Subscribe for notification

दारापुरी को दी गयी वसूली नोटिस राजनीतिक बदले की कार्रवाई : स्वराज अभियान

नई दिल्ली/ लखनऊ। उत्तर प्रदेश में लोकतांत्रिक आंदोलनों की आवाज बने ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आईजी एसआर दारापुरी को आज योगी सरकार ने वसूली नोटिस दी है। जिसके तहत उन्हें सात दिनों के भीतर पूरी रकम चुकाने के लिए कहा गया है। सरकार के इस कदम पर स्वराज अभियान ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए इसे राजनीतिक बदले की कार्रवाई बताया है। स्वराज अभियान के नेता दिनकर कपूर ने प्रेस को जारी अपने बयान में कहा कि सरकार अदालत में दारापुरी के खिलाफ एक भी सबूत पेश नहीं कर पाई और उनको जमानत मिल गयी थी। बावजूद इसके सरकार और प्रशासन ने स्वयं निर्णय लेते हुए उन्हें दोषी करार दे दिया और वसूली की नोटिस थमा दी। उन्हें सुनवाई का अवसर न देना नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के भी विरुद्ध है।

उन्होंने कहा कि इस नोटिस के खिलाफ माननीय उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ में वाद दाखिल किया गया है जिसमें कल ही सरकारी वकील ने 10 दिन की मोहलत मांगी और उसके आधार पर अदालत ने जुलाई में तारीख दी है। जब मामला माननीय उच्च न्यायालय में विचाराधीन है तब सरकार द्वारा दी गई वसूली नोटिस बदले की भावना से ही प्रेरित कही जा सकती है। उन्होंने कहा कि यह लोकतांत्रिक आवाज को दबाने का कुत्सित प्रयास है।

डॉक्टर अंबेडकर के सच्चे अनुयाई एसआर दारापुरी लंबे समय से उत्तर प्रदेश में दलितों, आदिवासियों, मज़दूरों और समाज के वंचित तबकों की आवाज को उठाते रहे हैं और उनके संवैधानिक अधिकारों के लिए कार्य करते रहे हैं। अपनी पत्नी की गम्भीर बीमारी के बावजूद उन्होंने प्रदेश की जनता के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दाखिल की जिसमें माननीय न्यायधीश द्वारा निर्देशित करने के बाद योगी सरकार को सद्बुद्धि आयी और उसने सरकारी व निजी चिकित्सालयों में ओपीडी खोलने का आदेश दिया।

इसी तरह सोनभद्र में खनन माफियाओं और पुलिस प्रशासन गठबंधन द्वारा की गई आदिवासी रामसुंदर गोंड़ की हत्या के खिलाफ उनकी पहल के बाद ही एफआईआर दर्ज हो सकी। वह इन दिनों मुखर रहे हैं इससे बौखलाई सरकार ने उनके खिलाफ विधि के विरुद्ध और मनमर्जी पूर्ण नोटिस भेजी है। हद यह है कि इस वसूली नोटिस में व्यक्तिगत धनराशि तक तय नहीं की गई और सामूहिक संपूर्ण धनराशि दारापुरी जी को सात दिन में जमा करने के लिए कहा गया है।

स्वराज अभियान के नेता ने कहा कि आईपीएफ नेता एसआर दारापुरी के उत्पीड़न को राजनीतिक सवाल बनाया जाएगा और सहमना संगठनों के साथ वार्ता कर प्रतिवाद किया जायेगा।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

This post was last modified on June 18, 2020 7:26 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

हवाओं में तैर रही हैं एम्स ऋषिकेश के भ्रष्टाचार की कहानियां, पेंटिंग संबंधी घूस के दो ऑडियो क्लिप वायरल

एम्स ऋषिकेश में किस तरह से भ्रष्टाचार परवान चढ़ता है। इसको लेकर दो ऑडियो क्लिप…

15 mins ago

प्रियंका गांधी का योगी को खत: हताश निराश युवा कोर्ट-कचहरी के चक्कर काटने के लिए मजबूर

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक और…

1 hour ago

क्या कोसी महासेतु बन पाएगा जनता और एनडीए के बीच वोट का पुल?

बिहार के लिए अभिशाप कही जाने वाली कोसी नदी पर तैयार सेतु कल देश के…

2 hours ago

भोजपुरी जो हिंदी नहीं है!

उदयनारायण तिवारी की पुस्तक है ‘भोजपुरी भाषा और साहित्य’। यह पुस्तक 1953 में छपकर आई…

2 hours ago

मेदिनीनगर सेन्ट्रल जेल के कैदियों की भूख हड़ताल के समर्थन में झारखंड में जगह-जगह विरोध-प्रदर्शन

महान क्रांतिकारी यतीन्द्र नाथ दास के शहादत दिवस यानि कि 13 सितम्बर से झारखंड के…

14 hours ago

बिहार में एनडीए विरोधी विपक्ष की कारगर एकता में जारी गतिरोध दुर्भाग्यपूर्ण: दीपंकर भट्टाचार्य

पटना। मोदी सरकार देश की सच्चाई व वास्तविक स्थितियों से लगातार भाग रही है। यहां…

15 hours ago