Friday, April 19, 2024

पीएम मुद्रा लोन के नाम पर चल रहा है देश में ठगी का धंधा

अरविंद कुमार पांडेय प्रयागराज जिले के फूलपुर तहसील के पाली गांव के निवासी हैं। कोरोनाकाल में आए दिन अख़बारों में नए रोजगार शुरु करने वालों का जिक्र पढ़ सुनकर और ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा कुछ बेरोजगारी लोगों द्वारा नया रोजगार शुरू करने की तारीफ़ सुनकर अरविंद कुमार के बेरोज़गार मन में भी कुछ रोजगार शुरू करने का विचार आया। 14 अगस्त को उन्होंने गूगल पर प्रधानमंत्री बिजनेस लोन योजना 2020 सर्च किया तो सिलसिलेवार कई साइट सामने आ गयीं।

फिर उन्हें याद आया कि प्रधानमंत्री ने मात्र 59 मिनट में लोन मिलने की बात कही थी। तो अरविंद कुमार ने सामने मोबाइल के टूटे स्क्रीन पर दिख रही www.psbloanin59minutes.com पर क्लिक किया। जिस पर हेडिंग ही थी- “Apply for small business” फिर एक दूसरे लिंक पर गए www.onlineloanhub.com वहाँ ऊपर Eudhar लिखा था और नीचे फॉर्म जैसा कुछ भरना था। उन्होंने भरकर सबमिट कर दिया। थोड़ी देर बाद ही उनके नंबर पर बजाज फिनजर्व, रिलायंस फाइनेंस लिमिटेड और टाटा कैपिटल के एजेंट के कॉल आने लगे।

उन लोगों ने अपने वॉट्सअप पर ज़रूरी कागज़ मँगवाए जिसमें पैन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक स्टेटमेंट, चेक के फोटोकॉपी और एक पासपोर्ट साइज फोटो शामिल था। अरविंद कुमार के पास अपने एकाउंट का चेकबुक और पैन कार्ड नहीं था तो उन्होंने अपने पिता दीना नाथ पांडेय का सारा डॉक्युमेंट भेज दिया। डॉक्युमेंट मांगने के 15-20 मिनट में फोन आया कि आपका लोन एप्रूवल हो गया है। वॉट्सअप पर एप्रूवल लेटर भेज दिया है। चेक कर लीजिए और कॉल करिए। 

कॉल बैक करने पर एजेंट ने बताया कि आप एप्रूवल लेटर में बतायी गयी रकम ( रिलायंस में 5500, बजाज 5500, टाटा कैपिटल में 5200) उसमें दिए एकाउंट में डाल दीजिए। रकम आने के 5 मिनट बाद ही 10 लाख आपके खाते में डाल दिया जाएगा। 

अरविंद कुमार बताते हैं कि- “तीनों कंपनियों का ब्याज दर और ईएमआई एमाउंट में तुलना करने के बाद मैंने बजाज फिनजर्व को चुना। बजाज फिनजर्व के एजेंट राकेश कुमार दशोरा द्वारा लगातार दो मोबाइल नंबर 7044425275, 7044425261 से कॉल आ रहा था। ट्रू कॉलर में दोनो नंबर पर बजाज फिनजर्व लिमिटेड लिखकर आ रहा था। माँगने पर उसने अपना आधार कार्ड और बजाज फिनजर्व का आईकार्ड भी मेरे नंबर पर वॉट्सअप किया। इसलिए मुझे विश्वास हो गया कि ये बजाज फिनजर्व का ऑथेंटिक एजेंट है।

हालांकि मैंने तब भी उससे कहा कि आप लोग बिना जमीन पर आकर मेरा वेरीफिकेशन किए ऐसे कैसे लोन दे रहे हैं? तो उसने कहा कि आपने जो कागज भेजे हैं उससे वेरीफिकेशन कर लिया है। एजेंट से बात करके मैंने उसके द्वारा उपलब्ध कराए गए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के बैंक खाते ( Name- Bajaj Finance Ltd, A/c 20355884065, IFSC- SBIN0000303 ) में 5500 रुपए डाल दिए। 

अरविंद आगे बताते हैं कि “पैसा डालने के 10 मिनट बाद एजेंट का दोबारा कॉल आया कि 18000 रुपए जीएसटी जमा कीजिए। तब पैसा जाएगा आपके एकाउंट में। तो मैंने कहा कि आपने पहले तो ये बात नहीं बतायी थी। तो उसने कहा कि एमाउंट ज़्यादा है इसलिए जीएसटी लग रहा है। आप डाल देंगे तो जीएसटी का पैसा वापस आपके 10 लाख के लोन में जुड़कर आपके खाते में चला जाएगा।” 

उसके जवाब में अरविंद ने कहा कि “आपने पहले नहीं बताया था ये तो धोखा है। आप मेरा 5500 रुपए वापस कीजिए वर्ना मैं आपके खिलाफ़ एफआईआर दर्ज़ करवाऊंगा। तो एजेंट ने कहा पैसा वापस नहीं हो पाएगा।”

