Saturday, May 28, 2022

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कहा- देश में सभी को मुफ्त लगे कोरोना का टीका

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

लखनऊ। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कोविड 19 की दूसरी लहर के मद्देनजर स्वास्थ्य अधिकार के संदर्भ में दूसरी एडवाइजरी जारी की है। आयोग ने महामारी का मानवाधिकारों पर प्रभाव और भविष्य के परिणामों का आकलन करने के लिए विशेषज्ञों की टीम बनाई थी, जिसमें सामाजिक संस्थाओं, नागरिक संस्थाओं, स्वतंत्र विशेषज्ञ और संबंधित मंत्रालयों और विभागों के प्रतिनिधि शामिल थे।

समिति के आकलन और सिफारिशों के आधार पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कोविड 19 के संदर्भ में स्वास्थ्य अधिकार के बारे में पहली विस्तृत एडवाइजरी जारी की थी। इसी क्रम में वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर कोविड की दूसरी लहर के प्रभाव को ध्यान में रखते हुये दूसरी एडवाइजरी जारी की गई है।

एडवायरी में तत्काल कदम उठाने योग्य अनुशंसाएं की गई हैं-

  • ऑक्सीजन, आवश्यक दवाओं और उपकरणों की व्यवस्था: केंद्र और राज्य सरकारों/संघ शासित प्रदेशों को देश के सभी स्वास्थ्य सेवा प्रतिष्ठानों में ऑक्सीजन, आवश्यक दवाओं और उपकरणों की निरंतर, तत्काल और निर्बाध आपूर्ति करने के लिए समन्वय करना चाहिए। ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए विशेष व्यवस्था की जानी चाहिए।
  • देखभाल तक पहुंच सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी: कोई भी COVID-19 रोगी जो किसी भी सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधा पर पहुंचता है, तो उसे मुफ्त में उपचार मिलना चाहिए। यदि स्थिति के स्वास्थ्य की गंभीरता के लिए जरूरी देखभाल सेवाएं उपलब्ध नहीं है, तो स्वास्थ्य विभाग का यह दायित्व होगा कि वह दूसरे सर्वसुविधायुक्त अस्पताल में मरीज को स्वयं पहुंचाए। यदि COVID 19 रोगी किसी निजी अस्पताल में पहुंचता है, जहां भर्ती के लिए कोई खाली बिस्तर नहीं है, तब अस्पताल को आवश्यक सहायता/सहायता प्रदान करने के लिए सरकारी नोडल अधिकारी से संपर्क कर, जब तक उचित व्यवस्था नहीं की जाती है, तब तक निजी अस्पताल को नोडल अधिकारी द्वारा रोगी को उपलब्ध आपातकालीन स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया जा सकता है।
  • सभी स्वास्थ्य संस्थानों में उपलब्ध सेवाओं और बिस्तरों की जानकारी स्थानीय भाषा और अंग्रेजी में प्रदर्शित करना अनिवार्य है और साथ ही यह भी बताना है कि उक्त सेवाएं निःशुल्क हैं या सशुल्क हैं।
  • निजी स्वास्थ्य संस्थानों में मिलने वाली सेवाओं के शुल्क की निगरानी की जानी चाहिए और यह नियंत्रित होना चाहिए।
  • टीकाकरण: देश में सभी स्वास्थ्य सुविधाओं में COVID वैक्सीन का सार्वभौमिक कवरेज और गैर-भेदभावपूर्ण मूल्य निर्धारण होना चाहिए, और इस बात के लिए हर संभव प्रयास हो कि निजी या सार्वजनिक स्वास्थ्य स्थापना के बावजूद सभी के लिए टीकाकरण मुफ़्त किया जाना चाहिए।
  • COVID प्रोटोकॉल पर सार्वजनिक जानकारी: सभी COVID-संबंधित प्रोटोकॉल, जैसे शारीरिक गड़बड़ी, हर समय ठीक से मास्क पहनना, स्वच्छता, आईईसी (सूचना, शिक्षा और संचार) गतिविधियों, सामूहिक सभा पर प्रतिबंध लगाना, आदि का व्यापक और उचित रूप से प्रसार होना चाहिए। इन दिशा-निर्देशों के प्रभावी होने के लिए, चुने गए संदेशों और मीडिया को सामाजिक निर्धारकों की समझ पर आधारित होने के साथ-साथ आबादी के विभिन्न वर्गों में उचित रूप से उपयोग किए जाने लायक संभावित बाधाओं और उनके निदान पर भी आधारित होना चाहिए।
  • कोविड 19 की टेस्टिंग की पर्याप्त एवं समुचित एवं निशुल्क व्यवस्था सभी स्वास्थ्य संस्थानों में होना चाहिए।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

स्पेशल: ज्ञानवापी मामले में फव्वारे के पक्ष के लोगों की दलील, कहा-शिवलिंग में छेद नहीं होता

वाराणसी। बनारस के ज्ञानवापी मस्जिद में कथित ‘शिवलिंग’ की तरह की आकृति मिलने के बाद छिड़े चौतरफा विवाद के...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This