तीन दिन से भूखे बेरोजगार युवक ने रायपुर में मुख्यमंत्री दफ्तर के सामने आग लगाकर की आत्महत्या की कोशिश

1 min read
मुख्यमंत्री दफ्तर के सामने का दृश्य।

रायपुर। जिस युवक के घर में दो दिनों से चावल नहीं हो वो मानसिक विक्षिप्त नहीं बल्कि भूख से विक्षिप्त होता है! छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में सोमवार को सिविल लाइंस स्थित मुख्यमंत्री आवास के सामने एक बेरोजगार युवक ने आत्महत्या करने की काेशिश की। युवक ने खुद को आग लगा ली। सुरक्षा कर्मियों ने झुलसता देखा तो आग बुझाने का प्रयास किया। शरीर पर धधकती लपटें लिए युवक तड़प रहा था। मौके पर मौजूद पुलिस के जवानों ने मिट्‌टी और कपड़े से आग बुझाई और एंबुलेंस से नजदीक के अस्पताल में भेजा गया। घटना के बाद सरकार के जनसंपर्क विभाग ने एक नोट जारी कर कह दिया कि युवक मानसिक रूप से अस्वस्थ है जब युवक के पिता और पत्नी मीडिया से मुखातिब हुए तो बताया कि उसके घर मे खाने को अन्न का दाना नहीं है। इस घटना के बाद विपक्ष हमलावर हो गया। 

सरकार का दावा युवक मानसिक असंतुलन का शिकार

Donate to Janchowk
प्रिय पाठक, जनचौक चलता रहे और आपको इसी तरह से खबरें मिलती रहें। इसके लिए आप से आर्थिक मदद की दरकार है। नीचे दी गयी प्रक्रिया के जरिये 100, 200 और 500 से लेकर इच्छा मुताबिक कोई भी राशि देकर इस काम को आप कर सकते हैं-संपादक।

Donate Now

Scan PayTm and Google Pay: +919818660266

इस घटना के कुछ ही देर बाद छत्तीसगढ़ जनसम्पर्क विभाग ने एक नोट जारी कर युवक को मानसिक रूप से अस्वस्थ बता दिया। राज्य के जनसम्पर्क विभाग द्वारा जारी नोट में कहा गया कि परिवार वालों से प्राप्त जानकारी के अनुसार धमतरी जिले के ग्राम तेलिनसट्टी निवासी 27 वर्षीय हरदेव सिन्हा पिछले 2 साल से मानसिक रूप से अस्वस्थ है ।

युवक के पिता।

अनुविभागीय दण्डाधिकारी धमतरी ने इस युवक के संबंध में बताया कि हरदेव अपने घर में माता-पिता और तीन भाई के साथ रहता है। पत्नी मजदूरी का काम करती है और उसकी दो बेटियां हैं जिनकी उम्र 6 वर्ष और 3 वर्ष हैं। हरदेव का छोटा भाई भी मानसिक रूप से अस्वस्थ है जिसने विवाह नहीं किया है और घर पर ही रहता है। बड़े भाई धमतरी के गैरेज में काम करते हैं और पिता बुजुर्ग होने के कारण घर पर ही रहते हैं। हरदेव सिन्हा की गांव में दो एकड़ कृषि भूमि है और वह 9वीं तक पढ़ाई किया है। हरदेव सिन्हा का रोजगार गारंटी में जॉब कार्ड है और पिछले माह उसने 11 दिन का कार्य भी किया है। उसके परिवार के लोग 21 दिन काम किए हैं। हरदेव सिन्हा ने ग्राम पंचायत तेलिनसट्टी में यूट्यूब में पिक्चर बनाने की अनुमति का भी आवेदन दिया था।

परिजन।

युवक के पिता ने बताया कि बिना खाना खाए निकला था घर से, किसी को नहीं पता था कहां जा रहा है। युवक के पिता प्यारेलाल सिन्हा ने मीडिया से बात चीत में बताया कि हरदेव अलग रहता था खेती किसानी करता है। घटना के एक दिन पहले घर में चावल नहीं था बोला हमने लोगों से मांगा भी लेकिन कोई भी कितनी मदद करता। पड़ोसी के घर से चावल मांग के लाया था। रात में दूसरे दिन सुबह भी खाना नहीं खाया था। उसके बाद पता नहीं कहां निकल गया इसका जानकारी नहीं है। 

हरदेव की पत्नी ने बताया कि राशन न होने की वजह से वह परेशान थे। युवक का इलाज रायपुर के अस्पताल में चल रहा है।

सवाल यह उठता है कि जिस युवक के पास खाने को चावल नहीं था उसे मानसिक रूप से अस्वस्थ कैसे बता दिया गया? स्पष्ट है युवक तंगहाली की जिंदगी गुजर बसर कर रहा था।  

युवक की पत्नी।

जानकारी के मुताबिक धमतरी के तेलिनसट्‌टी का रहने वाला हरदेव सिन्हा बेरोजगार है। चर्चा है कि रोजगार की मांग को लेकर वह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मिलना चाहता था। सुरक्षाकर्मियों ने किसी कारण से उसे अंदर नहीं जाने दिया। युवक पहले से ही अपने साथ ज्वलनशील ईंधन लेकर गया था। गुस्से में आकर उसने खुद को आग लगा ली। फिलहाल, हरदेव झुलस गया है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

बहरहाल सिविल लाइन इलाके में आत्महत्या का प्रयास करने वाले युवक का उपचार जारी है अभी स्थिति खतरे से बाहर बतायी जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि भावावेश में ऐसा नकारात्मक कदम उठाने से युवाओं को बचना चाहिए। राज्य सरकार ने कोरोना संकट के इस काल में भी पूरे राज्य में रोजगार देने की व्यवस्था की है। मुख्यमंत्री ने घायल हरदेव सिन्हा के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है ।

विपक्ष बोला- इस घटना ने सरकार की पोल खोली

इस मामले में छत्तीसगढ़ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु देव साय ने कहा कि जब सत्ताधारी कांग्रेस अपने अध्यक्ष के कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने का जश्न मना रही थी, उसी समय सीएम हाउस के ही बाहर ऐसी घटना होना कांग्रेस और उसकी सरकार की पोल खोलता है। पूर्व आईएएस और भाजपा नेता ओपी चौधरी ने युवाओं को रोजगार देने की बात पर जोर देते हुए कहा कि जो भी घटना हुई है, हम सब छत्तीसगढ़ियों के लिये दुर्भाग्य जनक है, पहले भी घटनायें हुई हैं। मगर आज आप सत्ता में हैं, सरकार चला रहे हैं। एक विपक्ष के रूप में इतना ही कह रहा हूं कि फिलहाल आज ही आप कम से कम अटकी हुई भर्तियों को शुरू कराएं ताकि छत्तीसगढ़ की मांओं के सभी बेरोजगार बेटों का भला हो।

( रायपुर से जनचौक संवाददाता तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट।)

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर Janchowk Android App

Leave a Reply