Subscribe for notification

“लंपट हिंदी एंकरों को देखकर मोदी के समर्थक भी रोते होंगे”

ट्रोल का नेटवर्क कितना विशाल हो चुका है आपको अंदाज़ा लगता ही रहता होगा। इन्हें लगता है कि ये जब चाहेंगे तभी कुछ भी फैला कर पहले दुनिया को अंधेरे में रखेंगे और फिर उसे कुएं में धकेल देंगे। मेरे मनीला पहुंचते ही एक योजना के तहत मेरा एक नए और पुराने वीडियो से एक-एक लाइन काटकर वीडियो तैयार किया गया। आपमें से कई जानते हुए भी झांसे में आ गए। दरअसल ये ट्रोल आपकी बुद्धि का अपमान करते हैं। उन्हें लगता है कि आपको कुछ भी झूठ परोसा जा सकता है। सोचिए ऐसे कितने झूठे मेसेज से आपका मत बन चुका होगा। मुझे पता है कि मेरा यह जवाब उन सभी लोगों तक नहीं पहुंच पाएगा जहां तक ट्रोल का मेरे ख़िलाफ़ तैयार किया गया प्रोपेगैंडा पहुंचा है।

दो दिन पहले मेरे बारे में एक वीडियो वायरल हुआ। इस वीडियो में ये दिखाने की कोशिश थी कि जीडीपी और अर्थव्यवस्था को लेकर 2013 में मेरा स्टैंड कुछ और था और 2019 में कुछ और हो गया। ये मुझे यूपीए सरकारपरस्त घोषित करने की कोशिश थी। पहली बात तो ये कि 27 फ़रवरी 2013 का ये वीडियो आप लिंक में देख सकते हैं। मुझे ज़्यादा कुछ कहने की ज़रूरत नहीं है। बीबीसी हिन्दी ने दोनों वीडियो को सुनने के बाद पूरी रिपोर्ट प्रकाशित की है। boomlive और alt news ने भी इस प्रोपेगैंडा का पर्दाफ़ाश किया है। peeing human के पेज पर भी है। कुणाल कामरा ने उस वीडियो को ट्विट किया है।

मुझे हैरानी ये है कि पिछले 5-6 साल से आईटी सेल मेरी पत्रकारिता में खोट निकालने की कोशिश कर रहा है लेकिन उन्हें एक भी वीडियो नहीं मिल पाया जिससे वे ऐसा साबित कर सकें। तभी उन्होंने चंद सेकेंड का एक सवाल काट कर ग़लत तरीक़े से पेश किया। ये ट्रोल सेना उन पत्रकारों की हरकत निकाले जो सरकार की ख़ुशामद में भांड हो गए हैं। मैं जानता हूं कि मोदी जी के समर्थक भी इन लंपट हिन्दी एंकरों को देखकर रोते होंगे। उन्हें भी अच्छा नहीं लगता होगा लेकिन वे इस वक्त मजबूर हैं।

दुख की बात है कि इस बार कुछ पत्रकारों ने भी इसे शेयर किया। ये पत्रकार इसका शिकार ही नहीं हुए बल्कि इसमें शामिल भी हुए। जो ग़लतफ़हमी का शिकार होता है वो ग़लती जानकर उसे सुधार लेता है। लेकिन ऐसा हुआ, नहीं हुआ। जैसा कि मैंने कहा है कि अपने वैल्यूज़ को बचाए रखना काफ़ी मुश्किल होता है तो मूल्य बचाने में मेहनत करने की बजाय क्यों ना दूसरे को मूल्यहीन पेश किया जाए। इन एंकरों को अपना वीडियो तो काटने की भी ज़रूरत नहीं पड़ेगी। ये तो स्वघोषित सरकारपरस्त हैं। रोज़ रात को फ़ैन्सी ड्रेस पार्टी के कपड़े पहनकर नौटंकी करते हैं। दास्तानें की जगह सफ़ेद जुराब को पहन लेते हैं। पांव की चीज़ हाथ में पहन रहे हैं। जल्दी ही ये क़मीज़ को पतलून की जगह पहनेंगे और पतलून को क़मीज़ बना लेंगे। जोकर सब।

आप मेरी बात याद रखिए। हिन्दी अखबार और चैनल आप सभी को झूठ से लैस कर रहे हैं ताकि आने वाली पीढ़ियां गटर में चली जाएं। आप मोदी जी को पसंद करते हैं उसके बहाने ये अपना कचरा आपके घरों तक पहुंचा रहे हैं।

ये पता लगाना बहुत मुश्किल काम नहीं था। जितनी देर में आप में से कइयों ने मुझ पर ऊंगली उठाने के लिए फ़ेसबुक पोस्ट किया, उतनी ही देर में ये पूरा वीडियो मिल जाता। खुद भी चेक कर सकते थे। शायद आप मेरे साथ खड़े होने में दबाव महसूस करते हैं और इसीलिए झट से इस नामालूम स्रोत से आयी वीडियो को शेयर कर दिया और सवाल पूछा ताकि आपके ट्रोल मित्रों को लगे कि आप तो निष्पक्ष हैं।

1 https://youtu.be/44EitRuQt68

2. https://www.boomlive.in/viral-clip-showing-ravish-kumars-2…/

3. Clipped video of Ravish Kumar’s 2013 program on the issue of economy circulated with a misleading narrative, journalists join in

4. https://www.altnews.in/clipped-video-of-ravish-kumars-2013…/

5. क्या रवीश कुमार के लिए 2013 में अच्छी थी 5% जीडीपी?
https://www.bbc.com/hindi/india-49608527o

अब आपके पास समय नहीं होगा लेकिन जिन-जिन ग्रुप से आप तक मेरे ख़िलाफ प्रोपेगैंडा पहुँचा है उन्हें ये लिंक भेज दें और बता दें कि उन्हें आई टी सेल ने उल्लू बनाया है। एक आदमी के ख़िलाफ़ पूरा सिस्टम लगा रखा है और वो सिस्टम आपकी मदद से बना है।

(यह टिप्पणी रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर की है।)

This post was last modified on September 8, 2019 8:47 am

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

नौजवानों के बाद अब किसानों की बारी, 25 सितंबर को भारत बंद का आह्वान

नई दिल्ली। नौजवानों के बेरोजगार दिवस की सफलता से अब किसानों के भी हौसले बुलंद…

41 mins ago

योगी ने गाजियाबाद में दलित छात्रावास को डिटेंशन सेंटर में तब्दील करने के फैसले को वापस लिया

नई दिल्ली। यूपी के गाजियाबाद में डिटेंशन सेंटर बनाए जाने के फैसले से योगी सरकार…

3 hours ago

फेसबुक का हिटलर प्रेम!

जुकरबर्ग के फ़ासिज़्म से प्रेम का राज़ क्या है? हिटलर के प्रतिरोध की ऐतिहासिक तस्वीर…

5 hours ago

विनिवेश: शौरी तो महज मुखौटा थे, मलाई ‘दामाद’ और दूसरों ने खायी

एनडीए प्रथम सरकार के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने आरएसएस की निजीकरण की नीति के…

7 hours ago

वाजपेयी काल के विनिवेश का घड़ा फूटा, शौरी समेत 5 लोगों पर केस दर्ज़

अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अलग बने विनिवेश (डिसइन्वेस्टमेंट) मंत्रालय ने कई बड़ी सरकारी…

8 hours ago

बुर्के में पकड़े गए पुजारी का इंटरव्यू दिखाने पर यूट्यूब चैनल ‘देश लाइव’ को पुलिस का नोटिस

अहमदाबाद। अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की साइबर क्राइम सेल के पुलिस इंस्पेक्टर राजेश पोरवाल ने यूट्यूब…

8 hours ago