Thursday, October 28, 2021

Add News

जन्मदिवस पर विशेष: पूरा देश बाबा नागार्जुन का घर था

ज़रूर पढ़े

राहुल सांकृत्यायन अथक यायावर हुए हैं। उनके बाद ‘बाबा’ को यह खिताब अथवा दर्जा हासिल हुआ। फिर किसी को नहीं। बाबा यानी वैद्यनाथ मिश्र विद्यार्थी वैदेह यात्री नागार्जुन बाबा! जनवादी-प्रगतिशील हिंदी और मैथिली कविता के अप्रतिम हस्ताक्षर। जिनका साहित्य और जीवन खिली हुई धूप सरीखा था। हिंदी और मैथिली में लिखे गए उनके संपूर्ण साहित्य में अंधेरे के खिलाफ लड़ने का आह्वान है, लोक द्रोही, सांप्रदायिक व फासीवादी शक्तियों के खिलाफ जेहाद की उकसाहट है, क्रांति के सपने हैं और भूख-वर्गीय गरीबी से गरिमा के साथ जूझने की यथार्थवादी तरकीबें हैं। 

गद्य में जो काम मुंशी प्रेमचंद ने किया, आगे जाकर पद्य में नागार्जुन ने किया। हालांकि बाबा का कथा-साहित्य भी बेहद उल्लेखनीय और विलक्षण है। लेकिन उनकी मूल पहचान कवि की है। लोकवादी कवि की। नागार्जुन पूरे एक युग का नाम था। जैसे मुक्तिबोध, त्रिलोचन, शमशेर बहादुर सिंह, केदारनाथ अग्रवाल अपने-अपने तौर पर ‘युग’ थे। हिंदी काव्य साहित्य का इतिहास और वर्तमान इन्हें इसी रूप में मानता-जानता है।

जमकर लिखने के साथ-साथ बाबा नागार्जुन ने ताउम्र जमकर घुमक्कड़ी की। यायावरी और वह-एक दूसरे के पर्याय थे। बाबा समूची दुनिया को अपना घर मानते थे। देश तो उनका ‘घर’ था ही। न जाने कितने परिवारों के वह सर्वमान्य बुजुर्ग थे।                            

एक बार जालंधर आए। कालजयी उपन्यास ‘धरती धन न अपना’ के लेखक (अब दिवंगत) जगदीश चंद्र को ढूंढते रहे। पता चला कि वह इन दिनों होशियारपुर में हैं तो वहां चले गए। उसके बाद उससे भी आगे निकल गए। गोया उन्हें यायावरी का नशा था। कभी पंजाब में तरसेम गुजराल के यहां होते थे तो कभी मध्यप्रदेश में हरिशंकर परसाई, ज्ञानरंजन और भाऊ समर्थ के यहां डेरा-डंडा जमा रहता था। अमृतसर में एक बार तो चंडीगढ़ में दो बार बाबा नागार्जुन महान नुक्कड़ नाटककार गुरशरण सिंह के मेहमान बने।

प्रख्यात आलोचक विजय बहादुर सिंह ने उनकी यायावरी पर लिखा है: ‘वह अपनी शर्तों पर डेरा जमाते। सुरुचि, आत्मीयता, सहजता, उन्मुक्तता, प्रतिबंध मुक्त दिनचर्या का रंगारंग और विभोरकारी आस्वाद ही उन्हें इन जगहों और ठिकानों तक जब-तब खींच लाता। रहने और जाने को तो वह कहां नहीं जाते और रहते थे पर उनका मन तो ऐसी जगहों पर रमता था जहां पारिवारिक व्यवस्था का उत्पीड़क दबाव और स्थूल औपचारिकताओं के दुर्वेह के झमेले न हों।’ 

