Friday, December 3, 2021

Add News

आंदोलनकारियों को एनआईए का नोटिस मिलना सरकार की बेशर्मीः डॉ. दर्शन पाल

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि कल सरकार के साथ वार्ता के दौरान भी NIA द्वारा आंदोलनकारियों को भेजे जा रहे नोटिसों के बारे में शिकायत की गई थी। मंत्रियों ने इस मुद्दे पर विचार करने का आश्वासन दिया था। इसके बावजूद आज भी किसान आंदोलनकारियों को नोटिस मिलना सरकार की बेशर्मी बताता है। सयुंक्त किसान मोर्चा इन नोटिसों की निंदा करता है। आगामी दिनों में इन नोटिसों की प्रतिक्रिया स्वरूप कानूनी कार्यवाही भी की जाएगी।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डॉ. दर्शन पाल ने बताया कि लोक संघर्ष मोर्चा के नेतृत्व में महाराष्ट्र और गुजरात के आदिवासी इलाकों से लगभग एक हजार किसान, जिनमें ज्यादातर महिलाएं हैं, दिल्ली पहुंचेंगी। इसके अलावा, हुसैनीवाला (फिरोजपुर, पंजाब-भगत सिंह के शहीदी स्थल) से AIDSO के नेतृत्व में एक बाइक रैली कल दिल्ली के लिए रवाना हुई, जिसमें 12 राज्यों के छात्र भाग ले रहे हैं।

उन्होंने बताया कि ‘किसान अलायंस मोर्चा’ द्वारा मरीन लाइंस से आज़ाद मैदान तक एक विशाल रैली और जनसभा ‘भव्य किसान मोर्चा’/ ‘मुंबई विद फार्मर्स’ का आयोजन किया गया, जिसमें लगभग हज़ारों नागरिकों ने भाग लिया। संघर्ष और एकजुटता की एक अनूठी प्रदर्शनी में, महाराष्ट्र और गुजरात के युवा किसान एनएपीएम द्वारा आयोजित ‘किसान ज्योति यात्रा‘’ में दिल्ली की ओर पैदल यात्रा कर रहे हैं।

किसान नेताओं की जागरूक नागरिकों के साथ एक बड़ी बैठक का आयोजन बैंगलोर में ऐक्य होरता समिति द्वारा किया गया, जिसमें सयुंक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रीय नेताओं ने भी भाग लिया। आज बिहार में लगभग 20 से ज्यादा जिलों में अनिश्चितकालीन धरना, बड़ी जनसभाओं और किसान रैलियों के साथ संपन्न हुआ। 

अब, किसान पंचायतों के आयोजन के लिए गांवों में जाएंगे और 18 जनवरी, 23वें और 26वें कार्यक्रमों के लिए और 30 जनवरी को महात्मा गांधी के शहादत दिवस पर मानव श्रृंखला के लिए जुटेंगे। ये सभी कार्यक्रम अखिल भारतीय किसान महासभा के बैनर तले हुए।

डॉ. दर्शन पाल ने कहा कि जैसा कि पहले बताया गया है, केरल के लगभग 1000 किसानों ने केरल संघम (एआईकेएस) शाहजहांपुर विरोध स्थल में शामिल होने के लिए केरल से पूरे 3000 किलोमीटर से अधिक की यात्रा की है। दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शनकारी किसानों के साथ एकजुटता में, ओडिशा के गंजम जिले में ओडिशा कृषक सभा (एआईकेएस) द्वारा प्रदर्शन किए गए। ओडिशा से दिल्ली के लिए रवाना हुई किसान चेतना यात्रा का बिहार में जोरदार स्वागत हुआ।

मज़दूर किसान शक्ति संगठन (MKSS) के नेतृत्व में राजस्थान के किसान और मज़दूर शाहजहांपुर बॉर्डर पर पहुंच गए हैं। किसानों के मुद्दों को संबोधित करने के साथ-साथ, MKSS के कार्यकर्ता आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम के हानिकारक प्रभावों को आम जनता को समझा रहे हैं।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

झारखंड: मौत को मात देकर खदान से बाहर आए चार ग्रामीण

यह बात किसी से छुपी नहीं है कि झारखंड के तमाम बंद पड़े कोल ब्लॉक में अवैध उत्खनन करके...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -