Subscribe for notification

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में आपसी गोलीबारी में आईटीबीपी के छह जवानों की मौत

नारायणपुर (छत्तीसगढ़)। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर से एक बड़ी खबर आ रही है। जवानों की आपसी फायरिंग में 6 जवानों की मौत हो गयी है, वहीं कुछ जवान घायल भी हुए हैं। सभी जवान आईटीबीपी के बताये जा रहे हैं। घटना आईटीबीपी के कड़ेनार कैंप की बतायी जा रही है। घटना की पुष्टि पुलिस अधिकारियों ने भी की है, फिलहाल मौके पर पुलिस टीम भी पहुंची हुई है, जहां से जवानों को बाहर निकाला जा रहा है।

ज्यादा गंभीर जवानों को रायपुर भेजने की भी पुष्टि की जा रही है। जानकारी के मुताबिक पिछले दो से तीन दिनों से जवानों में मतभेद की खबर आ रही थी, आज सुबह जवानों के बीच हिंसक झड़प हो गयी, जिसमें दोनों तरफ से गोलीबारी शुरू हो गयी। जानकारी के मुताबिक जिस जवान ने फायरिंग की शुरुआत की थी, उसकी भी गोलीबारी में मौत हो गयी है।

अस्पताल में भर्ती जवान।

घटना सुबह साढ़े 9 बजे की घटना है, जिसमें एक जवान ने एके 47 से अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें कई जवानों की मौत हो गयी, जानकारी के मुताबिक फायरिंग की शुरुआत करने वाले जवान ने बाद में खुद को भी गोली मार ली। इधर घटना की सूचना के बाद पुलिस पार्टी मौके पर रवाना हो गयी। इस बीच जवानों को लाने के लिए हेलीकाप्टर को भी रवाना किया गया है।

गोलियां बरसाने वाला भी कांस्टेबल है, जिसका नाम मसुदुल रहमान बताया जा रहा है,  वह पश्चिम बंगाल का बताया जा रहा है। वहीं अन्य मृतकों में महेंद्र सिंह हिमाचल प्रदेश, सुरजीत सरकार पश्चिम बंगाल, दलजीत सिंह पंजाब, विश्वरूप महतो पश्चिम बंगाल और बीजेश कुमार केरला के रहने वाले बताये जा रहे हैं। वहीं उल्लास कुमार (केरला), सीतारम दुन (राजस्थान) घायल बताये जा रहे हैं।

फिलहाल दोनों घायल जवानों को रेस्क्यू करने की कोशिश की जा रही है, हालांकि खबर लिखे जाने तक अभी तक घायल जवानों को हेलीकाप्टर से बाहर नहीं निकाला जा सका है। फिलहाल पुलिस पार्टी को 45 किलोमीटर दूर कड़़ेनार कैंप रवाना कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक जवान रहमान ने अपने सर्विस AK-47 से गोलियां बरसायी हैं। हालांकि विस्तृत जानकारी का अभी भी इंतजार किया जा रहा है कि आखिर किस परिस्थिति में ये पूरी घटना हुई है। आईजी और एसपी भी कड़ेनार कैंप जा रहे हैं।

(रायपुर से जनचौक संवाददाता तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट।)

This post was last modified on December 4, 2019 4:41 pm

Share

Recent Posts

सवाल-दर-सवालः आज़ादी एक अधूरा शब्द नहीं है?

पिछली सदी के आखिरी पहर में अद्वितीय लेखक-पत्रकार राजकिशोर की एक किताब आई थी। उसमें…

41 seconds ago

जन्मदिन पर विशेष: अमीर ख़ान; राह चलता फकीर जिसका जहान संगीत में ही बनता, खुलता और बंद होता था!

अमीर ख़ान का गाना सुनते हुए आप सबसे पहले क्या राय बनाते हैं उनके बारे…

37 mins ago

देश भर में वामपंथी कार्यकर्ताओं ने ली एकता और संविधान बचाने की शपथ

वाम दलों के संयुक्त आह्वान पर 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर संविधान की रक्षा…

51 mins ago

बहुत लंबी है टीवी के पतन की प्रक्रिया

इससे पहले कि टीवी समाचार के आसमान पर छाए बादल फटते मैं निकल आया था।…

2 hours ago

डॉ. कफील पर रासुका के तहत तीन महीने के लिए डिटेंशन बढ़ाया गया

एक ओर उच्चतम न्यायालय ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से 15 दिनों के भीतर डॉ. कफील खान…

4 hours ago

लाल किले से फिर हुईं बड़ी-बड़ी घोषणाएं, लेकिन नदारद रहा रोडमैप

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश को संबोधित करते हुए,…

5 hours ago

This website uses cookies.