Wednesday, December 7, 2022

राकेश टिकैत ने दी डीएम को चेतावनी, कहा-फैसला नहीं टला तो खिरिया बनेगा किसानों के बड़े आंदोलन का मैदान

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

जमुआ, आज़मगढ़। जीवन-जमीन बचाने के लिए पिछले 28 दिनों से संघर्ष कर रहे किसान-मजदूरों के संघर्ष में कल किसान नेता राकेश टिकैत भी शामिल हुए।

किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि एक भी किसान अपनी जमीन नहीं देना चाहेगा तो उसकी लड़ाई मैं यहां लड़ूंगा। यहां एक भी किसान जमीन देने को तैयार नहीं है ऐसे में किसी भी हालत में यहां एयरपोर्ट नहीं बनाया जा सकता है। उन्होंने जिलाधिकारी को चेतावनी देते हुए कहा कि किसी भी तरह के उत्पीड़न की कार्रवाई में न जाएं नहीं तो खिरिया का मैदान देश के किसानों के बड़े आंदोलन का मैदान होगा।

rakesh tikait2

टिकैत ने कहा कि जमीन की लड़ाई आदिवासियों से सीखनी चाहिए कि वो किस तरह से सेना तोप के आगे जमीन बचाने की लंबी लड़ाई लड़ रहे हैं। ये संघर्ष लंबा है हम किसानों के साथ हैं। शांति एकता के जरिए ही आन्दोलनों की जीत होती है।

भारतीय किसान यूनियन के नेता राजवीर सिंह जादौन ने कहा कि जमीन, मकान के बाद आने वाले समय में जान बचाने की लड़ाई लड़नी होगी। आठ गांवों का सवाल है आप और ताकत लगाइये। हिंदुस्तान के किसान को जाति-धर्म में नहीं बंटना चाहिए।

rakesh3

सभा की अध्यक्षता रामनयन यादव, संचालन किसान नेता राजीव यादव ने किया।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

क्यों ज़रूरी है शाहीन बाग़ पर लिखी इस किताब को पढ़ना?

पत्रकार व लेखक भाषा सिंह की किताब ‘शाहीन बाग़: लोकतंत्र की नई करवट’, को पढ़ते हुए मेरे ज़हन में...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -