Monday, October 2, 2023

23 जून को पटना में होगी विपक्षी दलों की बैठक, खड़गे-राहुल भी होंगे शामिल

नई दिल्ली। आम चुनाव के पहले विपक्षी दलों की एकता परवान चढ़ेगी कि नहीं, इस पर पूरे देश की निगाहें है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विपक्षी दलों को एक मंच पर लाने की कोशिश कर रहे हैं। 12 जून को बैठक तय भी थी। लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी के बैठक में शामिल न होने की खबर से बैठक स्थगित कर दी गई थी। अब 23 जून को पटना में होने वाली बैठक में शामिल होने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष खड़गे और राहुल गांधी ने सहमति दी है। ऐसे में लोकसभा चुनाव के पहले विपक्षी दलों की बैठक का रास्ता साफ हो गया है।

विपक्षी दलों की बैठक या महागठबंधन की बैठक और इसके आकार को लेकर लंबे समय से चर्चा हो रही है। कौन-कौन से दल इसमें शामिल होंगे, यह सवाल बना हुआ है। इन सारे सवालों का जवाब देते हुए जनता दल (यूनाइटेड) ने बुधवार को कहा कि पटना में संयुक्त विपक्ष की बैठक 23 जून को होगी, जिसमें कांग्रेस (AICC) अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी, राकांपा प्रमुख शरद पवार, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने अपनी भागीदारी की पुष्टि की।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने मीडिया को बताया कि “2024 के लोकसभा चुनावों के लिए विपक्षी दलों का यह पहला संयुक्त सम्मेलन पहले 12 जून को पटना में होने वाला था, कई प्रमुख विपक्षी नेताओं की अनुपलब्धता के कारण हमें 12 जून की बैठक टालनी पड़ी।”

उन्होंने कहा कि हमने अब बैठक में शामिल होने वाले सभी दलों से पुष्टि करने को कहा है। सिंह ने कहा कि मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी, ममता बनर्जी, एमके स्टालिन, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन, शिवसेना (यूबीटी) प्रमुख और महाराष्ट्र के पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, आप सुप्रीमो और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, सीपीआई नेता डी राजा, सीपीएम नेता सीताराम येचुरी और भाकपा-माले नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने कार्यक्रम में शामिल होने की पुष्टि की है।

जद (यू) अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह नीतीश कुमार की ओर से बैठक आयोजित करने के लिए जिम्मेदार हैं, ने कहा कि विपक्ष की बैठक देश में “अघोषित आपातकाल” के समय “बहुत महत्व” रखती है। “केंद्र सरकार की आलोचना करने वालों को निशाना बनाया जा रहा है … हम लोकतंत्र को बहाल करने के लिए भाजपा मुक्त भारत चाहते हैं।”

राजद नेता और डिप्टी सीएम तेजस्वी प्रसाद यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “बिहार के सीएम नीतीश कुमार और राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद का यह संयुक्त प्रयास रहा है कि सभी समान विचारधारा वाले दलों को एक मंच पर लाया जाए। इस एकता की बहुत आवश्यकता है क्योंकि लोकतंत्र पर हमला हो रहा है। निरंकुश शासन चल रहा है। यह एक महत्वपूर्ण बैठक होने जा रही है जिसका सकारात्मक परिणाम होगा।”

यह पूछे जाने पर कि क्या 2024 के चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस के साथ कोई मतभेद थे, सिंह ने कहा कि “इस समय ऐसी कोई बातचीत नहीं हुई है। हमारा विचार पहले बड़े पैमाने पर एक साथ आने का है।”

जद (यू) के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि “हम जोखिम नहीं उठा सकते थे क्योंकि यह पहली बैठक होने जा रही है। हम विपक्षी एकता का भव्य प्रदर्शन करने के लिए बैठक में सभी दलों की भागीदारी चाहते हैं। यह अगले स्तर की वार्ता के लिए टोन सेट करेगा।”

12 जून को होने वाली बैठक में मुख्य रूप से कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी ने उपस्थित होने में असमर्थता व्यक्त की थी। कांग्रेस ने बैठक में किसी दूसरे नेता को पार्टी प्रतिनिधि के रूप में भेजने का संदेश दिया था। जिसके बाद जेडीयू ने बैठक को स्थगित कर दिया था। और नीतीश कुमार ने पहली बैठक में विपक्षी दलों के प्रमुखों के शामिल होने की शर्त लगा दी थी।

(जनचौक की रिपोर्ट।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of

guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles