27.1 C
Delhi
Wednesday, September 29, 2021

Add News

साबरमती आश्रम के बाजारीकरण की योजना के खिलाफ बुद्धिजीवियों और एक्टिविस्टों ने लिखा खत

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

गांधी थीम पार्क की प्रस्तावित योजना ने ‘गांधी की दूसरी हत्या’ की

महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम और म्यूजियम को ‘गांधी थीम पार्क’ के रूप में विकसित करने की केंद्र की 1200 करोड़ रुपये की परियोजना के विरोध में प्रकाश शाह, जी एन देवी, आनंद पटवर्धन, राम पुनियानी, राममोहन गांधी, जी जी पारिख, नयनतारा सहगल, रामचंद्र गुहा, जस्टिस ए पी शाह, राव साहेब कास्बे, दिलीप सिमियन, उत्तम काम्बले, अरुणा रॉय, शांता सिन्हा, संजय हजारिका, पी साईनाथ, हिंदल तैयब, अपूर्वानंद समेत क़रीब 150  इतिहासकार, नौकरशाह, न्यायविद, प्रोफेसर फिल्मकार, समाजिक कार्यकर्ता, पत्रकार, बुद्धिजीवी आदि ने एक पत्र पर हस्ताक्षर किया है।

पत्र में साबरमती आश्रम के इतिहास को याद दिलाते हुये बताया गया है कि अहमदाबाद में गांधी का आश्रम, जिसे साबरमती आश्रम के नाम से जाना जाता है, अंतरराष्ट्रीय महत्व का एक असामान्य स्मारक है। यह 1917 से 1930 तक गांधी का घर था। उन्होंने आश्रम से प्रसिद्ध दांडी मार्च का नेतृत्व किया और स्वतंत्रता प्राप्त होने तक आश्रम नहीं लौटने का संकल्प लिया।

नमक मार्च के बाद, गांधीजी ने 1933 में स्वतंत्रता संग्राम के एक हिस्से के रूप में आश्रम को भंग कर दिया। स्वतंत्रता के बाद गांधी के सहयोगियों और अनुयायियों ने आश्रम की इमारतों और भविष्य के लिए अभिलेखीय संपत्ति की रक्षा के लिए साबरमती आश्रम संरक्षण और स्मारक ट्रस्ट का गठन किया। आश्रम के अधीन पाँच और न्यास थे। वे स्वतंत्र रूप से अपनी गतिविधियों का संचालन करते थे। साबरमती आश्रम प्रिजर्वेशन एंड मेमोरियल ट्रस्ट गांधी और कस्तूरबा के आवास हृदय कुंज सहित इमारतों की देखभाल करता है।

पत्र में आगे आश्रम की पवित्रता और सादगी का उल्लेख करते हुये बताया गया है कि – “हृदय कुंज और स्मारक संग्रहालय रोजाना हजारों आगंतुकों का वास्तव में गांधीवादी अंदाज में स्वागत करता है, बिना किसी तलाशी या सुरक्षा जांच या सशस्त्र व्यक्तियों की निगरानी के। आगंतुक जगह के सौंदर्यशास्त्र, खुलेपन और पवित्रता को भी महसूस करते हैं। चार्ल्स कोरिया (Charles Correa) द्वारा 1960 के दशक की शुरुआत में डिजाइन किया गया संग्रहालय भवन उपरोक्त सभी मूल्यों को दर्शाता है और परिसर के एक अभिन्न अंग के रूप में सामने आता है। पास की सड़क से गुजरने वाला कोई भी व्यक्ति हृदय कुंज की संक्षिप्त यात्रा के लिए आ सकता है या सुविधा और उपलब्ध समय के अनुसार संग्रहालय की एक झलक देख सकता है।

गांधी थीम पार्क की योजना

पत्र के अगले हिस्से में प्रस्तावित गांधी थीम पार्क के पीछे की दक्षिणपंथी षड्यंत्रों को उजागर करते हुये बताया गया है कि – वर्तमान सरकार 1949 के ‘दृश्य स्वास्थ्य, शांति और अव्यवस्थित वातावरण’ को ‘पुनः प्राप्त’ करने और इसे 54 एकड़ में फैले ‘विश्व स्तरीय’ पर्यटन स्थल बनाने के लिए पूरी तरह तैयार है। इसने ‘गांधी आश्रम स्मारक और सीमा विकास परियोजना’ के लिए 1200 करोड़ रुपये के बजट की घोषणा की है। समाचार पत्रों की रिपोर्ट के अनुसार नव निर्मित ‘विश्व स्तरीय’ स्मारक में नए संग्रहालय, एक एम्फीथिएटर, वीआईपी लाउंज, दुकानें, फूड कोर्ट सहित अन्य चीजें होंगी।

रिपोर्ट्स में कहा गया है कि यह प्रोजेक्ट प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की सीधी निगरानी में होगा। यह देश में सभी गांधीवादी संस्थानों को उपयुक्त और व्यावसायीकरण करने की वर्तमान सरकार की रणनीति के अनुरूप है। इसका सबसे बुरा उदाहरण सेवाग्राम में देखा जा सकता है, लेकिन सबसे भयावह पहलू सभी गांधीवादी अभिलेखागार पर सरकार का नियंत्रण है। चूंकि महात्मा गांधी की हत्या उन तत्वों द्वारा की गई थी जिनकी विचारधारा अभी भी भारत में सत्ता में बैठे कुछ लोगों को प्रेरित करती है, इस खतरे का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है।

इसका प्रभावी ढंग से क्या अर्थ है ?

प्रस्तावित योजना गंभीर रूप से समझौता करती है और वर्तमान आश्रम, मुख्य रूप से हृदय कुंज, आसपास की इमारतों और संग्रहालय की पवित्रता और महत्व को कम करती है। कुल मिलाकर 1200 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट में आश्रम की सादगी पूरी तरह से खत्म हो जाएगी।

हृदय कुंज, अन्य ऐतिहासिक इमारतें और वर्तमान संग्रहालय, भले ही वे अछूते रहें, अब केंद्रीय नहीं रहेंगे बल्कि नए संग्रहालय, एम्फीथिएटर, फूड कोर्ट, दुकानों आदि द्वारा एक कोने में धकेल दिए जाएंगे।

हृदय कुंज और वर्तमान संग्रहालय तक आसान पहुंच अवरुद्ध हो जाएगी क्योंकि इससे गुजरने वाली सड़क बंद हो जाएगी। नए प्रवेश द्वार में कम से कम एक वीआईपी लाउंज और हृदय कुंज और वर्तमान संग्रहालय से पहले एक नया संग्रहालय होगा।

साबरमती आश्रम में हर साल लाखों भारतीय, विशेष रूप से स्कूली बच्चे और विदेशी आगंतुक आते हैं। पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए इस जगह को कभी भी ‘विश्व स्तरीय’ बदलाव की जरूरत नहीं पड़ी। जगह की प्रामाणिकता और सादगी के साथ गांधी का करिश्मा ही काफी है।

‘गांधी थीम पार्क’ की प्रस्तावित योजना में सबसे खराब बात यह है कि इसमें गांधी की दूसरी हत्या’ की कल्पना की गई है।

संक्षेप में, यदि परियोजना पूरी हो जाती है, तो गांधी और हमारा स्वतंत्रता संग्राम सबसे प्रामाणिक स्मारक हमेशा के लिए घमंड और व्यावसायीकरण में खो जाएगा।

हमें एकजुट होकर सामूहिक रूप से गांधीवादी संस्थानों के किसी भी सरकारी अधिग्रहण का विरोध करना चाहिये। साथ ही यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सरकार भारत और दुनिया भर के प्रतिष्ठित गांधीवादियों, इतिहासकारों और पुरालेखपालों के परामर्श से ऐसे संस्थानों के उचित रखरखाव और रखरखाव के लिए सार्वजनिक धन का उपयोग करना जारी रखे।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी कांग्रेस में शामिल

"कांग्रेस को निडर लोगों की ज़रूरत है। बहुत सारे लोग हैं जो डर नहीं रहे हैं… कांग्रेस के बाहर...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.