कभी खुद नागार्जुन ने कहा था, ‘जिसने जनजीवन को नजदीक जाकर नहीं देखा, बार-बार नहीं देखा, वह भला अच्छी रचनाएं कैसे लिख सकता है? हर लेखक को घुमक्कड़ी जरूर करनी चाहिए।’ कितने ही ख्यात लेखकों ने उनके प्रवास की बाबत दिलचस्प ब्यौरे दर्ज किए हैं। मैथिली-हिंदी के प्रसिद्ध लेखक तारानन्द वियोगी ने बाबा नागार्जुन की प्रामाणिक जीवनी ‘युगों का यात्री’ लिखी है। इसमें उनकी यात्राओं का सविस्तार जिक्र है। क्षमा कौल ने एक बार नागार्जुन को कश्मीर आमंत्रित किया तो उन्होंने तीन शर्तें रखी थीं-कवि दीनानाथ नादिम से बार-बार मिलूंगा, चिनार वृक्ष के साथ अधिक से अधिक समय बिताऊंगा और वितस्ता के जल में आचमन करूंगा। चिनार वाली अन्य कविताओं के साथ ‘बच्चा चिनार’ और संस्कृत कविता ‘शीते वितस्ता’ उसी यात्रा की कविताएं हैं। राजेश जोशी ने अपने एक लेख में संकेत किया है कि-‘नागार्जुन की सारी कविताएं एक घुमक्कड़ कवि की यात्रा-डायरियां हैं।’ 

राजेंद्र यादव का कथन है–‘देश का शायद ही कोई कोना हो जहां की यात्राएं उन्होंने न की हों। पर्यटक की तरह नहीं, तीर्थयात्री की तरह। वे जिंदगी भर यात्राएं करते रहे। तय करना मुश्किल है कि उनकी ये यात्राएं भौगोलिक अधिक थीं या मानसिक और रचनात्मक। इन यात्राओं से जो स्मृति चिन्ह (सोविनियर) वे लाए, वह आज हमारे साहित्य की अमूल्य धरोहर है।’ कमलेश्वर ने नागार्जुन पर लिखे अपने व्यक्तिचित्र में लिखा–‘असम, उड़ीसा से राजस्थान या मध्य प्रदेश के अंतरालों में या गंगोत्री की चढ़ाई में या कश्मीर के रास्ते में, या लोनावाला के चायघर में, या बोरीबंदर स्टेशन पर-हर जगह एक-न-एक ऐसा व्यक्ति जरूर मिला है, जो नागार्जुन-सा लगता रहा है। ऐसा क्यों है कि हिंदुस्तान के हर पड़ाव पर एक-न-एक नागार्जुन नजर आता है?

यह सपने की बातें नहीं, सच्चाई है कि बाबा नागार्जुन हर जगह दिखाई पड़ जाते हैं। यशपाल दिखाई नहीं देते। अमृतलाल नागर भी नहीं, भगवती बाबू भी नहीं। पर मुक्तिबोध और नागार्जुन दिखाई पड़ जाते हैं। एक बार किसी सूने छोटे-से स्टेशन से गाड़ी चली, केबिन गुजरा और दिखाई दिया कि नागार्जुन खिड़की की पाटी से लगे झंडी झुकाए खड़े हैं।’ पंकज बिष्ट के अनुसार, ‘जिस तरह नागार्जुन देशभर में घूमते रहे, एक फक्कड़ आदमी की तरह, यह दुनिया को समझने का उनका तरीका था। जो आदमी दुनिया को देखना जानता है, वही दुनिया वालों के लिए भी अपना माना जाता है। इसी तरह बाबा समाज को समझना चाहते थे और उसको आत्मसात करना चाहते थे।’ 

असग़र वजाहत ने लिखा है-‘उनका बिल्कुल रमता जोगी वाला हिसाब-किताब था। जहां मन करता था, चले जाते थे। वे पूरे देश में घूमते थे लेकिन उनको ठहरने की समस्या तो क्या, लोग उनको अपने यहां रखने के लिए कंपटीशन करने लगते थे। कहते थे, भाई बाबा हमारे यहां ठहरेंगे। जितने ज्यादा लोगों को वे जानते थे, उतनी ही ज्यादा उनकी लोकप्रियता भी थी।’ अशोक वाजपेयी ने नागार्जुन को बीसवीं शताब्दी का सबसे बड़ा यायावर बताया है। जीवन में, विचारों में, विधाओं में। हिंदी आलोचना के शिखर पुरुषों डॉ. राम विलास शर्मा, डॉ. नामवर सिंह, डॉ. नवल किशोर नवल और डॉ. मैनेजर पांडेय ने भी बाबा की यायावरी पर विशेष टिप्पणियां की हैं।

(अमरीक सिंह पंजाब के वरिष्ठ पत्रकार हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

क्रूज ड्रग्स केस में 27 दिनों बाद आर्यन ख़ान समेत तीन लोगों को जमानत मिली

पिछले तीन दिन से लगातार सुनवाई के बाद बाम्बे हाईकोर्ट ने ड्रग मामले में आर्यन ख़ान, मुनमुन धमेचा और...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -