Wednesday, April 24, 2024

अर्णब गोस्वामी की सेवा में सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट को अर्णब गोस्वामी की रक्षा में सामने आने में एक क्षण नहीं लगा है । उसे उनके अपराधी कृत्यों के लिये तत्काल अभय दे दिया गया है । जबकि अन्य तमाम मामलों में यही सुप्रीम कोर्ट त्रिशंकु की तरह अधर में चमगादड़ों की तरह औंधे लटका हुआ दिखाई देता है । 

कश्मीर से लेकर देश भर में मानव अधिकारों, नागरिक के मूलभूत और ज़िंदा रहने के अधिकारों के विषयों पर विचार को उसने अनंत काल के लिए टाल कर रख दिया है । इनमें शासक दल के नेताओं के अपराधी कृत्यों के मामले भी शामिल हैं ।

उसकी यह अधर में लटकी हुई, शूली पर हवा में लटके आदमी की तस्वीर से लगता है जैसे क़ानून की अपनी आंतरिक ज़रूरतों और उस पर पड़ रहे बेजा बाहरी दबावों से कोई ट्यूमर फटने की अंतिम स्थिति में पहुँच चुका है । यह क़ानून की सीमा और राष्ट्र की लोकतांत्रिक अपेक्षाओं बीच के तनाव से मर रहे एक संस्थान की करुण दशा की तस्वीर  है। 

सुप्रीम कोर्ट के कथित विद्वान न्यायाधीशों को लगता है अभी तक न्याय का यह न्यूनतम बोध हासिल करना बाक़ी है कि शासन के प्रति किसी भी प्रकार का व्यामोह व्यक्ति के खुद के विवेक के क्षरण का ही कारण बनता है । मोदी-शाह की ओर टकटकी लगाए सुप्रीम कोर्ट के जजों की याचकों की तरह की यह दयनीय स्थिति आज सचमुच राष्ट्रीय शर्म का विषय है ।

(अरुण माहेश्वरी लेखक और चिंतक हैं आप आजकल कोलकाता में रहते हैं।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

मोदी के भाषण पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं, आयोग से कपिल सिब्बल ने पूछा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'कांग्रेस संपत्ति का पुनर्वितरण करेगी' वाली टिप्पणी पर उन पर निशाना साधते...

Related Articles

मोदी के भाषण पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं, आयोग से कपिल सिब्बल ने पूछा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'कांग्रेस संपत्ति का पुनर्वितरण करेगी' वाली टिप्पणी पर उन पर निशाना साधते...