Monday, April 15, 2024

महिला पहलवानों के समर्थन में प्रयागराज की सड़कों पर उतरे किसान-वकील-छात्र, बृजभूषण की गिरफ्तारी की मांग

प्रयागराज। महिला पहलवानों का यौन शोषण करने वाले भाजपा सांसद और भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के ख़िलाफ़ लड़ाई में किसानों, छात्रों के बाद अब वकील बिरादरी भी खुलकर सामने आ गयी है। मंगलवार को प्रयागराज में ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन के बैनर तले वकीलों के समूह ने जिलाधिकारी कार्यालय में विरोध प्रदर्शन किया और जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर आरोपी बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ़्तारी की मांग की।

ज्ञापन सौंपने से पहले एक छोटी सी जनसभा हुई जिसे इंडिया लॉयर्स यूनियन के संरक्षक और वरिष्ठ वकील सुखदेव, अध्यक्ष राधेश्याम द्विवेदी, संयुक्त सचिव सूर्य प्रकाश सूर्या, कोषाध्यक्ष कमाल प्रसाद, कार्यकारिणी सदस्य कमेश वर्मा, वकील शिवेंद्र सिंह, अन्नू सिंह, रेशम पांडेय, प्रियंका यादव, जीतेंद्र कुमार यादव, जेबी यादव, विकास स्वरूप, गायत्री गंगोली, चौधरी मंगला प्रसाद, दिलीप कुमार, अविनाश मिश्रा, प्यारे लाल, कल्पना, कमर रज़ा, उदय अंबेडकर, मनीष केसरवानी, सीमा चौधरी, मंगला प्रसाद, विकास स्वरूप आदि ने सम्बोधित किया।  

वकील अन्नू सिंह ने जनचौक से बात करते हुए कहा कि ये सरकार सबसे ज़्यादा महिलाओं की बात करती है, लेकिन वो मानसिक और चारित्रिक रूप से महिलाओं के ख़िलाफ़ है। अधिवक्ता सुखदेव ने कहा कि यह शर्म की बात है कि रक्षक ही भक्षक है और सरकार उसे बचा रही है। जब बेटियां सुरक्षित ही नहीं हैं तो वो क्या बढ़ेंगी।

जिलाधिकारी कार्यालय पर वकीलों का प्रदर्शन

एआईएलयू उपाध्यक्ष वीरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि आरोपी को गिरफ़्तार करने के बजाए ये सरकार और उसकी पुलिस महिला पहलवानों को ही धरना स्थल पर प्रताड़ित कर रही है। एआईएलयू जिला महामंत्री यशवंत सिंह ने संवाददाता से बात करते हुए कहा कि आज वो लोग यहां इसलिए इकट्ठा हुए हैं क्योंकि बृजभूषण शरण सिंह के ख़िलाफ़ सुप्रीमकोर्ट के आदेश पर पॉस्को एक्ट में मुक़दमा दर्ज़ होने के बावजूद सरकार उसे बचा रही है।

गांव-गली तक पहुंची विरोध की आग

महिला पहलवानों के लिए न्याय और आरोपी भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी की मांग की आवाज जंतर-मंतर से निकलकर अब दूर दराज़ के गांवों की गली-कूचों से उठनी शुरू हो गयी है। अखिल भारतीय किसान मजदूर सभा, प्रगतिशील महिला संगठन और नौजवान भारत सभा के नेतृत्व में युवा लड़कियों, युवाओं और किसानों ने पहलवानों के लिए न्याय की मांग को लेकर घूरपुर में विरोध मार्च निकाला।

इस मार्च में आरोपी भाजपा सांसद और बाहुबली बृजभूषण शरण सिंह को POCSO एक्ट के तहत तत्काल गिरफ्तार करने, जांच रिपोर्ट जारी करने, हरियाणा के मंत्री संदीप सिंह को गिरफ्तार करने, 3 मई को पहलवानों पर हमला करने वाले अफ़सरों को सस्पेंड करने और जांच को समयबद्ध ढंग से पूरा करने सहित अन्य मांगों को लेकर नारेबाजी की गयी।

महिला पहलवानों के समर्थन में घूरपुर प्रदर्शन

विरोध मार्च के आखिर में उपरोक्त मांगों को लेकर एक ज्ञापन भारत के राष्ट्रपति को उपस्थित अधिकारियों के जरिये भेजा गया। विरोध रैली से पहले एक जनसभा आयोजित की गयी जिसे चांदनी, अरुण, भीमलाल, राम कैलाश कुशवाहा, राजकुमार पथिक और डॉ आशीष मितल ने संबोधित किया।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रों ने किया प्रदर्शन

इलाहाबाद विश्वविद्यालय कैम्पस में आइसा से जुड़े छात्रों ने महिला पहलवानों और महिला प्रोफ़ेसर के समर्थन में एक कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम में महिला पहलवानों के यौन शोषण के आरोपी बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ़्तारी की मांग की गयी। साथ ही महिला प्रोफ़ेसर का यौन शोषण करने वाले तीन आरोपी प्रोफ़सरों की गिरफ़्तारी की भी मांग की गयी।

छात्रों ने महिला पहलवानों का यौन शोषण करने वाले बृजभूषण सिंह की गिरफ़्तारी, महिला प्रोफ़ेसर का यौन शोषण करने वाले इविवि के तीन आरोपी प्रोफ़सरों की गिरफ़्तारी, जेंडर सेंसिटाइजेशन कमेटी अगेंस्ट सेक्सुअल हैरेसमेंट बॉडी का गठन करने की मांग की। कार्यक्रम में सिविल सोसायटी के जुड़े लोगों के अलावा महिला प्रतिनिधियों ने भी भागीदारी की।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रों का विरोध प्रदर्शन

आइसा सचिव मनीष कुमार ने जनसभा को संबोधित कर कहा कि यौन शोषण और हैरेसमेंट की घटनायें आम हो चुकी हैं। इलाहाबाद विश्विद्यालय कैम्पस में महिला प्रोफ़ेसर्स के साथ भी इस तरह की घटनायें हुई हैं। हाईकोर्ट को संज्ञान लेना पड़ा है। मनीष ने कहा कि विश्वविद्यालय में लाइब्रेरी के पास लड़कियों के साथ छेड़खानी, हैरेसमेंट, इवटीजिंग की घटनायें रोज़ होती हैं, लेकिन कैम्पस में कोई मेकैनिज्म नहीं है कि इस तरह की घटनाओं को रोका जा सके। 2012 में वर्मा कमेटी की रिकमेंडेशन पर एक कंप्लेन कमेटी अगेंस्ट सेक्सुअल हैरसमेंट हर विश्वविद्यालय में बनाने की बात की थी। लेकिन इस कमेटी में वही लोग बैठते हैं जो आरोपित होते हैं।

सहसों चौराहे पर विरोध प्रदर्शन

7 मई को सहसों चौराहे पर महिला पहलवानों के समर्थन में विरोध रैली और जनसभा का आयोजन किया गया। इस दौरान लोग- बेटियों संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं, बहनों संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं, महिला पहलवानों को न्याय दो, बलात्कारी बृजभूषण सिंह को गिरफ्तार करो, नारे लगा रहे थे। प्रदर्शऩ के दौरान लोगों ने कुश्ती संघ के अध्यक्ष और भाजपा सांसद ब्रजभूषण शरण सिंह को गिरफ्तार करने की मांग की।

इस मौके पर हुई जनसभा को कई लोगों ने सम्बोधित किया। प्रदर्शन में मौजूद वक्ताओं ने कहा कि यह शर्मनाक है कि देश का सम्मान बढ़ाने वाली महिला पहलवानों को अपने सम्मान की रक्षा करने के लिए लगातार संघर्ष करना पड़ रहा है। कुश्ती संघ के अध्यक्ष व भाजपा सांसद उनका यौन उत्पीड़न करते हैं और सरकार ऐसे अपराधी का संरक्षण करती है। जनसभा को संबोधित करते हुए किसान सभा के जिलाध्यक्ष मुन्नी लाल यादव ने सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ‘जे छिनरा उहै डोली के संग’।

सहसों चौराहे पर विरोध प्रदर्शन

सेंट मार्स इंटरमीडिएट कॉलेज के प्रबंधक और सामाजिक कार्यकर्ता लल्लू प्रसाद यादव ने भय के मनोविज्ञान को बताते हुए कहा कि यह परीक्षा चल रही है कि इन घटनाओं से हममें कितना क्रोध होता है। उन्होंने निराशा जाहिर करते हुए कहा कि हम लोग दुर्भाग्य से इतने हताश और निराश हो चुके हैं कि हम सरकार के ख़िलाफ़ उतर नहीं रहे हैं। हमारे दिमाग में इतना भय बैठा दिया गया है कि लोग सोचते हैं कि हम किसी जूलूस-प्रदर्शन में जाएंगे तो हमारे ख़िलाफ़ कार्रवाई हो जाएगी। हमारे घर गिरा दिए जाएंगे।

लल्लू यादव ने कहा कि आज छोटी-छोटी बातों पर लोगों के ख़िलाफ ऐसी कार्रवाइयां की जा रही हैं ताकि लोग इस तरह से किसी जगह एकजुट होकर सड़क पर न आने पायें और वो लगातार अन्याय करते रहें। वहीं उनके लोग एक ऐसी ज़ज़्बाती विचारधारा पैदा कर रहे हैं जिसका कोई अस्तित्व नहीं है। हिटलर की विचारधारा से काम हो रहा है।

बता दें कि प्रयागराज के नागरिक समाज के लोग कई दिनों से सिविल लाइन्स स्थित पत्थर गिरजा घर पर महिला पहलवानों के समर्थन में विरोध प्रदर्शन करते आ रहे हैं।

(प्रयागराज से सुशील मानव की रिपोर्ट)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

हरियाणा की जमीनी पड़ताल-2: पंचायती राज नहीं अब कंपनी राज! 

यमुनानगर (हरियाणा)। सोढ़ौरा ब्लॉक हेडक्वार्टर पर पच्चीस से ज्यादा चार चक्का वाली गाड़ियां खड़ी...

Related Articles

हरियाणा की जमीनी पड़ताल-2: पंचायती राज नहीं अब कंपनी राज! 

यमुनानगर (हरियाणा)। सोढ़ौरा ब्लॉक हेडक्वार्टर पर पच्चीस से ज्यादा चार चक्का वाली गाड़ियां खड़ी...