Sunday, May 28, 2023

सोडोमी, जबरन समलैंगिकता जेलों में व्याप्त; कैदी और क्रूर होकर जेल से बाहर आते हैं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि भारत में जेलों में अत्यधिक भीड़भाड़ है, और सोडोमी और जबरन समलैंगिकता व्याप्त है। गौतम नवलखा बनाम राष्ट्रीय जांच एजेंसी मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस केएम जोसेफ और हृषिकेश रॉय की पीठ ने कहा कि जेलों में कैदियों के सामने आने वाले मुद्दों के कारण, वे बदला लेने वाले और भी कठोर अपराधियों के रूप में जेल से बाहर आते हैं। जस्टिस जोसेफ ने टिप्पणी की, “मैंने कुछ कार्यक्रमों के लिए जेलों का दौरा किया है। जेलों में बहुत सारे कैदी हैं … सेक्स के लिए जबरन समलैंगिकता”।

पीठ भीमा कोरेगांव के आरोपी गौतम नवलखा की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें तलोजा सेंट्रल जेल की स्थितियों पर प्रकाश डाला गया था, जहां वह वर्तमान में बंद है। कार्यकर्ता ने अनुरोध किया था कि उन्हें जेल से बाहर स्थानांतरित कर दिया जाए और इसके बजाय उन्हें नजरबंद कर दिया जाए।

पीठ ने कहा कि जेलों की स्थिति में सुधार करने का एक तरीका यह है कि उन्हें चलाने में निजी भागीदारी सुनिश्चित की जाए, जो कि संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रचलित है। पीठ ने कहा कि हम एक अवधारणा का सुझाव दे रहे हैं जो यूएसए में है। निजी जेल हैं। इस प्रकार हमें एक तरह के फंड की जरूरत है ताकि ऐसी निजी जेलें बनाई जा सकें ।

जस्टिस जोसेफ ने सरकारी खजाने पर बोझ डालने के बजाय जेल के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी फंड के उपयोग का भी सुझाव दिया। पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा, “इसके अलावा, यहां कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी है। इसका इस्तेमाल सरकारी खजाने पर बोझ डालने के बजाय इस तरह के सेट अप करने के लिए किया जा सकता है। हम सिर्फ सुझाव दे रहे हैं। आप इसे देख सकते हैं”।

पीठ ने एल्गार परिषद-माओवादी लिंक मामले में जेल में बंद ‘गौतम नवलखा’ को इलाज के लिए मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती होने की इजाजत दे दी है। नवलखा ने पेट में कैंसर के इलाज के लिए अच्छे अस्पताल में भर्ती करने की गुहार लगाई थी। पीठ ने यह रेखांकित करते हुए कहा, “चिकित्सा उपचार प्राप्त करना एक मौलिक अधिकार है और यह बिना भेदभाव के सबको मिलना चाहिए। हम निर्देश देते हैं कि याचिकाकर्ता को तत्काल चिकित्सा जांच के लिए ले जाया जाए”।

पीठ ने नवलखा के साथी सहबा हुसैन और बहन को अस्पताल में उनसे मिलने की अनुमति दी है। पीठ ने आगे कहा, “तदनुसार, हम तलोजा जेल अधीक्षक को जसलोक अस्पताल ले जाने का निर्देश देते हैं ताकि वह मरीज की आवश्यक चिकित्सीय जांच की जा सके”।

पीठ ने कहा कि हम स्पष्ट करते हैं कि याचिकाकर्ता पुलिस हिरासत में रहेगा। अस्पताल के अधिकारियों को मरीज के चेक-अप के बारे में एक रिपोर्ट देनी होगी। वरिष्ठ वकील सिब्बल ने गौतम नवलखा का पक्ष लेते हुए सवाल किया, “यह कैसी धारणा है? नवलखा 70 से अधिक के हैं और उन्हें पेट का कैंसर है क्या वह राष्ट्र की सुरक्षा के लिए खतरा हैं”?

पीठ ने कहा है कि अस्पताल अगली सुनवाई पर उनकी मेडिकल स्थिति पर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करेगा। 21 अक्‍टूबर को मामले की अगली सुनवाई होगी। हम अभी इस मामले में हाउस अरेस्ट के बड़े मुद्दे पर विचार नहीं कर रहे हैं।

नवलखा, जो मानवाधिकार कार्यकर्ता और पीपुल्स यूनियन फॉर डेमोक्रेटिक राइट्स के पूर्व सचिव हैं, को अगस्त 2018 में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन शुरुआत में उन्हें नजरबंद कर दिया गया था। बाद में उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अप्रैल 2020 में महाराष्ट्र के तलोजा केंद्रीय जेल में स्थानांतरित कर दिया गया। यह प्रकरण 31 दिसंबर, 2017 को पुणे में आयोजित एल्गार परिषद सम्मेलन में कथित भड़काऊ भाषणों से संबंधित है, जिसके बारे में पुलिस ने दावा किया कि अगले दिन पश्चिमी महाराष्ट्र शहर के बाहरी इलाके में कोरेगांव-भीमा युद्ध स्मारक के पास हिंसा हुई। जिसका लिंक गौतम नवलखा से जुड़ा बताया जा रहा है।

डिफ़ॉल्ट जमानत मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भरोसा करते हुए, नवलखा ने हाईकोर्ट का रुख करते हुए कहा कि उन्हें तलोजा में बुनियादी चिकित्सा सहायता और अन्य आवश्यकताओं से वंचित किया जा रहा था और अपनी बढ़ती उम्र में बड़ी कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of

guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles

डीयू ने बीए पॉलिटिकल साइंस से मोहम्मद इकबाल का चैप्टर हटाया, अकादमिक कौंसिल ने दी मंजूरी

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय ने कई विषयों के पाठ्यक्रमों से साहित्यकारों, कवियों, दार्शनिक चिंतकों...