Sunday, December 5, 2021

Add News

नॉर्थ ईस्ट डायरीः सीएए विरोधी पार्टियां असम चुनाव में भाजपा को देंगी चुनौती

ज़रूर पढ़े

भाजपा, जो असम के तीन दलों के गठबंधन का नेतृत्व करती है, को आगामी चुनावों में राज्य की 126 सीटों में से 100 सीटें जीतने के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कड़ी चुनौती का सामना करना होगा। मोदी लहर को भुनाते हुए, उसने 2016 के चुनावों में सहयोगी असम गण परिषद (एजीपी) और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) के साथ मिलकर 86 सीटें जीती थीं। इसने पिछली कांग्रेस शासन के दौरान सत्ता-विरोधी लहर और कथित रूप से बड़े भ्रष्टाचार के आक्रोश को भुनाया था।

हालांकि, इस बार का राजनीतिक परिदृश्य पूरी तरह से अलग है। भाजपा को जिन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, वह विपक्षी दलों कांग्रेस और अल्पसंख्यक-आधारित अखिल भारतीय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के गठबंधन के रूप में आ रही हैं।

2016 के चुनावों में भाजपा ने 84 सीटों पर चुनाव लड़ा था और उसका वोट शेयर कांग्रेस के 31% की तुलना में 29.5% कम था। कांग्रेस ने 122 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 26 पर जीत दर्ज की थी। भाजपा-एजीपी-बीपीएफ का संयुक्त वोट शेयर 41.9% था, जो फिर से कांग्रेस-एआईयूडीएफ के 44% से कम था। 17 निर्वाचन क्षेत्रों में जो भाजपा ने जीता था, कांग्रेस और एआईयूडीएफ का संयुक्त वोट भगवा पार्टी से अधिक था। साथ ही, कांग्रेस और एआईयूडीएफ का संयुक्त वोट एजीपी की दो सीटों से अधिक था जो उन 14 सीटों में से थी जो क्षेत्रीय पार्टी ने जीती थी।

कांग्रेस और एआईयूडीएफ ने पिछले चुनाव में कोई गठबंधन नहीं किया था। अब जब वे एक साथ लड़ेंगे और सीट साझा करने की व्यवस्था होगी, तो इससे भाजपा विरोधी वोटों के विभाजन को रोकने की उम्मीद की जा सकती है। मोदी सरकार के नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ हुए आंदोलन की कोख से असम में दो दलों का गठन हुआ।

इन दोनों दलों ने इस साल अप्रैल-मई में राज्य में एक साथ विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए हाथ मिलाया है। असम जातीय परिषद (एजेपी) और राइजर दल (आरडी) ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन को चुनौती देने के लिए अपने गठबंधन में और अधिक दलों को शामिल करने की योजना बनाई है।

एजेपी के अध्यक्ष लुरिनज्योति गोगोई ने गुरुवार को आरडी प्रमुख अखिल गोगोई से मुलाकात की, जिन्हें दिसंबर 2019 से गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सीएए के खिलाफ आंदोलन के समय विरोध प्रदर्शन में उनकी भूमिका के लिए गिरफ्तार किया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है।

बैठक के बाद लुरिनज्योति गोगोई ने कहा, “यह पहली बार है जब हम अपनी पार्टियों के गठन और पदाधिकारियों के चुनाव के बाद मिले हैं। अखिल गोगोई को लंबे समय तक अलोकतांत्रिक तरीके से हिरासत में रखा गया है और उनको तुरंत रिहा किया जाना चाहिए।”

उन्होंने कहा कि हम अपनी पार्टी की स्थापना के बाद से कह रहे हैं कि एजेपी और आरडी दोनों एक साथ चुनाव लड़ेंगे और बैठक के बाद हम असम के लोगों को बता देना चाहते हैं कि गठबंधन का निर्णय अंतिम है। इस पर एक आधिकारिक घोषणा जल्द ही की जाएगी।

लुरिनज्योति गोगोई ने कहा कि क्षेत्रीय दल सत्तारूढ़ भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन को उखाड़ फेंकने के साथ-साथ कांग्रेस के प्रभाव को भी नकार देंगे, जिसने ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट, आंचलिक गण मोर्चा और तीन वामपंथी दलों के साथ गठबंधन किया है।

लुरिनज्योति गोगोई ने कहा, “कुछ लोग अगले चुनावों को त्रिकोणीय मुक़ाबले के रूप में चित्रित करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि यह राष्ट्रीय और सांप्रदायिक दलों के खिलाफ क्षेत्रीय ताकतों के बीच दो-पक्षीय मिकाबला होगा। हमारी तरह अखिल गोगोई भी कहते रहे हैं कि क्षेत्रीय दलों का कोई विकल्प नहीं है, और यह सुनिश्चित करने के लिए कि क्षेत्रीय वोटों में कोई विभाजन नहीं है, हमें साथ आने की जरूरत है।” लुरिनज्योति गोगोई ने कहा कि दो पहाड़ी जिलों कार्बी आंगलोंग और दीमा हसाओ में सीटों के लिए स्वायत्त राज्य मांग समिति के साथ भी उनका गठजोड़ होगा।

बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के साथ भी बातचीत चल रही है, जो राज्य में सत्तारूढ़ गठबंधन का एक हिस्सा है। दिसंबर में बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल के चुनाव में यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल के साथ भाजपा के गठबंधन के बाद बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट भाजपा का दामन छोड़ सकता है।

दिसंबर 2019 में सीएए के खिलाफ आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले दो छात्र संगठनों ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन और असम जातीयतावादी युवा छात्र परिषद ने एजेपी का गठन किया है। कृषक मुक्ति संग्राम समिति, एक किसान संगठन जिसने सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया, ने आरडी का गठन किया है।

(दिनकर कुमार द सेंटिनेल के संपादक रहे हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

नगालैंड के मोन जिले में सुरक्षाबलों ने 13 स्थानीय लोगों को मौत के घाट उतारा

नगालैंड के मोन जिले में सुरक्षाबलों ने 13 स्थानीय लोगों को मौत के घाट उतार दिया है। बचाव के लिये...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -