Subscribe for notification

वाम दलों का हाथरस, बलरामपुर की घटनाओं पर प्रदेश भर में प्रदर्शन, लखनऊ में कई नेता किए गए गिरफ्तार

लखनऊ। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने हाथरस, बलरामपुर समेत यूपी में महिलाओं के साथ बलात्कार और हिंसा की बढ़ती घटनाओं के खिलाफ सीएम योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे की मांग की है। आज शुक्रवार को हजरतगंज में गांधी प्रतिमा के निकट प्रदर्शन कर रहे वाम नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने की कड़ी निंदा की है। पार्टी ने सभी की बिना शर्त रिहाई की मांग की है।

पार्टी ने हाथरस और बलरामपुर की घटनाओं के दोषियों को कड़ी सजा, हाथरस की 19 वर्षीय बलात्कार पीड़िता के शव का दाह संस्कार बिना परिवार वालों की सहमति के आधी रात को करने का आदेश देने वाले अधिकारियों, लड़की के पिता को धमकाने वाले डीएम और कार्रवाई में शिथिलता बरतने वाले एसपी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है। लखनऊ में गिरफ्तार प्रमुख लोगों में माकपा राज्य सचिव हीरालाल, माले राज्य स्थायी समिति के सदस्य रमेश सेंगर, राज्य समिति के सदस्य आरएस मौर्य, मंजू (ऐपवा), मधु गर्ग (एडवा), राजीव कुमार (आरवाईए), चंद्रभान, मधुसूदन (एक्टू) और रवि मिश्रा (सीटू) शामिल हैं। सभी को पुलिस इको गार्डन ले गई। वहां प्रदर्शनकारियों ने फिर से धरना शुरू कर दिया।

लखनऊ के अलावा, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, आजमगढ़, गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, मिर्जापुर, सोनभद्र, प्रयागराज, अयोध्या, रायबरेली, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, जालौन, मुरादाबाद, मथुरा और कई अन्य जिलों में भी संयुक्त प्रतिवाद कार्यक्रम हुए।

वाम दलों- भाकपा, माकपा, भाकपा (माले), फारवर्ड ब्लाक, एसयूसीआई (सी) और आरएसपी ने संयुक्त रूप से गांधी जयंती पर राज्यव्यापी विरोध का आह्वान किया था। आह्वान के साथ हाथरस, बलरामपुर, आजमगढ़ और भदोही में एक-के-बाद-एक हुई बलात्कार की घटनाओं पर सीएम के इस्तीफे की मांग की है।

This post was last modified on October 4, 2020 12:42 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Share
Published by