सदन में गूंजा पेगासस रिपोर्ट का मुद्दा, सदन कल तक के लिये स्थगित

Estimated read time 1 min read

मॉनसून सत्र का पहला दिन ही काफी हंगामेदार रहा। सदन में पहले ही दिन विपक्ष ने स्पाईवेयर पेगासस के जरिए जासूसी का मुद्दा उठाया। कांग्रेस ने इस पूरे मामले में जांच कराए जाने की मांग की है। कांग्रेस ने कहा कि इजरायली स्पाइवेयर पेगासस का उपयोग करके कई प्रमुख व्यक्तियों एवं पत्रकारों के कथित तौर पर फोन टैप किए जाने के मामले में स्वतंत्र जांच होनी चाहिए।

सरकार की तरफ से इस मामले पर बोलते हुए सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि संसद के मानसून सत्र से ठीक एक दिन पहले इस रिपोर्ट आना कोई संयोग नहीं है। केन्द्रीय मंत्री ने इस पर जवाब देते हुए इसे एक साजिश करार दिया। उन्होंने रिपोर्ट को भारतीय लोकतंत्र की छवि को धूमिल करने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि जब नियंत्रण एवं निगरानी की व्यवस्था पहले से ही है, तब अवैध तरीके से निगरानी संभव नहीं है।  

विपक्ष के विरोध की वजह से कई बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। विपक्षी दलों के हंगामे के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उच्च सदन में अपनी मंत्रिपरिषद के नये सदस्यों का परिचय नहीं करवा पाए। बाद में हंगामा बढ़ता देख दोनों सदनों को कल सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब लोकसभा में अपने मंत्रिपरिषद के नये सदस्यों का परिचय कराने लगे, तो कांग्रेस समेत कुछ विपक्षी दलों के सदस्यों ने पेगासस जासूसी कांड और केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों पर जवाब देने की मांग करते हुये नारेबाजी शुरू कर दी। उनके संबोधन के बीच भी कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के सदस्यों की नारेबाजी जारी रही। हंगामे की वजह से सदन की बैठक को दो बार स्थगित करना पड़ा। पहले राज्यसभा की कार्यवाही अपराह्न दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। लेकिन सदन की कार्यवाही जब 2 बजे शुरू हुई तो विपक्ष ने दोबारा हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की वजह से लोकसभा की कार्यवाही 3:30 बजे तक जबकि राज्यसभा की कार्यवाही 3 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। बाद में दोनों सदनों को अगले दिन 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours