Saturday, November 27, 2021

Add News

बांग्लादेश की आज़ादी के आंदोलन में भाग लेते हुये किस जेल गये थे मोदी, नहीं जानता पीएमओ

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

पीएमओ को नहीं पता बांग्लादेश की आज़ादी के समय किस जेल में रखे गये थे नरेंद्र मोदी! दरअसल ये खुलासा हुआ है एक आरटीआई के सवाल में भेजे गये पीएमओ के जवाब से। प्रधानमंत्री कार्यालय का कहना है कि यह कार्यालय नरेंद्र मोदी के 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से उनका आधिकारिक रिकॉर्ड रखता है। 

टीएमसी शासित बिधाननगर महानगरपालिका बोर्ड सदस्य राजेश चिरिमार ने 26 मार्च को आरटीआई आवेदन किया था। चिरिमार ने अपनी आरटीआई में पीएमओ से तीन सवाल पूछे थे- 

1- कौन सी तारीख से कब तक नरेंद्र मोदी जेल में रहे थे? 

2- नरेंद्र मोदी को किन आरोपों में जेल में डाला गया था? 

3- नरेंद्र मोदी को किस जेल में रखा गया था? 

राजेश चिरिमार को उनकी आरटीआई का जवाब पिछले दिनों ही मिला है। जिसमें पीएमओ की ओर से साफ कहा गया है कि वह किसी प्रधानमंत्री के कार्यकाल की ही जानकारी दे सकता है।

आरटीआई के जवाब में पीएमओ के पब्लिक इन्फॉर्मेशन ऑफिसर की तरफ से कहा गया है कि प्रधानमंत्री के भाषणों की जानकारी का रिकॉर्ड पीएमओ की वेबसाइट पर मौजूद है। इस बात पर भी गौर किया जाए कि यह कार्यालय नरेंद्र मोदी का 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से आधिकारिक रिकॉर्ड रखता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ढाका में बांग्लादेश की आजादी के 50 साल पूरे होने के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के दौरान 26 मार्च को उन्होंने कहा कि – उन्होंने भी बांग्लादेश की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था और जेल गए थे। उन्होंने कहा, “मेरी आयु 20-22 साल रही होगी जब मैंने और मेरे कई साथियों ने बांग्लादेश के लोगों की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था और उसके समर्थन में गिरफ्तारी भी दी थी जेल जाने का अवसर भी आया था। यहां पाकिस्तान की सेना ने जो जघन्य अपराध किए वो तस्वीरें विचलित करती थीं, कई दिन तक सोने नहीं देती थीं।”

कितनी हास्यास्पद बात है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जेल जाने का रिकॉर्ड खुद प्रधानमंत्री कार्यालय के पास नहीं है। 

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

हर ढाई किलोमीटर पर पुलिस छावनी बनाने की बजाय स्कूल और अस्पताल बनाओ : सिलगेर में बादल सरोज  

सिलगेर (सुकमा)। साढ़े छह महीने से लोकतंत्र की बहाली और न्याय के इंतज़ार में सिलगेर में डटे आंदोलनकारियों के...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -