआवजा देने के संबंध में हरियाणा एसकेएम की हरियाणा सरकार के साथ पहले दौर की बातचीत 3 दिसंबर को हुई है और इस मामले में कुछ प्रगति हुई है। पंजाब सरकार ने भी इस दिशा में ठोस आश्वासन दिए हैं। उत्तर प्रदेश और दिल्ली के साथ-साथ अन्य राज्यों में दर्ज मुकदमों की वापसी को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा सरकारों के निर्णय की प्रतीक्षा कर रहा है। संयुक्त किसान मोर्चा का मानना है कि 708 शहीद किसानों के मुआवजे की जिम्मेदारी के लिए केंद्र सरकार को आगे आना चाहिए।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में चल रहे आंदोलन के दौरान शुरू हुए सभी पक्के मोर्चे यथावत जारी हैं। वर्धा (महाराष्ट्र) में 357 दिन, सवाई माधोपुर (राजस्थान) में 321 दिन, सिवनी (मध्यप्रदेश) में 81 दिन, तथा रीवा (म.प्र.) में 337 दिन से धरना जारी है। पंजाब, हरियाणा सहित राज्यों में भी धरने यथावत जारी हैं तथा विभिन्न राज्यों में किसान संगठनों की आंदोलन के भावी स्वरूप को लेकर बैठकें और चर्चा का दौर जारी है।

किसान आंदोलन की जीत को लेकर रेवाड़ी सहित देशभर से किसान संगठनों द्वारा विजय जुलूस निकालने और समर्थन देने वाले नागरिक संगठनों का अभिनंदन करने की खबरें लगातार प्राप्त हो रही हैं। इस बीच आपको बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 7 दिसंबर को होगी जिसमें आंदोलन की भावी रूपरेखा तय की जाएगी।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पुरानी पेंशन बहाली योजना के वादे को ठोस रूप दें अखिलेश

कर्मचारियों को पुरानी पेंशन के रूप में सेवानिवृत्ति के समय प्राप्त वेतन का 50 प्रतिशत सरकार द्वारा मिलता था।...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -