Monday, October 25, 2021

Add News

कल किसानों का देशव्यापी काला दिवस; काले झंडे लगाकर व पुतले जलाकर होगा मोदी सरकार का विरोध

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। किसान मोर्चे ने कहा है कि कल दिल्ली मोर्चों के साथ-साथ देश के सभी किसानों के धरनों में बुद्ध पूर्णिमा का पावन पर्व मनाया जाएगा। सत्य और अहिंसा के दम पर लड़े जा रहे इस आंदोलन को कल 6 महीने पूरे हो रहे हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने सभी देशवासियों से इस त्यौहार को मनाने की अपील की है जिससे सत्य और अहिंसा के विचार को प्रसारित किया जा सके। उसका कहना है कि भाजपा द्वारा इस आंदोलन को हिंसक रंग देने का प्रयास किया जाता रहा है पर वह हमेशा फेल हुए हैं। किसानों ने सत्य के दम पर अपने आप को मजबूत रखा हुआ है। इसी सत्य व अहिंसा की ताकत के कारण किसान आंदोलन सफल होगा।

मोर्चे ने कहा कि 26 मई, 2014 से लेकर अब तक, जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है, वह किसानों के खिलाफ तमाम फैसले लेती रही है। सिर्फ किसान के खिलाफ ही नहीं, मोदी सरकार जनता विरोधी फैसले लेती रही है। इस सरकार ने किसानों, मजदूरों, गरीबों, दलितों, महिलाओं, आदिवासियों, छात्रों, युवाओं, छोटे व्यापारियों एवं सभी नागरिकों पर लगातार दमन किया। मोदी सरकार के 26 मई 2021 को 7 साल होने जा रहे हैं जिसे संयुक्त किसान मोर्चा विरोध दिवस के रूप में मना रहा है। संयुक्त किसान मोर्चा ने सभी देशवासियों से अपील की है कि इस दिन अपने घरों, वाहनों एवं तमाम जगहों पर काले झंडे लगाकर विरोध किया जाए। सभी लोग केंद्र की मोदी सरकार के पुतले जलाएं एवं सरकार के प्रति अपना विरोध प्रकट करें। इस दौरान नागरिक ऑनलाइन माध्यम से भी सरकार का विरोध करें।

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने इस ऐतिहासिक दिन ‘ब्लैक डे’ पर किसानों, मजदूरों, युवाओं, छात्रों, कर्मचारियों, लेखकों, चित्रकारों, ट्रांसपोर्टरों, व्यापारियों और दुकानदारों सहित सभी वर्गों से अपना विरोध व्यक्त करने की अपील की है। किसान नेताओं ने कहा कि पक्के मोर्चों में काली पगड़ी और काली चुन्नी पहनी जाए। चौक-चौराहों पर नारेबाजी व धरना-प्रदर्शन किया जाए। उन्होंने कहा कि घरों, दुकानों, कार्यालयों, ट्रैक्टरों, कारों, जीपों, स्कूटरों, मोटरसाइकिलों, बसों, ट्रकों पर काले झंडे लगाकर और मोदी सरकार के पुतले जलाकर तीन कृषि कानूनों, बिजली संशोधन विधेयक 2020 और प्रदूषण अध्यादेश का कड़ा विरोध किया जाएगा।

आरएसएस के किसान संगठन भारतीय किसान संघ द्वारा संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा प्रस्तावित विरोध दिवस पर आपत्ति जताई गई। यह आपत्ति स्वाभाविक है क्योंकि इस आंदोलन के कारण खासतौर पर भारतीय किसान संघ की जमीन बिल्कुल खिसक चुकी है। भारतीय किसान संघ ने किसान मोर्चा पर बेबुनियाद आरोप लगाए हैं व किसानों को बदनाम करने की प्रयास किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि वह भारतीय किसान संघ के सभी आरोपों को खारिज करता है। भारतीय किसान संघ यह जानने को उत्सुक है कि संयुक्त किसान मोर्चा ने विरोध दिवस के लिए 26 मई का दिन ही क्यों चुना तो उन्हें हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि इसी दिन किसान विरोधी नरेंद्र मोदी सरकार सत्ता में आई थी जिनके दबाव में भारतीय किसान संघ ने यह पत्र लिखा है। किसान दिल्ली की सीमाओं पर लड़ रहे हैं और बीकेएस हम पर गलत इल्जाम लगा रही है। हम भारतीय किसान संघ से आग्रह करते हैं कि वह सरकार से निवेदन करे कि तीनों कृषि कानून तुरंत रद्द किए जाएं और एमएसपी पर कानून बनाया जाए ताकि किसानों का यह आंदोलन खत्म हो और सभी किसान अपने अपने घर चले जाएं।

जारीकर्ता – बलवीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हनन मौला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उग्राहां, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव, अभिमन्यु कोहाड़

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने ईडब्ल्यूएस-ओबीसी आरक्षण की वैधता तय होने तक नीट-पीजी काउंसलिंग पर लगाई रोक

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को एनईईटी-पीजी काउंसलिंग पर तब तक के लिए रोक लगाने का निर्देश दिया, जब तक...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -