स्टैन स्वामी को फर्जी केस में फंसाकर जेल में मौत के घाट उतारा गया है

Estimated read time 1 min read

आखिर 84 वर्षीय वृद्ध, शक्तिहीन, बेबस, लाचार, कई बीमारियों यथा पर्किंसन बीमारी से ग्रस्त, लगभग पूर्णतः बहरे, कांपते हाथ वाले, ठीक से खाना-पानी तक अपने मुँह तक ले जाने में असमर्थ, आजीवन वंचितों आदिवासियों के हक-हूकूक के लिए संघर्ष करनेवाले अथक योद्धा अपने पैरों को बेड़ियों में जकड़े हुए इस देश की क्रूरतम्, फॉसिस्ट, असंवेदनशील, असहिष्णु, हृदयविहीन, दयाविहीन, करूणाविहीन, ममताविहीन, मानवताविहीन, नरपिशाचों यथा मानवेत्तर प्राणी मोदी और शाह की वजह से अपने प्राण त्याग दिए।

फादर स्टेन स्वामी, 82 वर्षीय कवि वरवरा राव, आईआईएम अहमदाबाद के 71वर्षीय प्रोफेसर आनन्द तेलतुंबड़े, सुधा भारद्वाज आदि मानवता के देवदूतों को कमेटी फॉर रिलीफ ऑफ पोलिटिकल प्रिजनर्स के मिडिया सेक्रेटरी रोना विल्सन के कम्प्यूटर को मैलवेयर साफ्टवेयर यानि चोर साफ्टवेयर के जरिए फंसाया गया, फिर उसी छद्म और फर्जीवाड़े केस के तहत उक्त सभी लोगों को गिरफ्तार कर उन्हें तिल-तिलकर मारा जा रहा है, अब 5 जुलाई 2021 को गरीबों, वंचितों, दलितों के मसीहा फादर स्टेन स्वामी को मौत के घाट उतार दिया गया।

उक्त प्रश्न का उत्तर जी हाँ में है,क्योंकि अमेरिका के सुप्रसिद्ध समाचार पत्र वाशिंगटन पोस्ट में 10फरवरी 2021 को प्रकाशित खबर के अनुसार जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के भूतपूर्व रिसर्च स्कॉलर और कमेटी फॉर रिलीफ ऑफ पोलिटिकल प्रिजनर्स के मिडिया सेक्रेटरी रोना विल्सन के कम्प्यूटर को किसी गुमनाम हैकर ने पहले हैक करके उसमें मैलवेयर साफ्टवेयर यानि चोर साफ्टवेयर के जरिए उनके कम्प्यूटर में फर्जी तरीके से 10 दस्तावेज बनाए,जिसमें रोना विल्सन की तरफ से किसी माओवादी संगठन से मोदी की कथित हत्या के लिए बंदूकें और हथियार माँगे गये थे और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने जैसे आरोप लगाए गये थे !

रोना विल्सन की गिरफ्तारी के बाद इस देश के अलग-अलग जगहों से 15 अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं, डॉक्टरों, वकीलों आदि की गिरफ्तारियां हुईं, इन सभी पर आरोप है कि इन सभी लोगों का सम्बंध उक्त रोना विल्सन से है, इन गिरफ्तार लोगों में इंसानियत पर कविता लिखनेवाले 82 वर्षीय कवि वरवरा राव, आईआईएम अहमदाबाद के 71 वर्षीय प्रोफेसर आनन्द तेलतुंबड़े, प्रोफेसर शोमा सेन, आजीवन आदिवासियों और बेसहारा लोगों के अधिकारों के लिए संघर्ष करनेवाले 84 वर्षीय स्टैन स्वामी, विकलांगों की मदद करनेवाले वर्नन गोंजाल्विस और गरीबों के केस लड़नेवाले दयालु वकील अरूण फरेरा, सामाजिक कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज, गौतम नवलखा, महेश राउत, नताशा नरवाल, हैनी बाबू, सुधीर ढावले, गौतम गिलानी, देवांगना कालिता, सुरेंद्र गाडगिल आदि जैसे परोपकारी व नेकदिल लोगों को गिरफ्तार करके पिछले दो सालों से उन्हें जेलों में गैरकानूनी रूप से सड़ाया जा रहा है।

अफसोस, हतप्रभ और विस्मित करनेवाली बात यह भी है कि उक्त लोगों में कुछ ऐसे लोग भी हैं,जो शारीरिक और मानसिक रूप से इतने अशक्त, कमजोर, निर्बल, बेबस और लाचार हैं कि वे अपने हाथों से ठीक से पानी तक नहीं पी सकते, न खाना खा सकते हैं यथा जनकवि वरवरा राव, प्रोफेसर आनन्द तेलतुंबड़े और आदिवासियों के लिए अपना समस्त जीवन तक समर्पित कर देने वाले स्टैन स्वामी जैसे लोग! कितने आश्चर्य और क्षुब्ध कर देनेवाली बात है कि ऐसे वृद्ध, बीमार, लाचार, अशक्त और बेबस लोगों पर मोदी ऐंड कंपनी सरकार के कर्णधारों ने मोदी की हत्या की कथित साजिश रचने के आरोप लगाकर पिछले दो सालों से भारत के विभिन्न जेलों में ठूँस रखा है!

ये सभी लोग अपनी शारीरिक व मानसिक अस्वस्थता की वजह से गुहार लगाकर अपनी रिहाई और वृद्धावस्था में अपने परिवार और परिजनों के साथ रहने की अंतिम इच्छा और लालसा हेतु भारत के विभिन्न हाईकोर्ट्स और सुप्रीमकोर्ट तक में बार-बार अपनी जमानत याचिका दाखिल कर रहे हैं,लेकिन भारतीय न्यायपालिका में ऐसे कथित न्यायमूर्ति बैठे हैं, जो सत्ता के कर्णधारों के गुप्त इशारों के दबाव के चलते और उनके डर से इतने हठधर्मी और अमानवीय हो गए हैं कि उक्तवर्णित अशक्त बुजुर्गों की जमानत याचिकाओं को बार-बार खारिज किये जा रहे हैं!

वाशिंगटन पोस्ट की यह खबर पिछले दिनों द ट्रिब्यून, इंडिया टुडे,लाईव मिन्ट,एनडीटीवी,वाशिंगटन पोस्ट स्क्रोल और हिन्दुस्तान टाइम्स जैसे लब्धप्रतिष्ठित और सम्मानित भारतीय समाचार पत्रों के साथ तमाम विदेशी मिडिया के समाचार पत्रों में भी प्रकाशित हुआ है।

आर्सेनल कंसल्टिंग जो एक अमेरिकी फोरेंसिक फर्म है,की फोरेंसिक रिपोर्ट ने इसका खुलासा किया है कि किसी अज्ञात हैकर ने रोना विल्सन की गिरफ्तारी से पूर्व उनके लैपटॉप में एक चोर साफ्टवेयर जिसे मैलवेयर साफ्टवेयर कहते हैं,के जरिए कुछ आपत्तिजनक पत्र डाले,  पुणे पुलिस ने उन्हीं छद्म और फ्रॉड पत्रों को रोना विल्सन के खिलाफ अपने शुरूआती साक्ष्य के रूप में कोर्ट में इस्तेमाल किया।

रोना विल्सन के लैपटॉप से प्राप्त पत्रों में से एक पत्र,जिसमें कथित एक माओवादी आतंकवादी को सम्बोधित किया गया था, जिसमें उसने प्रधानमंत्री मोदी की हत्या करने का अनुरोध किया गया था, इसी पत्र में रोना विल्सन ने कथित तौर पर गोला-बारूद और बंदूकों की आपूर्ति की चर्चा भी की थी, लेकिन अर्सेनल कंसल्टिंग की रिपोर्ट में साफतौर पर कहा गया है कि ये बात रोना विल्सन ने कभी लिखा ही नहीं,न किसी को भेजा !

बल्कि यह पत्र रोना विल्सन के कम्प्यूटर में चोर दरवाजे से सेंधमारी कर चुपके से ठूँसा गया था और हैकर ने एक मैलवेयर मतलब चोरी से काम करने वाले साफ्टवेयर के जरिए,जो अमेरिका और यूरोप के बाजारों में सिर्फ 7 डालर यानि लगभग 500 रूपये में कहीं भी आसानी से मिल जाता है,की मदद से रोना विल्सन की डिवाइस में डालकर उस पर भी नियंत्रण और जासूसी किया था !

आगे बताया गया है कि रोना विल्सन को जून 2016 में एक गुमनाम व्यक्ति से कुछ ईमेल प्राप्त हुआ, जिसमें उनका परिचय एक साथी कार्यकर्ता के रूप में हुआ था,उस गुमनाम व्यक्ति मतलब चोर हैकर ने कथित तौर पर उन्हें नागरिक स्वतंत्रता समूह के एक बयान को डाउनलोड करने के लिए एक क्लिक करने का आग्रह किया था, लेकिन रोना विल्सन द्वारा क्लिक करने के तुरंत बाद लिंक ने नेटवायर को तैयार किया। रिपोर्ट के अनुसार चोर हैकर ने मैलवेयर का इस्तेमाल एक छिपे हुए फोल्डर को बनाने के लिए किया, जहाँ 10 गुप्त पत्र जमा किए हुए थे, आर्सेनल एजेंसी के अनुसार अक्षरों को माइक्रोसॉफ्ट शब्दों के एक काफी आधुनिकतम् वर्जन का उपयोग करके उसे तैयार किया गया था, जो कि रोना विल्सन के कम्प्यूटर में मौजूद ही नहीं था !

आर्सेनल की रिपोर्ट में कहा गया कि रोना विल्सन उस चोर हैकर्स के अकेले शिकार नहीं हुए थे,अपितु एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भी अपने 2020 की रिपोर्ट में खुलासा किया है कि भीमा कोरागांव मामले में आरोपी कार्यकर्ताओं की मदद करनेवाले अन्य 9 लोगों के भी कम्प्यूटरों में ईमेल के जरिए उन्हें निशाना बनाया गया था,सबसे बड़ी बात यह है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल और आर्सेनल दोनों ही एजेंसियों की रिपोर्टों में एक ही डोमेन नाम और आईपी पते सामने आए हैं,इन फर्जी पत्रों के आधार पर ही सभी कथित 16 अपराधियों को गिरफ्तार करके पिछले दो सालों से जेल में डाला गया है।

ठीक इसी तरह की घटना सन् 2011में टर्की में भी हुई थी, जब वहाँ की सत्तारूढ़ सरकार के शासक कुछ पत्रकारों पर यह गलत आरोप लगाकर कि वे वहाँ के शासक का तख्ता पलटना चाहते हैं, उन्हें जेल में ठूँस दिया, परन्तु जब आर्सेनल के एक्सपर्ट ने पता लगाया कि यह सब फर्जी तौर पर किया गया है, तब इसका भेद खुलने के बाद तुर्की सरकार को उन बेकसूर पत्रकारों को जेल से रिहा करना पड़ा था।

रोना विल्सन और 15 अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ यह घटना उस समय घटित हुई, जब ये सभी लोग भीमा कोरागांव की लड़ाई की 200 वीं वर्षगाँठ मनाने के लिए भीमा कोरागांव क्षेत्र में इकट्ठे हुए थे, दलित समाज इसे सदियों से हर वर्ष 1 जनवरी को दमनकारी उच्च जातियों के शासकों पर जीत की खुशी में एक विजयदिवस के रूप में मनाते रहे हैं।

इसका इतिहास यह है कि भीमा कोरागांव में 1 जनवरी 1818 को अंग्रेजों की महार रेजिमेंट जिसके सेनापति कैप्टन एक अंग्रेज फ्रांसिस एफ.स्टौंटन थे उनकी इस सेना में 500 पैदल सैनिक, 300 घुड़सवार सैनिक और 24 तोपों के साथ पेशवा बाजीराव द्वितीय के नेतृत्व में,जिनकी सेना में 8000पैदल सैनिक और 20000 घुड़सवार सैनिकों के साथ भयंकर युद्ध हुआ, जिसमें सिर्फ 12 घंटे युद्ध के बाद ही अंग्रेज कैप्टेन जनरल जोसेफ स्मिथ की अगुवाई में अंग्रेजों की बड़ी सेना आने की संभावना सुनकर ही मराठा सेना युद्धमैदान से पलायन कर गई और अंततः महार रेजिमेंट की विजय हो गई,इसी युद्ध की जीत के बाद महाराष्ट्र की यह दलित महार समाज हर साल 1जनवरी को विजयदिवस के रूप में अपना यह जश्न पूरे धूमधाम से मनाता रहा है।

1 जनवरी 2018 को इसी युद्ध के 200 वीं वर्षगाँठ के अवसर पर इसको आयोजित करनेवाले एल्गार परिषद के कई सदस्यों,दलित अधिकार कार्यकर्ताओं व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने इस सभा को सम्बोधित किया, लेकिन सत्तारूढ़ सरकार के इशारे पर कुछ धर्म और जाति के संकीर्ण विचारधारा के पोषक तत्वों ने यहाँ दंगे करवाकर, प्रोपेगेंडा करवाकर इस जलसे में आए विद्वान जनों को बदनाम करने का भरपूर प्रयास किया।

उसके बाद उक्तवर्णित रोना विल्सन प्रकरण करके कथित प्रधानमंत्री की हत्या की साजिश करने और देश की अखंडता और एकता को तोड़ने की कथित साजिश के तहत उन पर गंभीर आरोप जड़कर उन्हें पिछले दो साल पूर्व उन पर यूपीपीए मतलब अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट लगाकर उन्हें गिरफ्तार कर दो साल से जेलों में सड़ाया जा रहा है। हमारे प्रधानमंत्री महोदय द्वारा लोकसभा में महज गलत आरोपों के आधार पर जेल में बंद इन दयालु,निश्छल व नेकदिल लोगों को आतंकवादी और दगाबाज कह देना उनकी सतही बुद्धि का परिचायक ही कहा जा सकता है।

भारत में वर्तमान समय में किसी पर भी फर्जी धाराएं लगाकर महीनों जेल में बंद कर देना भारतीय पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के लिए एक सामान्य सी बात हो चुकी है। आजकल पुलिस द्वारा किसी व्यक्ति को गलत धाराओं में गिरफ्तार करने के बाद गोदीमिडिया में उस व्यक्ति के खिलाफ बाकायदा प्रोपैगैंडा चलाया जाता है। पिछले सालों में 6300 लोगों पर कथित राजद्रोह का मुकदमा चलाया गया है,उन लोगों पर यूपीपीए मतलब अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट लगाकर उन्हें जेलों में ठूँस दिया गया, जबकि उनमें से मात्र 2 प्रतिशत लोगों पर ही सजा निर्धारित हो पाई है।

आज मृणाल पांडेय, सिद्धार्थ वरदराजन, राजदीप सरदेसाई,परेशनाथ आदि जैसे पत्रकारों और कांग्रेस नेता शशि थरूर जैसे नेताओं पर राजद्रोह का केस चल रहा है। यक्षप्रश्न है कि 98 प्रतिशत बेकसूर और बेगुनाह लोगों पर अनावश्यक आरोप लगाकर जेलों में ठूँसनेवाले दोषी सत्ता के कर्णधारों,चमचे न्यायधीशों और पुलिस के अफसरों को कौन दंड देगा? और कब तक इनको दंड मिलेगा ? यह प्रश्न अनुत्तरित क्यों है ?

(निर्मल कुमार शर्मा प्रतापविहार,गाजियाबाद में रहते हैं।)

You May Also Like

More From Author

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments