Friday, March 1, 2024

BHU में काशी तमिल संगमम की तैयारी में शिक्षा मंत्रालय, संकायों ने कहा-‘राजनीतिक परियोजना’

नई दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय काशी तमिल संगमम के दूसरे संस्करण का संचालन करने के लिए तैयार है, जिसके तहत दिसंबर में तमिलनाडु के लगभग 1,400 लोगों को वाराणसी, इलाहाबाद और अयोध्या की मुफ्त यात्रा प्रदान की जाएगी।

ये कार्यक्रम एक पखवाड़े तक चलेगा। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) कार्यक्रम के दौरान प्रतिनिधियों की मेजबानी करेगा। बीएचयू के कुछ संकाय इससे खुश नहीं हैं। उन्होंने इस कार्यक्रम को एक “राजनीतिक परियोजना” करार दिया है जिसे एक शैक्षणिक संस्थान पर थोपा जा रहा है। उन्होंने तर्क दिया है कि इस तरह के दौरे आयोजित करना शिक्षा मंत्रालय या उसके संस्थानों की जिम्मेदारियों का हिस्सा नहीं है।

मंत्रालय के अनुसार, कार्यक्रम में लोगों से लोगों के बीच संपर्क की सुविधा प्रदान करके, प्राचीन भारत में शिक्षा और संस्कृति के प्रमुख केंद्रों, वाराणसी और तमिलनाडु के बीच जीवंत संबंधों को पुनर्जीवित करने का प्रस्ताव है।

17 से 30 दिसंबर तक चलने वाले कार्यक्रम का हिस्सा बनने के इच्छुक लोगों को पंजीकृत करने के लिए आईआईटी मद्रास ने एक पोर्टल लॉन्च किया है।

प्रतिनिधि सात समूहों में रहेंगे और ट्रेन से वाराणसी, इलाहाबाद और अयोध्या की यात्रा करेंगे। शिक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि प्रतिनिधि ऐतिहासिक, पर्यटन और धार्मिक रुचि वाले जगहों पर जाएंगे और उत्तर प्रदेश के लोगों के साथ बातचीत करेंगे।

संगमम का पहला संस्करण पिछले साल नवंबर-दिसंबर में आयोजित किया गया था जब तमिलनाडु से 2,500 से अधिक लोगों ने वाराणसी, इलाहाबाद और अयोध्या की यात्रा की थी।

बीएचयू के दो संकाय सदस्यों ने कहा कि सरकार ने प्रतिनिधियों की मेजबानी के लिए विश्वविद्यालय पर दबाव डाला था। उनमें से एक ने कहा “बीएचयू एक प्रतिष्ठित संस्थान है। इसमें अत्याधुनिक शोध करने और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने की उम्मीद है। भ्रमण कार्यक्रम आयोजित करना और ऐसे प्रतिनिधिमंडलों का स्वागत करना निश्चित रूप से विश्वविद्यालय की ज़िम्मेदारी नहीं है।”

पिछले साल, विश्वविद्यालय ने प्रतिनिधियों की मेजबानी के लिए अपने खेल परिसर के पास एम्फीथिएटर की अनुमति दी थी। संकाय के सदस्य ने कहा “यह सुविधा का दुरुपयोग है। विश्वविद्यालय प्रशासन ऐसा कर रहा है क्योंकि शिक्षा मंत्रालय ऐसा चाहता है।”

एक और बीएचयू संकाय सदस्य ने कार्यक्रम को भाजपा का राजनीतिक प्रोजेक्ट बताया। उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी इस तरह की गतिविधियों के जरिए तमिलनाडु में अपनी पैठ बनाना चाहती है।

उन्होंने कहा “कुलपतियों को सरकार के किसी भी आदेश पर आपत्ति नहीं है। और परिसरों में इस तरह की राजनीतिक गतिविधियां बढ़ रही हैं। विश्वविद्यालय के गेस्टहाउस में पूरे साल आरएसएस के प्रतिनिधियों का कब्जा रहता है जो चर्चा या किसी दूसरे कार्यक्रम के लिए आते रहते हैं।”

बीएचयू के कुलपति सुधीर जैन और उच्च शिक्षा को ईमेल भेजा गया है। सचिव संजय मूर्ति ने इस आरोप पर उनकी टिप्पणियां मांगी कि संगमम में एक शैक्षणिक संस्थान के संसाधनों का दुरुपयोग शामिल है।

(‘द टेलिग्राफ’ में प्रकाशित खबर पर आधारित।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles