Thursday, December 2, 2021

Add News

कोरोना से दो-दो हाथ करने को तैयार है दुनिया

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

इंतज़ार की घड़ी खत्म हुई। विश्व स्तर पर कहर बरपा रही महामारी कोरोना वायरस से छुटकारा पाने के लिए दुनिया भर के लोग वैक्सीन के लिए अपनी आस्तीन ऊपर उठाना शुरू कर चुके हैं। बहुत से लोग अभी भी टीका लगवाने से झिझक रहे हैं, हालांकि टीके एंटीबॉडी बनाने के लिए आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रशिक्षित करते हैं। आज डिप्थीरिया, टेटनस, इन्फ्लूएंजा और खसरा जैसी कम से कम 20 बीमारियों से बचाव के लिए टीके उपलब्ध हैं। डब्ल्यूएचओ का अनुमान है कि टीके हर साल दो से तीन मिलियन के बीच लोगों की जान बचाते हैं। कोरोना काल के इतिहास में जहां ट्रायल डेटा को सबसे पहले जारी करने वाली कंपनी फाइजर और जर्मन बायोटेक्नोलॉजी बनी तो वहीं आपातकालीन उपयोग के लिए शॉट को मंजूरी देने वाला ब्रिटेन पहला था देश बना।

दुनिया भर में COVID-19 के 111 मिलियन मामलों की पुष्टि की गई है और कम से कम और 2.36 मिलियन लोगों ने अब तक कोरोनो वायरस की महामारी के कारण दम तोड़ दिया है। इसीलिए पहली बार पूरी दुनिया के देशों ने तकनीक को साझा कर इस महामारी को रोकने के लिए अपनी-अपनी ताक़त झोंक दी। आज तक 37 देशों में कोरोना वायरस टीकों की 15.9 मिलियन से अधिक खुराक प्रबंधित की गई हैं। लगभग सभी देश में टीकों तक पहुंच के लिए पूरी तरह से कोवाक्स सुविधा पर निर्भर हैं, और उन्हें अपने शिपमेंट के लिए 2022 तक इंतजार करना पड़ सकता है। वैक्सीन के सैकड़ों उम्मीदवारों में से सात को ही सामान्य उपयोग के लिए मंजूरी दी गई है।

पहले ही 825 करोड़ से अधिक खुराकें खरीदी जा चुकी हैं और 37 देशों में लगभग 15 मिलियन खुराकें इंजेक्ट की गई हैं। इन सात टीकों का एक ही प्रभाव है, लेकिन शरीर में अलग तरह से काम करते हैं और परिवहन, भंडारण और प्रशासन के अपने स्वयं के साधनों की आवश्यकता होती है। टीके जो कोरोनावायरस के खिलाफ शीघ्र उपयोग के लिए स्वीकृत या अधिकृत किए गए हैं, चार अलग-अलग तकनीकों का उपयोग करते हैं।

न्यूक्लिक एसिड/आनुवंशिक टीके (RNA)
ये टीके प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करने के लिए सिंथेटिक वायरस जीन का उपयोग करते हैं। वैक्सीन किसी भी तरह से वैक्सीन प्राप्तकर्ता के जीन को नहीं बदलता है, आनुवंशिक सामग्री शरीर की कोशिकाओं को प्रतिजन का उत्पादन करने का कारण बनती हैं। यह बदले में एंटीबॉडी के उत्पादन को उत्तेजित करता है। प्रतिरक्षा संरक्षण लंबे समय तक रहता है, लेकिन आनुवांशिक निर्देश कुछ दिनों के भीतर दहन करते हैं। Pfizer-BioNTech और Moderna द्वारा बनाए गए टीके इस तकनीक का उपयोग करते हैं।

वायरल वेक्टर-आधारित टीके
ये टीके आनुवांशिक निर्देशों के साथ शरीर की कोशिकाओं को भी प्रदान करते हैं, हालाँकि वाहन अलग है। आनुवंशिक सामग्री के बजाय, यह टीका निर्देशों का परिवहन करने के लिए एक हानिरहित वायरस का उपयोग करता है। शरीर की कोशिकाएं प्रतिजन का उत्पादन करती हैं, जो एंटीबॉडी उत्पादन को ट्रिगर करता है। इबोला का टीका इस तकनीक का उपयोग करता है। एस्ट्राज़ेनेका और ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा बनाए गए Covid-19 वैक्सीन, तथा  गामाले रिसर्च इंस्टीट्यूट की स्पुतनिक V वैक्सीन, इस तकनीक का उपयोग करते हैं।

प्रोटीन आधारित टीके
इन टीकों में संपूर्ण प्रोटीन के टुकड़े होते हैं। कुछ को छोटे कणों से जोड़ा जा सकता है। यह एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करता है। हेपेटाइटिस बी का टीका इस तकनीक का उपयोग करता है। Covid-19 के लिए एक प्रोटीन-आधारित वैक्सीन को अभी अनुमोदित किया जाना है। नोवावैक्स, सनोफी और बेकोटॉप द्वारा निर्मित संभावित टीके इस तकनीक का उपयोग कर रहे हैं।

निष्क्रिय टीके
इन टीकों में वायरस होते हैं, जिनकी आनुवंशिक सामग्री नष्ट हो गई है। हालांकि, वे अभी भी एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया भड़का सकते हैं। इस तकनीक का उपयोग टीकों में खसरा, कण्ठमाला और इन्फ्लूएंजा के लिए किया जाता है। इस तकनीक का उपयोग करने वाला एकमात्र अनुमोदित कोरोना वायरस वैक्सीन सिनोफार्मा और बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स में से एक है।

अलग-अलग कंपनियों से अनुमोदित कोरोना वायरस टीकों की सोर्सिंग की बात इसलिए है, ताकि कम समय में अधिक टीके लगाए जा सकें, हालांकि रोकथाम इलाज से बेहतर है और जैसा कि कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि स्वस्थ रहें, सामाजिक दूरी और मेहनती हैंडवाशिंग का अभ्यास करें। जब संभव हो तो फेस मास्क पहनें और निवारक के रूप में परिवर्तित क्षेत्रों से बचें। WHO का अनुमान है कि संक्रमण को रोकने के लिए कम से कम 70 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन लगानी होगी और दुनिया हर्ड इम्यूनिटी की ओर बढ़ेगी। कहीं भी कोविड वैक्सीन लगवाना अनिवार्य नहीं किया गया है, लेकिन ज़्यादातर लोगों को यह सलाह दी जाती है कि वो वैक्सीन लगवाएं। हालांकि, स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से जूझ रहे लोगों के मामले में यहां अपवाद है।

ग्लोबल वैक्सीन की आपूर्ति, जिस बिंदु पर जनसंख्या का 50% टीकाकरण किया गया है वह अमेरिका और ब्रिटेन, कनाडा, यूरोपीय संघ, ऑस्ट्रेलिया और जापान के लिए अप्रैल से जुलाई में यथार्थवादी लग रहा है, अगर मिक्सोपैथी को बढ़ावा देने से बचें तो भारत भी इस साल में 50% टीकाकरण कर सकता है, क्यूंकि दुनिया भर में फैले वैक्सीन राष्ट्रवाद के ख़तरे से निपटने के लिए मध्यम और कम आमदनी वाले देश ही एक उम्मीद है और उनमें सबसे पहला नाम भारत का है, क्योंकि भारत विश्व का सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता है।

* आरिफ सिद्दीकी
(लेखक एक्टिविस्ट हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कृषि कानूनों में काला क्या है-12:कृषि उपज मंडी और आवश्यक वस्तु कानूनों में कैसा संशोधन चाहती थी कांग्रेस?

वैसे तो तीनों कृषि कानूनों को लेकर अगर कोई एक विपक्षी नेता सीना तान के खड़ा रहा तो उसका...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -