Tuesday, March 5, 2024

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा, यूपी और राजस्थान की सरकारों को लगाई फटकार, कहा- पराली जलाना तुरंत बंद करें

पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण के मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने पंजाब सरकार को फटकार लगाई। सुप्रीम कोर्ट ने भगवंत मान सरकार को तुरंत पराली जलाने पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने पूछा कि सरकार पराली जलाने की घटनाओं को क्यों नहीं रोक पा रही है। सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि हम नहीं जानते आप कैसे रोकेंगे, लेकिन पराली जलाने की घटनाओं को तुरंत रोकिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये राजनीतिक लड़ाई का मैदान नहीं है। राजनीतिक ब्लेम गेम को भी रोका जाना चाहिए।

दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में खराब होती वायु गुणवत्ता के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार (7 नवंबर) को पंजाब, राजस्थान और हरियाणा की सरकारों को राज्य में किसानों द्वारा पराली जलाने पर रोक लगाने के लिए तत्काल कदम उठाने का सख्त निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा कि यह वायु प्रदूषण में प्रमुख योगदानकर्ताओं में से एक है। न्यायालय ने मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक की समग्र निगरानी में स्थानीय राज्य गृह अधिकारी को फसल जलाने से रोकने के लिए जिम्मेदार बनाया।

जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस सुधांशु धूलिया की खंडपीठ ने पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान राज्यों के बीच बैठक आयोजित करने का निर्देश दिया, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि फसल जलाना तुरंत बंद हो जाए। इसके अलावा, कोर्ट ने दिल्ली सरकार को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि शहर में खुले में नगर निगम का ठोस कचरा न जलाया जाए, जैसा कि होता है।

मामले में एमिक्स क्यूरी, सीनियर एडवोकेट अपराजिता सिंह ने अदालत को सूचित किया कि दिल्ली सरकार द्वारा पहले के निर्देशों के अनुसार लगाए गए स्मॉग टावर काम नहीं कर रहे हैं। कोर्ट ने स्थिति को ‘हास्यास्पद’ बताते हुए दिल्ली सरकार को स्मॉग टावरों की मरम्मत के लिए तत्काल कदम उठाने का निर्देश दिया।

न्यायालय ने दिल्ली सरकार को यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया कि केवल दिल्ली में रजिस्टर्ड टैक्सियां ही राजधानी में चल रही हैं, क्योंकि अन्य राज्यों से केवल एक यात्री को ले जाने वाली बड़ी संख्या में टैक्सियां राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में चल रही हैं।

जस्टिस संजय किशन कौल ने सुनवाई के दौरान पंजाब के एडवोकेट जनरल गुरमिंदर सिंह से कहा कि हम चाहते हैं कि यह (पराली जलाना) बंद हो। हम नहीं जानते कि आप यह कैसे करते हैं, यह आपका काम है। लेकिन इसे रोका जाना चाहिए। तुरंत कुछ करना होगा।

जस्टिस कौल ने कहा, “हमें इसकी परवाह नहीं है कि आप इसे कैसे करते हैं.. इसे रुकना चाहिए। चाहे कभी बलपूर्वक कार्रवाई से या कभी प्रोत्साहन से.. आपको आग को रोकना होगा। आपके प्रशासन को ऐसा करना ही होगा। आपके स्थानीय एसएचओ को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.. आज से उन्हें इस पर काम करना शुरू कर देना चाहिए।” जस्टिस कौल ने आगे कहा, “हम यह नहीं कह रहे हैं कि पराली जलाना ही इसका एकमात्र कारण है, बल्कि यह महत्वपूर्ण कारक है।”

इस बात पर सहमति जताते हुए कि फसल जलाने को रोकने के लिए कदम जरूरी हैं, पंजाब एजी ने कहा कि किसान आर्थिक कारणों से पराली जला रहे हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि केंद्र आवश्यक सुविधाएं प्रदान करने के लिए सब्सिडी दे। एजी ने यह भी सुझाव दिया कि धान की खेती को चरणबद्ध तरीके से समाप्त कर अन्य फसलों के साथ प्रतिस्थापित किया जाना चाहिए। साथ ही केंद्र को धान के बजाय अन्य फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य देने के विकल्प तलाशने चाहिए।

न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि धान (जो पंजाब की मूल फसल नहीं है) के अलावा अन्य वैकल्पिक फसलों को अपनाना आवश्यक है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि पराली जलाने की समस्या दोबारा न हो। स्विच ओवर तभी हो सकता है, जब धान को एमएसपी न देकर अन्य फसलों को दिया जाए। इस संदर्भ में न्यायालय ने कहा कि केंद्र सरकार किसी भी मामले में पारंपरिक फसलों को उगाने को प्रोत्साहित करने की नीति अपना रही है।

कोर्ट ने आदेश में कहा, हम चाहते हैं कि सभी हितधारक उपरोक्त पहलुओं के संबंध में तुरंत कार्रवाई करें।” पीठ ने कैबिनेट सचिव को इस मुद्दे पर सभी हितधारकों के साथ कल ही बैठक बुलाने का निर्देश दिया। न्यायालय ने पंजाब राज्य को पंजाब उपमृदा जल संरक्षण अधिनियम, 2009 को सख्ती से लागू करने का भी निर्देश दिया। प्रगति की निगरानी के लिए कोर्ट आगामी शुक्रवार को मामले की सुनवाई करेगा।

कोर्ट ने आदेश में कहा, “दिल्ली के निवासी साल-दर-साल स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे हैं, क्योंकि हम इस मुद्दे का समाधान नहीं ढूंढ पा रहे हैं। इस तथ्य पर ध्यान दिए बिना कि मामले में सुधार होता है या नहीं, इस पर तत्काल ध्यान देने और अदालत की निगरानी की आवश्यकता है।”

गौरतलब है कि दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण से जीना मुहाल है। लोगों को जहरीले स्मॉग में सांस लेना मुश्किल हो गया है। दिल्ली-एनसीआर के आस-पास के इलाकों में बढ़ता प्रदूषण खतरे की घंटी बजा रहा है। दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद समेत एनसीआर के इलाकों में हवा की गुणवत्ता यानी एयर क्वालिटी इंडेक्स गंभीर श्रेणी में है।

(जे.पी.सिंह वरिष्ठ पत्रकार और कानूनी मामलों के जानकार हैं।)

जनचौक से जुड़े

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles