Friday, December 9, 2022

किसान मोर्चे ने पत्र लिखकर की राष्ट्रपति से केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा की बर्खास्तगी की मांग

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

(लखीमपुरखीरी की घटना से क्षुब्ध किसानों के संगठन संयुक्त किसान मोर्चा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर उनसे केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने की मांग की है। इसके साथ ही पत्र में उनके बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ 302 का मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार करने की मांग भा शामिल है। इसी कड़ी में कल गैरसंवैधानिक और आपत्तिजनक बयान देने वाले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को भी बर्खास्त करने की किसानों ने राष्ट्रपति से गुजारिश की है। पेश है किसान संगठन का पूरा पत्र-संपादक।)

4 अक्टूबर 2021
श्री रामनाथ कोविंद
राष्ट्रपति, भारत गणराज्य

विषय: लखीमपुर खीरी में किसानों की बर्बर हत्या पर कार्यवाही
वाया: जिलाधिकारी/उपयुक्त, …….…………………..

माननीय राष्ट्रपति जी,
कल 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी (उत्तर प्रदेश) में किसानों को रौंदकर दिनदहाड़े उनकी बर्बर हत्या करने की घटना से पूरा देश क्षुब्ध है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र “टेनी” के बेटे और उसके गुंडे साथियों ने जिस बेखौफ तरीके से यह कातिलाना हमला किया वह उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकार की एक गहरी साजिश दिखाता है। अजय मिश्रा पहले ही किसानों के खिलाफ भड़काऊ और अपमानजनक भाषण देकर इस हमले की भूमिका बना चुके थे। यह संयोग नहीं कि उसी दिन हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सार्वजनिक तौर पर अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को किसानों के खिलाफ लट्ठ उठाने और हिंसा करने के लिए उकसा रहे हैं।

इस घटना से यह साफ हो जाता है कि संवैधानिक पदों पर बैठे यह व्यक्ति अपने पद का उपयोग शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे अन्नदाता के विरुद्ध सुनियोजित हिंसा के लिए कर रहे हैं। यह कानून, संविधान और देश के प्रति अपराध है। इसलिए संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले के मुताबिक हम आपसे मांग करते हैं कि:

1. केंद्रीय राज्य गृह मंत्री अजय मिश्र टेनी को तुरंत अपने पद से बर्खास्त किया जाए और उनके विरुद्ध हिंसा उकसाने और सांप्रदायिक विद्वेष फैलाने का मुकदमा दायर किया जाए।

2. मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा “मोनू” और उसके साथी गुंडों पर तुरंत 302 (हत्या) का मुकदमा दर्ज हो और उन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाए।

3. इस वारदात की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एक एसआईटी द्वारा की जाय।

4. संवैधानिक पद पर रहते हुए हिंसा के लिए उकसाने के दोषी हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को उनके पद से बर्खास्त किया जाए।

हम हैं,

देश के नागरिक, देश के अन्नदाता

(संयुक्त किसान मोर्चा)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

गुजरात, हिमाचल और दिल्ली के चुनाव नतीजों ने बताया मोदीत्व की ताकत और उसकी सीमाएं

गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को आए। इससे पहले 7 दिसंबर को दिल्ली में...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -