Wednesday, February 8, 2023

प्रेम प्रपंच : चार लोगों ने मिलकर की बुजुर्ग आशिक की हत्या, पानी की टंकी में डाला लाश  

Follow us:

ज़रूर पढ़े

शीर्षक पढ़कर भले ही हम इस घटना की सुर्ख़ियों को चटकारा ले कर पढ़ें, अफसोस जाहिर करें, ऐसे बुजुगों के प्रति हमारे भीतर घृणा का भाव समाहित हो, लेकिन सबसे पहले हमें ऐसी घटनाओं के कारक को तलाशना होगा। जिस उम्र के लोगों से अपने अनुभवों से समाज को एक नई दिशा देने की अपेक्षाएं होती हो, उस उम्र के लोगों में ऐसी वृति का पैदा होना वाकई काफी खतरनाक व चिन्ताजनक है।

हम मानते हैं कि दुनिया अजीबोगरीब घटनाओं से भरी पड़ी है। मानव मस्तिष्क पता नहीं कब क्या सोच बैठे और मनुष्य कब क्या कर बैठे, कहा नहीं जा सकता है। इसे मानव मस्तिष्क की विकृति कहें या वृति, यह तो मनोविज्ञान ही बता सकता है। क्योंकि ऐसी सोच की कोई उम्र सीमा नहीं होती, यह भी कई बार साबित हो चुका है। ऐसी ही मस्तिष्क की विकृति या वृति को साबित किया है, हाल ही में बिहार के बिहारशरीफ जिले के 60 साल से लेकर 75 साल के चार बुजुर्गों की आशिकी ने।

जिसे हम वृति तो नहीं कह सकते, जाहिर है यह विकृति ही है, जिसकी वजह शायद वर्तमान दौर में सभी वर्गों के बीच सोशल मीडिया का प्रसार है। आज बच्चे, बड़े व बुजुर्ग सभी के पास एन्ड्राइड मोबाईल है। कहना होगा कि इन एन्ड्राइड मोबाईल में जिस तरह के मैसेज और यूट्यूब का प्रसारण होता रहता है, वह किसी से छुपा नहीं है। इस तरह की विकृति के पैदा होने की एक वजह एन्ड्राइड मोबाईल के मैसेज और यूट्यूब को भी जाता है जिसका समाज का लगभग हर वर्ग शिकार है। वही दूसरी तरफ बुजुर्ग सामाजिक व पारिवारिक प्रताड़ना के भी शिकार हैं, जिसकी वजह उनके भीतर कई विकृतियों के पैदा होने का खतरा बना रहता है।

जो मामला सामने आया है वह बड़ा ही चौकाने वाला है।  जहां इसी इलाके का एक 55 साल के व्यक्ति ने 21 साल की युवती की मांग में सिंदूर डाल दिया, वहीं दूसरी तरफ 75 साल के कथित प्रेमी की अन्य चार बुजुर्ग आशिकों ने अपनी एक 30 साल की प्रेमिका की खातिर हत्या कर दी।

बुजुर्गों की ऐसी रंगीन मिजाजी का एक मामला राज्य के बिहारशरीफ जिले के अस्थावां थाना क्षेत्र का बताया जाता है। जानकारी के अनुसार 60 साल से 75 साल ये पांच बुजुर्ग 30 साल की एक विधवा से इश्क लड़ा रहे थे, जो एक चाय की छोटी सी दुकान चला रही है। इनके इश्क का आलम यह रहा कि इन आशिकों में गुटबंदी हो गई और 75 वर्षीय बुजुर्ग तृपित शर्मा से अन्य चार बुजुर्ग आशिक अलग हो गये। इनकी आशिकी ऐसी परवान चढ़ी कि इन चारों ने अपनी चाय वाली प्रेमिका के इशारे पर बुजुर्ग तृपित शर्मा की हत्या कर दी।

बताना जरूरी है कि इश्क की यह कहानी चाय की दुकान से शुरू हुई। एक 30 वर्षीय विधवा अस्थावां पॉलिटेक्निक कॉलेज के बगल में रहती थी और चाय की दुकान चलाती थी। वहीं पर चार बुजुर्ग रोज चाय पीने आते थे।

रोज की चाय की चुस्कियों के बीच धीरे धीरे चारों बुजुर्गों की उसी महिला से आत्मीयता बढ़ती चली गई जो बाद में इश्क में तब्दील हो गई। चाय की गर्माहट के साथ ही इश्क भी परवान चढ़ता गया। इसी बीच एक पांचवें बुजुर्ग तृपित शर्मा की इंट्री हुई तो यह चारों बुजुर्गों को नागवार गुजरा। इस बीच तृपित शर्मा का विधवा के घर खूब आना-जाना शुरू हो गया। जब भी तृपित शर्मा उस महिला से बात करता, तो इन चार बुजुर्गों को यह कतई पसंद नहीं आता था।

उन्होंने उस चाय वाली महिला से कहा कि तुम्हारा तो एक और पांचवां आशिक है। इस पर महिला ने कहा कि ऐसा है तो उसे हटा दो। फिर क्या था, विधवा पानो देवी के घर पर चारों आशिकों ने तृपित शर्मा को हटाने का योजना तैयार की और उन्होंने 19 अक्टूबर 2022 को तृपित शर्मा की हत्या कर दी। उन्होंने शव को पॉलिटेक्निक कॉलेज के समीप बने एक नवनिर्मित मकान के पानी की टंकी में डाल दिया।

इसकी जानकारी तब हुई जब 20 नवंबर को किसी ने पानी की टंकी में एक लाश देखी। जिसकी शिनाख्त अस्थावां थाना क्षेत्र के बलवापुर गांव निवासी 75 वर्षीय तृपित शर्मा के रूप में हुई। शव मिलने के बाद पुलिस भी हक्का बक्का रह गयी। पुलिस की छानबीन में धीरे-धीरे इस हत्याकांड पर से पर्दा उठने लगा और शक की सूई उसी चाय बेचने वाली महिला ओर घूमने लगी। पुलिस ने कड़ाई से जब उससे पूछताछ की, तो महिला टूट गयी और इस हत्याकांड का राज खुल गया। पुलिस के अनुसार घटना वाले दिन विधवा ने अन्य चारों बुजुर्ग आशिकों को अपने घर पर बुलाया था। चारों बुजुर्ग आशिकों ने योजना के मुताबिक तृपित शर्मा को पीट-पीटकर हत्या कर दी और साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से लाश को पॉलिटेक्निक कॉलेज के समीप बने मकान के पानी की टंकी में डाल दिया।

सदर डीएसपी डॉक्टर शिब्ली नोमानी ने बताया कि 19 अक्टूबर की रात को अस्थावां थाना क्षेत्र के पॉलिटेक्निक कॉलेज के समीप नवनिर्मित मकान के पानी टंकी से एक वृद्ध की लाश बरामद हुई थी। उसकी पहचान 75 वर्षीय तृपित शर्मा के रूप में की गयी थी, जिसके बाद मृतक के पुत्र मिट्ठू कुमार ने अज्ञात के खिलाफ अस्थावां थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। सदर डीएसपी ने बताया कि पुलिस अधीक्षक अशोक मिश्रा के दिशा निर्देशन और उनके नेतृत्व में थानाध्यक्ष अस्थावां और जिला सूचना इकाई के कर्मियों ने तकनीकी अनुसंधान के आधार पर इस कांड का खुलासा किया। सदर डीएसपी ने बताया कि अनुसंधान के क्रम में पता चला कि 30 वर्षीय विधवा से पांचों बुजुर्गों का अवैध संबंध थे। अवैध संबंध के कारण ही यह घटना हुई है। अभियुक्तों के पास से मृतक का मोबाइल भी बरामद हुआ है।

सदर डीएसपी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपितों में 30 वर्षीय महिला, बरबीघा थाना क्षेत्र के कुतुबचक निवासी 75 वर्षीय कृष्णनंदन प्रसाद, अस्थावां थाना क्षेत्र के अस्थावां गांव निवासी 60 वर्षीय सूर्यमणि कुमार, मानपुर थाना क्षेत्र के छबीलापुर गांव निवासी वासुदेव पासवान और अस्थावां थाना क्षेत्र के अकबरपुर गांव निवासी बनारस प्रसाद उर्फ लोहा सिंह शामिल हैं। सदर डीएसपी ने बताया कि यह पूरी तरह से ब्लाइंड हत्याकांड है। अनुसंधान के क्रम में स्पष्ट हुआ कि 75 वर्षीय तृपित शर्मा की हत्या अवैध संबंध के कारण हुई है।

कहना ना होगा कि जहां बच्चे देश व समाज के भविष्य होते हैं, वहीं बुजुर्ग देश व समाज का आईना होते हैं, जिसमें नयी पीढ़ी अपना चेहरा देखती है। अगर आईना ही विद्रूप हुआ तो जो दिखेगा वह तो विद्रूप ही दिखेगा। हम भले ही ऐसी घटनाओं को सूर्खियों के तौर पर लें लेकिन इस तरह की घटनाएं काफी खतरनाक हैं। ऐसी घटनाओं से समाज में बुजुर्गों के प्रति एक दुराव, एक अविश्वास का माहौल पैदा होगा जो एक चिन्ताजनक स्थिति होगी।

(वरिष्ठ पत्रकार विशद कुमार की रिपोर्ट।)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

अडानी समूह पर साल 2014 के बाद से हो रही अतिशय राजकृपा की जांच होनी चाहिए

2014 में जब नरेंद्र मोदी सरकार में आए तो सबसे पहला बिल, भूमि अधिग्रहण बिल लाया गया। विकास के...

More Articles Like This