अरविंद आगे बताते हैं, “फिर एक घंटे बाद कॉल करने पर उसने कंपनी का एक टॉल फ्री नंबर (18001036476) उपलब्ध करवाया और कहा कि आप इस पर बात कर लीजिए। 18 हजार के बजाय 9 हजार करवा दीजिए आपका लोन पास करवा दूँगा। जब मैंने टॉल फ्री नंबर पर कॉल किया तो उधर रिसीव करने वाले पुरुष ने कहा कि आपको दिक्कत क्या है जितना वो कह रहे हैं आप जमा कर दीजिए आपका पैसा वापस आ जाएगा।”

बजाज फिनजर्व, टाटा कैपिटल, रिलांयस फाइनेंस के नाम से घूम रहे ठग

अरविंद कुमार पांडेय के उपलब्ध करवाए कथित एप्रूवल लेटर बाकायदा टाटा कैपिटल, बजाज फिनजर्व और रिलायंस फाइनेंस लिमिटेड के लेटर हेड पर हैं। जिसमें प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना भी छपा हुआ है। फर्जी एजेंटों के आई कार्ड तक बने हुए हैं। उनके द्वारा कंपनी के टॉल फ्री नंबर मुहैया करवाए जाते हैं जिसमें डायरेक्ट कॉल रिसीव करके बात की जाती है। 

सरकारी और ग्रामीण बैंक भगा देते हैं 

अरविंद पांडेय बताते हैं कि ग्रामीण बैंक में लोन के लिए गए थे वो लोग साफ मना कर देते हैं। फिर उसके बाद तो कोई चारा ही नहीं बचता कि साहूकार या प्राइवेट बैंकों के पास जाने के सिवा। सरकारी दावे और जमीनी हक़ीक़त में बहुत फर्क़ होता है। 

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

जौनपुर में आचार संहिता का मजाक उड़ाता ‘महामानव’ का होर्डिंग

भारत में लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद विवाद उठ रहा है कि क्या देश में दोहरे मानदंड अपनाये जा रहे हैं, खासकर जौनपुर के एक होर्डिंग को लेकर, जिसमें पीएम मोदी की तस्वीर है। सोशल मीडिया और स्थानीय पत्रकारों ने इसे चुनाव आयोग और सरकार को चुनौती के रूप में उठाया है।

AIPF (रेडिकल) ने जारी किया एजेण्डा लोकसभा चुनाव 2024 घोषणा पत्र

लखनऊ में आइपीएफ द्वारा जारी घोषणा पत्र के अनुसार, भाजपा सरकार के राज में भारत की विविधता और लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला हुआ है और कोर्पोरेट घरानों का मुनाफा बढ़ा है। घोषणा पत्र में भाजपा के विकल्प के रूप में विभिन्न जन मुद्दों और सामाजिक, आर्थिक नीतियों पर बल दिया गया है और लोकसभा चुनाव में इसे पराजित करने पर जोर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम-वीवीपीएटी सत्यापन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने EVM और VVPAT डेटा के 100% सत्यापन की मांग वाली याचिकाओं पर निर्णय सुरक्षित रखा। याचिका में सभी VVPAT पर्चियों के सत्यापन और मतदान की पवित्रता सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। मतदान की विश्वसनीयता और गोपनीयता पर भी चर्चा हुई।

Related Articles

जौनपुर में आचार संहिता का मजाक उड़ाता ‘महामानव’ का होर्डिंग

भारत में लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद विवाद उठ रहा है कि क्या देश में दोहरे मानदंड अपनाये जा रहे हैं, खासकर जौनपुर के एक होर्डिंग को लेकर, जिसमें पीएम मोदी की तस्वीर है। सोशल मीडिया और स्थानीय पत्रकारों ने इसे चुनाव आयोग और सरकार को चुनौती के रूप में उठाया है।

AIPF (रेडिकल) ने जारी किया एजेण्डा लोकसभा चुनाव 2024 घोषणा पत्र

लखनऊ में आइपीएफ द्वारा जारी घोषणा पत्र के अनुसार, भाजपा सरकार के राज में भारत की विविधता और लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला हुआ है और कोर्पोरेट घरानों का मुनाफा बढ़ा है। घोषणा पत्र में भाजपा के विकल्प के रूप में विभिन्न जन मुद्दों और सामाजिक, आर्थिक नीतियों पर बल दिया गया है और लोकसभा चुनाव में इसे पराजित करने पर जोर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम-वीवीपीएटी सत्यापन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने EVM और VVPAT डेटा के 100% सत्यापन की मांग वाली याचिकाओं पर निर्णय सुरक्षित रखा। याचिका में सभी VVPAT पर्चियों के सत्यापन और मतदान की पवित्रता सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। मतदान की विश्वसनीयता और गोपनीयता पर भी चर्चा हुई।